प्रेगनेंसी के दौरान मोबाइल का ज्यादा उपयोग स्वास्थ्य के लिए हो सकता है खतरनाक

Published on: 18 February 2022, 17:30 pm IST

गर्भावस्था के दौरान मोबाइल फोन का अत्यधिक उपयोग भ्रूण के मस्तिष्क के विकास को खतरे में डाल सकता है। तो, इसके बारे में सावधान रहें।

strech mark ke karan
पेट का अकार बढ़ने से पढ़ जाते हैं स्ट्रेच मार्क । चित्र: शटरस्‍टॉक

टेक्नोलॉजी हमारे जीवन के हर पहलू के लिए एक वरदान साबित हुई है। पर यही तकनीक हमारे खिलाफ तेजी से काम करने की क्षमता भी रखती है, जब इसे उचित तरीके से नहीं संभाला जाता है।  गर्भावस्था के दौरान मोबाइल फोन के उपयोग के मामले में यह विशेष रूप से सच है।

गर्भवती महिलाओं के लिए गर्भावस्था एक खूबसूरत चरण होता है। यह एक आशीर्वाद के रूप में आता है, लेकिन यह अपनी चिंताओं का एक सेट भी रखता है। आहार संबंधी प्रतिबंधों के अलावा, गर्भवती महिलाओं को स्वस्थ और सुचारू गर्भावस्था सुनिश्चित करने के लिए मोबाइल फोन के उपयोग के लिए सुरक्षा उपायों और दिशानिर्देशों के बारे में पता होना चाहिए।

गर्भवती महिलाओं के लिए प्रौद्योगिकी के नकारात्मक प्रभाव क्या हैं?

आज, टेक्नोलॉजी हमारे दिन-प्रतिदिन के जीवन का एक अभिन्न अंग बन गई है, और हम न केवल अपने प्रियजनों के साथ संपर्क में रहने के लिए, बल्कि अपने आस-पास क्या हो रहा है। इसके बारे में जानकारी रखने के लिए भी सेल फोन पर भरोसा करते हैं। लेकिन सेल फोन और अन्य वायरलेस उपकरणों के नकारात्मक प्रभावों को पहचानना महत्वपूर्ण है।  ये उपकरण रेडियो वेव्स पैदा करते हैं जिनके बढ़ते भ्रूण पर प्रभाव पड़ने की संभावना है।

Pregnancy mein zyada khayal
अगर आप गर्भवती हैं तो अतिरिक्त सावधानी बरतें। चित्र: शटरस्टॉक

नवजात में जन्म दोषों के जोखिम को कम करने के लिए गर्भवती महिलाओं को महत्वपूर्ण नौ महीनों के दौरान विकिरण के संपर्क को सीमित करने की सिफारिश की जाती है। जबकि कुछ मात्रा में विकिरण के संपर्क में आना स्वीकार्य है, अधिक मात्रा में विकासशील भ्रूण को उनके प्रारंभिक विकास के दौरान, विशेष रूप से गर्भावस्था के 2 से 18 सप्ताह के बीच नुकसान पहुंचा सकता है।

इससे होने वाली क्षति विकिरण की मात्रा और एक्सपोजर के समय भ्रूण की गर्भकालीन आयु पर निर्भर करती है, क्योंकि अजन्मे बच्चे गर्भावस्था के कुछ चरणों के दौरान दूसरों की तुलना में कम संवेदनशील होते हैं।

 क्या मोबाइल फोन से प्रेगनेंसी में दिक्कत हो सकती है?

गर्भावस्था हर महिला के लिए एक महत्वपूर्ण चरण होता है, और स्वस्थ बच्चे को सुनिश्चित करने के लिए सावधानी बरतना महत्वपूर्ण है।  लंबे समय तक मोबाइल फोन का अत्यधिक उपयोग अनिद्रा को ट्रिगर कर सकता है, जिसके परिणामस्वरूप हड्डियों का घनत्व और मस्तिष्क की गतिविधि कम हो जाती है।  यह भ्रूण के मस्तिष्क के विकास के लिए हानिकारक होने की संभावना है, और इसके परिणामस्वरूप अति सक्रियता जैसे व्यवहार संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

दुनिया भर के अध्ययनों ने प्रस्तावित किया है कि मोबाइल फोन के व्यापक उपयोग से मोबाइल विकिरण के लंबे समय तक संपर्क में रहता है, जो गर्भवती महिलाओं के लिए माइटोकॉन्ड्रिया में जीन अनुक्रम को बदलने की संभावना है। आखिरकार, यह उनके डीएनए को प्रभावित कर सकता है और बच्चे में अपक्षयी बीमारी के विकास को जन्म दे सकता है।

प्रेगनेंसी में कम करना चाहिए मोबाइल का इस्तेमाल। चित्र : शटरस्टॉक

इसके अलावा, गर्भवती महिलाओं में विकिरण के संपर्क में वृद्धि से मस्तिष्क की गतिविधि पर भी प्रभाव पड़ सकता है, जिससे थकान, चिंता और नींद में खलल पड़ता है। इसके अलावा याददाश्त कम हो जाती है। गर्भावस्था के दौरान हानिकारक रेडियो वेव्स के लगातार और बढ़े हुए संपर्क से मानव शरीर के रिसेप्टर्स में हस्तक्षेप हो सकता है और कैंसर का खतरा बन सकता है।

आख़िरी शब्द

 गर्भावस्था एक महिला के जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, इसलिए स्वस्थ बच्चों को सुनिश्चित करने के लिए उचित देखभाल करना महत्वपूर्ण है।  इसलिए गर्भवती माताओं को सलाह दी जाती है कि वे गर्भावस्था के दौरान मोबाइल के उपयोग को नियंत्रित करें।

यह भी पढ़े : हर बार सामान्य नहीं है आंखों का सूजना, जानिए आंखों में होने वाली विभिन्न समस्याएं और उनका समाधान

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें