ये डकार भी कुछ कहती है, एक्सपर्ट बता रहे हैं इसके बारे में कुछ जरूरी तथ्य 

Published on: 2 June 2022, 20:00 pm IST

खाने या ठंडा पेय पीने के बाद 2-3 बार डकार लेना तो सामान्य बात है। यदि आप रोज लगातार कई बार डकार लेती हैं, तो ये किसी स्वास्थ्य समस्या का संकेत भी हो सकता है।

burp ya dakar ke karan
ज्यादा डकार आने से हेल्थ प्रॉब्लम होने के संकेत मिलते हैं। चित्र: शटरस्टॉक

जब हम डकार (Burp) लेते हैं, तो उसके बाद हमें अच्छा महसूस होता है। आम बोलचाल की भाषा में डकार के बाद हम हल्का महसूस करते हैं। अमूमन खाना खाने के बाद या सोडा ड्रिंक्स पीने के बाद हमें डकार आती है। 

क्यों आती है कोल्ड ड्रिंक पीने के बाद डकार 

सभी कार्बोनेटेड पेय कार्बन डाइऑक्साइड गैस से बनते हैं। ये हमारे पेट में अतिरिक्त हवा जोड़ते हैं। यह गैस पेट तक नहीं पहुंचती है। इसकी बजाय यह इसोफैगस में तब तक फंसी रहती है, जब तक कि यह वापस ऊपर न आ जाए। यह हवा मुंह के माध्यम से उसी तरह से वापस ऊपर आ जाती है, जिस तरह पेट में प्रवेश करती है। 

गर्म पेय पीने से भी हवा अंदर जाती है और डकार के रूप में बाहर आ सकती है। दो-तीन बार डकार आना सामान्य बात है, लेकिन आपको यदि बार-बार डकार आ रही है, तो इसका मतलब है कि आपको कोई स्वास्थ्य समस्या हो सकती है। डकार कौन-कौन सी स्वास्थ्य समस्याओं का संकेत दे सकती है, यह जानने के लिए हमने बात की फिजिशियन डॉ. अमित सिन्हा से।

क्यों आती है डकार?

जब भोजन निगला जाता है, तो यह एसोफैगस ट्यूब से होकर पेट में जाता है। वहां शरीर से निकलने वाले एसिड, बैक्टीरिया और एंजाइम मिलकर भोजन को न्यूट्रीशियस एलिमेंट में तोड़ते हैं। ताकि शरीर को एनर्जी मिल सके। भोजन के साथ यदि हवा भी अंदर चली जाती है या सोडा या बीयर जैसी चीज, जिसमें बुलबुले होते हैं, तो वे गैसें इसोफेगस के माध्यम से डकार के रूप में वापस आ सकती हैं।

खाने के तरीके पर भी निर्भर है डकार

यदि एक बार में आप बहुत सारा खाना खा लेती हैं या आपको बहुत तेजी से खाना खाने की आदत है, तो भोजन के साथ अतिरिक्त हवा भी आप अपने पेट के अंदर ले लेती हैं, जो डकार के रूप में बाहर आती रहती है। इसलिए यह जरूरी है कि हमेशा धीमी गति के साथ भोजन करें। भोजन को अच्छी तरह चबाकर खाएं। कौर भी छोटे रखें। 

मोटापा भी हो सकता है डकार का कारण 

यदि आप ओबेसिटी की शिकार हैं, तो यह अतिरिक्त वजन भी आपके पेट पर अधिक दबाव डालता है। इससे भी बर्प या डकार आती है। यदि बार-बार डकार आ रही है, तो आपको सचेत हो जाना चाहिए। यह किसी गंभीर समस्या का संकेत भी हो सकता है। 

यहां हैं वे 5 हेल्थ प्रॉब्लम्स जिनके बारे में डकार से संकेत मिलता है

1 अल्सर

फिजिशियन डॉ. अमित के अनुसार, कभी-कभी डकार आना पेट में अल्सर होने का भी संकेत दे सकता है। सामान्य रूप से यह घाव स्टमक की लाइनिंग में पाए जाते हैं। यह पेट में इन्फेक्शन की वजह से होता है। इसमें इबुप्रोफेन जैसे बहुत सारे NSAIDs (नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स) लिए जा सकते हैं। 

यदि आपको अल्सर है, तो आपके मुंह से कई बार डकार आ सकती है। फैटी फूड खाने के बाद आप ब्लोटेड या बहुत भरा हुआ पेट जैसा महसूस कर सकती हैं। खाना खाने के बाद आपके पेट में दर्द भी हो सकता है। यदि सही तरीके से इलाज कराया जाए, तो अल्सर 2-3 महीने में ठीक हो सकता है। 

2 नहीं पचा पा रहे लैक्टोज

बहुत से लोगों में एक ऐसे प्रोटीन की कमी होती है, जो दूध स्थित लैक्टोज (नेचुरल शुगर) को तोड़ने के लिए जिम्मेदार होता है। यदि आप उनमें से एक हैं, तो आपका पेट डेयरी युक्त खाद्य पदार्थों को पूरी तरह से पचा नहीं सकता है। इसकी बजाय, लैक्टोज आपके पेट में फरमेंट करने लगता है। इसके कारण अतिरिक्त गैस बनने लगती है, जिससे आप ब्लोटेड स्टमक या दर्द भी महसूस कर सकती हैं। डेयरी प्रोडक्ट से दूर रहने या लैक्टोज फ्री वर्जन का चुनाव करने से ही आपको राहत मिलेगी। आप ओवर काउंटर प्रोडक्ट भी ले सकती हैं, जो आपके शरीर को लैक्टोज को पचाने में मदद करता है।

non dairy calcium rich food khaye
जिन्हें प्रोटीन डाइट से दिक्कत होती है, उन्हें बिना लैक्टोज डाइट लेने से डकार कम आएगी। चित्र: शटरस्टॉक

3 एसिड रिफ्लक्स

कभी-कभी पेट का एसिड आपके गले में वापस आ जाता है। यदि आप प्रेगनेंट हैं या ओबेसिटी से परेशान हैं, तो आपका पेट भोजन को उतनी तेजी से नहीं पचा पाता है, जितना कि उसे पचाना चाहिए, ऐसी स्थिति में भी डकार खूब आते हैं। जब आप अपने गले में इस तरह के लंप को महसूस करती हैं, तो इससे छुटकारा पाने की कोशिश करने के लिए आप और अधिक भोजन-पानी गटकने लगती हैं। इससे आपको लगातार डकार आने लगती है। एंटासिड दवा से कुछ देर के लिए आपको राहत मिल सकती है। लेकिन डॉक्टर से परामर्श लेना अधिक उचित होगा। कुछ गंभीर मामलों में तो सर्जरी भी करानी पड़ती है।

4 नैजल ड्रिप

नाक और गले के ग्लैंड्स हर दिन बलगम यानी म्यूकस बनाते हैं। यह सांस लेने वाली हवा को साफ करने में मदद करती है। लेकिन गले के पिछले हिस्से में यदि बहुत अधिक बलगम जमा हो जाए, तो इससे छुटकारा पाने के लिए कई बार इसे हम निगलने लगते हैं। इससे भी डकार आ सकती है। अधिक पानी पीने से इस समस्या से राहत मिल सकती है।

5 तनाव

तनाव भी बर्प का कारण बन सकता है। जो लोग अधिक चिंतित या उदास होते हैं या घबराए हुए रहते हैं, तो वे बड़ी मात्रा में हवा निगल लेते हैं। इससे डकार पैदा होने लगती है। यदि आप घबराहट महसूस कर रही हैं, तो डॉक्टर या काउंसलर से मदद लें। तनाव को मैनेज करने के साथ ही डकार आनी भी बंद हो जाती है।

 

यहां पढ़ें:- यदि गैस के कारण हो रहा है सिरदर्द? तो आजमाएं ये 5 घरेलू नुस्खे

 

स्मिता सिंह स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें