वैलनेस
स्टोर

लॉकडाउन और कोविड-19 की तीसरी लहर के साथ ही बच्चों में बढ़ रहा है रिकेट्स को जोखिम

Published on:7 August 2021, 14:23pm IST
पहले ब्लैक फंगस और अब सूखा रोग यानी रिकेट्स! ये वे बीमारियां हैं जो कोविड - 19 से पहले गिने-चुने लोगों को हुआ करती थीं। मगर, तीसरी लहर के साथ लोगों में इनका जोखिम तेज़ी से बढ़ रहा है।
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ
  • 104 Likes
bacchon me rickets
जानिए क्यों बच्चों में बढ़ रही है रिकेट्स की बीमारी. चित्र : शटरस्टॉक

दिल्ली के कुछ अस्पतालों में पिछले साल से रिकेट्स के मामलों में वृद्धि दर्ज की जा रही है। इंडियन स्पाइनल इंजरी सेंटर (ISIC) के अनुसार पिछले साल रिकेट्स के मामलें में लगभग 300 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। अधिकांश रोगी 2-12 वर्ष की आयु के हैं। कोविड – 19 महामारी के बीच, एक नई बीमारी के ये आंकड़े हैरान कर देने वाले हैं! इसलिए ज़रूरी है कि हम इसके पीछे के कारण को समझें और सही कदम उठाएं।

क्या है सूखा रोग (Rickets)

रिकेट्स बच्चों में विटामिन डी, कैल्शियम या फॉस्फोरस की कमी के कारण होने वाला एक विकार है, जिसके परिणामस्वरूप हड्डियों में दर्द, कमजोरी और विभिन्न विकृतियां होती हैं। विटामिन डी या कैल्शियम की कमी रिकेट्स का सबसे आम कारण है। विटामिन डी की कमी से कैल्शियम और फास्फोरस का अवशोषण कम हो जाता है। साथ ही, हड्डियों में कैल्शियम और फास्फोरस के उचित स्तर को बनाए रखने में कठिनाई से रिकेट्स हो सकता है।

क्या है रिकेट्स का कारण

कोई भी बच्चा जिसे अपने आहार से या सूरज की रोशनी से पर्याप्त विटामिन डी या कैल्शियम नहीं मिलता है, उसे रिकेट्स हो सकता है। लेकिन सांवली त्वचा वाले बच्चों में यह स्थिति अधिक आम है, क्योंकि इसका मतलब है कि उन्हें पर्याप्त विटामिन डी प्राप्त करने के लिए अधिक धूप की आवश्यकता होती है। ये बीमारी जेनेटिक भी हो सकती है, मगर इसकी संभावना बेहद कम है।

bacchon me rickets
लॉकडाउन में घर में बंद रहना भी रिकेट्स का एक कारण है । चित्र: शटरस्‍टॉक

सूखा रोग आमतौर पर दुर्लभ है और कुपोषण के कारण होता है। इसलिए, कोविड-19 से पहले, अस्पताल में आने वाले रोगी ज़्यादातर गरीब सामाजिक-आर्थिक पृष्ठभूमि से हुआ करते थे। मगर, पिछले एक साल से, संपन्न परिवारों के सुपोषित बच्चे भी रिकेट्स का शिकार हो रहे हैं, जो कि बेहद चिंताजनक बात है।

कोविड के साथ आखिर क्यों बढ़ रहा है इसका खतरा

डॉक्टरों का कहना है कि इन बच्चों में विटामिन डी की कमी लंबे समय तक घर में रहने के कारण हुई है। साथ ही, कुपोषण, सूर्य के संपर्क और कैल्शियम की कमी भी इसका कारण हो सकती है। लॉकडाउन के दौरान गतिहीन जीवनशैली भी इसका एक अहम कारण है।

तो आप अपने नन्हें मुन्हों को रिकेट्स के जोखिम से कैसे बचा सकती हैं?

1. बच्चों को संतुलित और पौष्टिक आहार खिलाएं, खासकर विटामिन D युक्त या जिसमें कैल्शियम हो जैसे – मछली, अंडे, दूध-दही, रागी, अनाज आदि
2. उन्हें बाहर खेलने के लिए भेजें, यह उनके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों के लिए फायदेमंद है
3. अगर आपका बच्चा छोटा है तो, उसके शरीर की मालिश करें और धूप का सेवन कराएं

अंत में, बच्चों के पैरों या रीढ़ की हड्डी में दर्द, कमजोरी जैसे लक्षण दिखने पर तुरंत चिकित्सीय सलाह लें!

यह भी पढ़ें : मानसून में आपके पेट को है एक्स्ट्रा केयर की जरूरत, एक्सपर्ट बता रहे हैं क्यों

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।