फॉलो
वैलनेस
स्टोर

सर्दियों में खुद को ठंड लगने से बचाना है, तो सबसे पहले तोड़ें सर्दियों के बारे में ये 5 भ्रामक अवधारणाएं

Published on:28 December 2020, 15:00pm IST
सर्दियों में हम ज्यादा से ज्यादा कपड़े पहनने की कोशिश करते हैं ताकि हम ठंड से बच सकें। लेकिन जाने अनजाने हम कुछ भ्रामक अवधारणाओं को सच मान बैठते हैं। समय है ऐसे मिथ्‍स को तोड़ने का।
विदुषी शुक्‍ला
  • 76 Likes
सर्दियों में ज्यादा से ज्यादा कपड़े पहनने की कोशिश करते हैं। चित्र- शटरस्टॉक

जाड़े के मौसम में आपके स्टाइल और कपड़ो में परिवर्तन आवश्यक होता है। अगर आप बिना खुद को पूरी तरह बचाए बाहर गयीं, तो आपको ठंड लग सकती है और आप बीमार पड़ सकती हैं।
लेकिन कई बार आप कोट, स्वेटर, मोजे, मफलर इत्यादि सब पहनने के बाद भी बीमार पड़ जाती हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि आपके मन में कुछ अवधारणाएं घर कर चुकी हैं। इन भ्रामक अवधारणाओं को अब तोड़ने का वक्‍त है।

मिथ 1. सर्दियों हमेशा सिर को ढक कर रखना चाहिए क्योंकि गर्मी यहीं से बाहर निकलती है

इस तरह की बातें बड़े आपको टोपी पहनने के लिए राजी करने के लिए करते हैं। लेकिन वैज्ञानिक आधार पर बात करें, तो आपके सिर में ऐसा कुछ भी खास नहीं है। आपके सिर से भी उसी प्रकार गर्मी निकलती है जिस तरह बाकी शरीर से। हालांकि टोपी पहनना एक अच्छी आदत है। पर इसके साथ ही शरीर के बाकी अंग भी ठीक से ढके होने चाहिए।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

2. ज्यादा कपड़े पहनने से जुकाम नहीं होता

ठंड लगना और फ्लू या जुकाम होना अलग-अलग बातें हैं। जुकाम वायरस के कारण होता है और वायरस का संक्रमण आपकी इम्युनिटी पर निर्भर करता है। सर्दियों में 200 से अधिक प्रकार के वायरस वातावरण में मौजूद होते हैं। अगर आपकी इम्युनिटी कमजोर है, तो अधिक कपड़े पहनने के बाद भी आप संक्रमित हो सकती हैं। इसलिए सर्दियों में इम्यून सिस्टम मजबूत करना महत्वपूर्ण होता है।

आपको संक्रमण से सिर्फ अच्छी इम्युनिटी ही बचा सकती है। चित्र- शटरस्टॉक।

3. एक मोटा स्वेटर ठंड से बचने के लिए पर्याप्त है

स्वेटर मोटा हो या नहीं मायने नहीं रखता, आपको गर्म रखने का काम आपकी शरीर की गर्मी का होता है। दो पतले स्वेटर एक मोटे स्वेटर से बेहतर हैं।
कायदे से आपको एक कपड़ा पॉलीप्रोपेनोल या किसी अन्य सिंथेटिक फैब्रिक का पहनना चाहिए, फिर एक ऊनी कपड़े की लेयर और फिर एक सिंथेटिक कपड़ा। सिंथेटिक कपड़ो के छिद्र छोटे होते हैं जिससे गर्मी बाहर नहीं निकल पाती है।

4. महिलाओं और पुरुषों को बराबर कपड़े पहनने चाहिए

ऐसा नहीं है क्योंकि दोनों को समान तापमान पर ठंड नहीं लगती। महिलाओं के हाथ पैर जल्दी ठंडे होने लगते हैं। महिलाएं पुरुषों के मुकाबले जल्दी ठंडा महसूस करने लगती हैं।
साइंस डायरेक्ट जर्नल के अनुसार महिलाओं को 70 डिग्री फारेनहाइट पर ठंड लगने लगती है जबकि पुरुषों के लिए ये तापमान 67 या 66 डिग्री होता है। इसलिए महिलाओं को ज्यादा गर्म कपड़े पहनने चाहिए।

सेहत के लिहाज से संवेदनशील हैं कड़ाके की सर्दी के ये 40 दिन। चित्र-शटरस्टॉक

5. शराब पीने से आपके शरीर में गर्मी आएगी

शराब पीने के बाद अगर आपको अचानक गर्मी लगने लगती है, तो वह इसलिए क्योंकि खून तेजी से आपकी स्किन की ओर जा रहा होता है। लेकिन असल में शराब पीने से आपकी ब्लड वेसल्स चौड़ी हो जाती है और आपका शरीर जल्दी ठंडा होता है। शराब पीने के बाद आपकी सोचने समझने की क्षमता भी प्रभावित होती है। जिसके कारण आपको ठंड महसूस नहीं होती जबकि आपको ठंड लग रही होती है।

अगर आप इनमें से कोई गलती कर रही थीं, तो आज ही आदत बदल लें। आपके स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है कि आप सही कपड़े पहनें और खुद को ठंड से बचाएं।

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

विदुषी शुक्‍ला विदुषी शुक्‍ला

पहला प्‍यार प्रकृति और दूसरा मिठास। संबंधों में मिठास हो तो वे और सुंदर होते हैं। डायबिटीज और तनाव दोनों पास नहीं आते।