अच्छी सेहत के लिए मैग्नीशियम काे न करें इग्नोर, एक्सपर्ट बता रहे हैं कब होती है सप्लीमेंट्स की जरूरत

जैसे शरीर के लिए कॉपर, आयरन, जिंक, जरूर होता है वैसे ही शरीर के लिए मैग्नीशियम भी जरूर होता है। मैग्निशियम का शरीर में क्या काम है और इसके क्या स्रोत है आइए जानते है सब कुछ
mg ke suppliment ki jarurat kyun hoti hai
मैग्नीशियम स्वाभाविक रूप से विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों में मौजूद होता है, इसे सप्लीमेंट के रूप में भी लिया जाता है। चित्र- अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Updated: 18 Oct 2023, 15:28 pm IST
  • 134

मैग्नीशियम एक खनिज है जो शरीर के सभी कार्य के लिए आवश्यक है। यह विभिन्न जैव रासायनिक प्रतिक्रियाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और कई शारीरिक प्रक्रियाओं में शामिल होता है। मैग्नीशियम स्वाभाविक रूप से विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों में मौजूद होता है, इसे सप्लीमेंट के रूप में भी लिया जाता है।

यह खनिज शरीर में विभिन्न रासायनिक प्रतिक्रियाओं जैसे प्रोटीन और मजबूत हड्डियों के निर्माण, और रक्त शर्करा, रक्तचाप, और मांसपेशियों और तंत्रिका कार्यों को नियंत्रित करने के लिए 300 से अधिक एंजाइमों की सहायता करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। मैग्नीशियम एक विद्युत कंडक्टर का भी काम करता है जो मांसपेशियों को सिकोड़ता है और हृदय को स्थिर बनाता है।

क्यों हो जाती है मैग्नीशियम की कमी

मैग्नीशियम की कमी, जिसे हाइपोमैग्नेसीमिया के रूप में जाना जाता है, अपर्याप्त आहार का सेवन, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल विकार (जैसे मैलाबॉस्पशन), अत्यधिक शराब का सेवन, कुछ दवाएं, या मधुमेह जैसी चिकित्सीय स्थितियों के कारण हो सकती है। मैग्नीशियम की कमी के लक्षणों में मांसपेशियों में ऐंठन, कमजोरी, थकान, भूख न लगना, मतली, उल्टी, अनियमित दिल की धड़कन और मूड में बदलाव शामिल हो सकते हैं।

mg ki sharir ko kya jarurat hai
मैग्नीशियम एक विद्युत कंडक्टर का भी काम करता है जो मांसपेशियों को सिकोड़ता है और हृदय को स्थिर बनाता है।

मैग्नीशियम के बारे में क्या कहते हैं एक्सपर्ट

इसे बारे में न्यूट्रिशनिस्ट और डाइटिशियन भावेश ने अपने इंस्टाग्राम पर जानकारी दी। भावेश बतताते है कि “स्वस्थ हड्डियों और दांतों के निर्माण और रखरखाव के लिए मैग्नीशियम आवश्यक है। यह मांसपेशियों के कार्य, तंत्रिका संचरण, ऊर्जा उत्पादन, प्रोटीन बनाने और डीएनए बनाने के लिए भी आवश्यक है। इसके अलावा, मैग्नीशियम रक्तचाप, रक्त शर्करा के स्तर और हृदय के स्वास्थ में योगदान देता है।”

संतुलित आहार से मैग्नीशियम प्राप्त किया जा सकता है। मैग्नीशियम के अच्छे खाद्य स्रोतों में हरी पत्तेदार सब्जियां (जैसे पालक और केल), फलियां, मेवे (जैसे बादाम और काजू), बीज (जैसे कद्दू और अलसी), साबुत अनाज (जैसे ब्राउन राइस और क्विनोआ), डेयरी उत्पाद और डार्क चॉकलेट शामिल हैं।

डाइटीशियन भावेश बताते हैं कि डाइटरी चीजों से आपको पूरी तरह से मैग्निशियम नहीं मिल पाता है जिसके लिए आप सप्लीमेंट का इस्तेमाल कर सकते है। ये सप्लीमेंट कई विभिन्न रूपों में आते हैं, जैसे मैग्नीशियम ऑक्साइड, मैग्नीशियम साइट्रेट या मैग्नीशियम ग्लाइसीनेट। डाइटिशियन भावेश बताते है कि मैग्निशियम के सबसे अच्छे स्रोतों में मैग्नीशियम ग्लाइसीनेट को माना जाता है।

magnesium apki menytal health ke liye ek zaruri nutrient hai
मैग्नीशियम आपकी मेंटल हेल्थ के लिए एक जरूरी पोषक तत्व है। चित्र: शटरस्टॉक

अब जानते है मैग्निशियम के स्रोत

हरी पत्तेदार सब्जियां– पालक, केल, स्विस चार्ड और कोलार्ड ग्रीन्स मैग्नीशियम के उत्कृष्ट स्रोत हैं।

मेवे और बीज– बादाम, काजू, ब्राजील नट्स, पाइन नट्स, फ्लैक्ससीड्स और कद्दू के बीज मैग्नीशियम से भरपूर होते हैं।

फलियां– बीन्स, दाल, छोले और सोयाबीन अच्छी मात्रा में मैग्नीशियम प्रदान करते हैं।

साबुत अनाज– साबुत अनाज जैसे ब्राउन राइस, क्विनोआ, ओट्स और पूरे गेहूं में मैग्नीशियम होता है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

एवोकाडो- यह मलाईदार फल मैग्नीशियम के साथ-साथ अन्य लाभकारी पोषक तत्वों का एक स्रोत है।

डार्क चॉकलेट– उच्च कोको सामग्री वाली डार्क चॉकलेट न केवल स्वादिष्ट होती है बल्कि इसमें मैग्नीशियम भी होता है।

मछली– फैटी मछली जैसे सैल्मन, मैकेरल और हलिबूट ओमेगा -3 फैटी एसिड के साथ मैग्नीशियम प्रदान करते हैं।

दही– कुछ डेयरी उत्पाद, जैसे दही में मैग्नीशियम होता है। ग्रीक योगर्ट एक अच्छा विकल्प है क्योंकि यह आमतौर पर प्रोटीन से भरपूर होता है।

केले– इस लोकप्रिय फल में मैग्नीशियम, साथ ही अन्य महत्वपूर्ण खनिज और विटामिन होते हैं।

टोफू– सोयाबीन से बना, टोफू शाकाहारी और शाकाहारी लोगों के लिए मैग्नीशियम का एक बहुमुखी स्रोत है।

ये भी पढ़े- Skin Oiling : गर्मी में स्किन को नमी युक्त और चमकदार बनाना चाहती हैं, तो इन 3 तेलों से करें अभ्यंगम

  • 134
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख