और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

ये संकेत बताते हैं कि आपके शरीर में हो रही है विटामिन के की कमी, जानिए इससे बचने के उपाय!

Published on:21 October 2021, 20:00pm IST
आपके संतुलित आहार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है विटामिन के (vitamin K)। इसकी कमी से आपके शरीर में कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। पता करने के लिए जानिए इसके लक्षण और बचने के उपाय।
अदिति तिवारी
  • 96 Likes
Vitamin K hai santulit aahar ke liye zaroori
विटामिन के हैं आपके संतुलित आहार के लिए जरूरी। चित्र:शटरस्टॉक

एक संतुलित आहार में कई प्रकार के विटामिन (vitamins) होते हैं और वे सभी एक स्वस्थ शरीर के लिए आवश्यक हैं। विटामिन के (vitamin K) भी उनमें से एक हैं। सही मात्रा में विटामिन के (vitamin K) युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करने से आपकी हड्डियां और हृदय स्वस्थ रहते हैं। इतना ही नहीं चोट लगने पर यह रक्तस्राव को रोकने में भी मदद करता हैं। 

क्या आपने सोचा है कि आपके शरीर में विटामिन के (vitamin K) की कमी होने से कौन-से जोखिम हो सकते हैं? यह आपके सेहत को कैसे नुकसान पहुंचा सकता हैं। सबसे पहले जानिए कि क्या हैं विटामिन के डेफिशिएंसी  (vitamin K deficiency) के लक्षण और कौन-से प्राकृतिक तरीके आपको इस मुश्किल से बचा सकते हैं। 

क्या होता हैं विटामिन के (vitamin K)?

विटामिन के (vitamin K) के दो मुख्य प्रकार होते हैं। विटामिन K1 जिसे फाइलोक्विनोन (phylloquinone) कहा जाता है। यह पौधों से आता है, विशेष रूप से पत्तेदार हरी सब्जियां जैसे पालक और केल। विटामिन K2 जो मेनाक्विनोन (menaquinone) होता हैं, स्वाभाविक रूप से आंतों के मार्ग में बनता है और विटामिन K1 के समान काम करता है।

Vitamin K rich diet le
विटामिन K रिच डाइट लें। चित्र : शटरस्टॉक

यह विटामिन (vitamin K) विशेष रूप से ब्लड क्लॉटिंग (blood clotting) में मदद करता हैं। क्लॉटिंग एक ऐसी प्रक्रिया है जो शरीर के अंदर और बाहर अत्यधिक रक्तस्राव को रोकने में मदद करती है। क्लॉटिंग प्रक्रिया के दौरान काम करने वाले प्रोटीन का उत्पादन करने के लिए आपके शरीर को विटामिन के (vitamin K) की आवश्यकता होती है। 

वैज्ञानिक मानते हैं कि विटामिन के (vitamin K) हड्डियों को बढ़ने और स्वस्थ रखने में मदद करता है। कुछ दवाएं विटामिन के (vitamin K) अवशोषण और निर्माण में रुकावट पैदा कर सकती हैं, जिससे विटामिन के डेफिशिएंसी का जोखिम बढ़ जाता है। शिशुओं में विटामिन के (vitamin K) की कमी बहुत आम है। उनमें विटामिन के की कमी के कारण होने वाले रक्तस्राव को वीकेडीबी (VKDB) यानि विटामिन के डेफ़िशिएंसी ब्लीडिंग कहा जाता है।

जानिए शरीर में विटामिन के (vitamin K) की कमी के लक्षण 

विटामिन के (vitamin K) की कमी का मुख्य लक्षण अत्यधिक रक्तस्त्राव है। ध्यान रखें कि रक्तस्राव कट या घाव वाली जगह के अलावा अन्य क्षेत्रों में भी हो सकता है। इसके कुछ अन्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • थोड़ी चोट लगने पर ज्यादा खून बहना। 
  • मल त्याग में कष्ट और साथ में खून निकलना। 
  • जोड़ों में दर्द। 
  • मांसपेशियों में अचानक ऐंठन।
  • घाव भरने में अधिक समय लगना। 
  • मासिक धर्म के दौरान बहुत अधिक दर्द होना। 
  • मसूड़ों या दांतों से अक्सर खून निकलना। 
Maanspeshiyo mein dard hai vitamin K ki kami ke lakshan
मांसपेशियों म ऐंठन हैं विटामिन K की कमी के लक्षण। चित्र: शटरस्‍टॉक

शरीर में विटामिन के का स्वस्थ संतुलन बनाए रखने के लिए अपने आहार में जरूर शामिल करें ये खाद्य पदार्थ 

यदि आप बताए गए लक्षणों का अनुभव कर रहे हैं तो अपने आहार पर ध्यान दें। अपनी डाइट को बदलें और इन विटामिन के (vitamin K) युक्त खाद्य पदार्थों  का सेवन शुरू करें।

  • हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक, केल, ब्रोकली 
  • मूली,चुकंदर 
  • अंकुरित अनाज 
  • गेहूं, जौ 
  • अंडे, मछली 
  • दूध और डेयरी प्रोडक्ट जैसे पनीर, दही
  • तेल में जैतून का तेल (olive oil), कैनोला ऑयल (canola oil) और सोयबीन ऑयल (soybean oil)

तो लेडीज, अपने दैनिक आहार में इन खाद्य पदार्थों को जरूर शामिल करें और विटामिन के (vitamin K) की कमी से बचें। 

यह भी पढ़ें: बिना डाइटिंग या एक्सरसाइज के भी कम किया जा सकता है बेली फैट, हम बता रहे हैं कैसे

अदिति तिवारी अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !