फॉलो
वैलनेस
स्टोर

सर्दियों में ज्‍यादा लगती है भूख ? जानिए क्‍या है सर्दियों की इस भूख के पीछे का विज्ञान

Updated on: 10 December 2020, 12:08pm IST
क्या आप जानती हैं सर्दियों में आपको ज्यादा भूख लगती है। अब भूख लगना तो कोई समस्या नहीं है, लेकिन ध्यान न दिया जाए तो ये आपके वजन बढ़ने का कारण बन सकता है। लेकिन चिंता न करें, मदद के लिए हम हैं।
विदुषी शुक्‍ला
  • 83 Likes
जानिए सर्दियों में क्‍यों लगती है ज्‍यादा भूख।चित्र- शटरस्टॉक।

ये तो आपने जरूर ध्यान दिया होगा कि सर्दियों में आप कितना भी मसालेदार और तैलीय खाना खाएं, पच जाता है। जबकि गर्मियों में जरा सा खाने से ही एसिडिटी हो जाती है। क्या आपने कभी सोचा है कि सर्दियों में आपका पाचन बेहतर क्यों हो जाता है? या क्यों सर्दियों में आपको ज्यादा भूख लगने लगती है? हम इन सभी सवालों के जवाब देंगे, वह भी वैज्ञानिक आधार पर।

क्यों लगती है सर्दियों में ज्यादा भूख

हम खाना क्यों खाते हैं- ताकि हमें ऊर्जा मिले। और इस ऊर्जा का क्या प्रयोग होता है? चलना, कूदना, बैठना, सांस लेना और सबसे महत्वपूर्ण- शरीर का तापमान बनाये रखना। मनुष्य को वार्म ब्लडेड एनिमल (warm blooded) माना जाता है। क्योंकि हम वातावरण के अनुसार शरीर का तापमान नहीं बदलते, बल्कि शरीर के लिए अनुकूल तापमान को बनाये रखते हैं।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

सर्दियों में कम तापमान के कारण हमें शरीर को गर्म रखने के लिए अधिक ऊर्जा की आवश्यकता होती है। इस ऊर्जा की पूर्ति के लिए मेटाबॉलिक रेट बढ़ जाता है जिसके कारण हमें अधिक भूख लगती है।

जंक फूड से बढ़ता प्‍यार डायबिटीज का जोखिम बढ़ा रहा है। चित्र: शटरस्‍टॉक
सर्दियों में ज्यादा भूख क्यों लगती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

क्‍या कहता है साइंस

इस थ्योरी की पुष्टि सैंकड़ो वैज्ञानिक अध्ययनों में की गई है। जर्नल ‘फिजियोलॉजिकल बेहवियर’ में 2004 में प्रकाशित स्टडी इस स्टडी पर साक्ष्य प्रदान करती है। इतना ही नहीं, जर्नल ऑफ एक्सपेरिमेंटल बायोलॉजी में प्रकाशित एक शोध में महिलाओं के मेटाबॉलिज्म के दर को तापमान के अनुसार नापा गया था। इस शोध के निष्कर्ष में पाया गया कि 22 डिग्री के तापमान में हम तीन घण्टे में जितनी ऊर्जा की खपत करते हैं, 15 डिग्री तापमान में हम उतनी ऊर्जा एक घण्टे में ही इस्तेमाल कर लेते हैं।

क्या अधिक मेटाबॉलिक रेट का मतलब है वेट लॉस?

ये सवाल हर महिला के मन में आएगा, क्योंकि हम जानते हैं कि मेटाबॉलिज्म अधिक होना यानी फैट बर्न होना। लेकिन ज्‍यादा खुश होने की गलती न करें। असल में सर्दियों में भूख ज्यादा लगती है और आप ज्यादा खा लेती हैं। इससे वजन कम होने के बजाय उल्टा बढ़ जाता है। मेटाबॉलिक रेट अधिक होने के साथ-साथ आपको कैलोरी डेफिसिट भी होना पड़ेगा। और उसमें हम आपकी सहायता करेंगे।

अगर बढ़े हुए मेटाबॉलिक रेट का फायदा उठाते हुए वजन घटाना है तो इन बातों का ख्याल रखें-

1. भोजन में फाइबर बढ़ाएं

आप जानती हैं कि फाइबर आपके पेट को लम्बे समय तक भरा रखता है। यानी फाइबर ज्यादा लेने पर आप कम कैलोरी लेंगी। कोशिश करें सर्दियों में आपके आहार में फाइबर की मात्रा दोगुनी हो। खाने में रागी, ज्वार, बाजरा, मक्का इत्यादि शामिल करें। ओट्स, दलिया हर दिन खाएं। इसके साथ ही मौसमी फल और सब्जी जैसे गाजर, सन्तरा, पालक, मेथी, चुकंदर, मूली इत्यादि आहार में शामिल करें।

धीरे धीरे चबाकर खाने से वजह कम होता है और आप हेल्दी भी रहतीं हैं।चित्र-शटर स्टॉक।

2. गर्म पानी ही पियें

ये न सिर्फ आपके वेट लॉस के लिए अच्छा है, बल्कि आपको सर्दी जुखाम से भी दूर रखेगा। सुबह खाली पेट एक गिलास गर्म पानी पीना आपके पेट को साफ रखता है और मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करता है। इससे बेहतर दिन की शुरुआत क्या होगी।

3. भूख लगने पर लिक्विड भोजन लें

शाम या दोपहर में अगर आपको भूख लगती है तो रोटी या चावल की जगह सूप, दाल या जूस लें। ये आपका पेट भरेंगे, पोषण देंगे और वजन को भी नियंत्रित करेंगे। इसके साथ ही, लेडीज, व्यायाम से कोई कोताही ना बरतें। आप चाहें तो किसी भी मौसम में वजन आसानी से नियंत्रित कर सकती हैं, बस जरूरत है तो थोड़े से अनुशासन की।

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

विदुषी शुक्‍ला विदुषी शुक्‍ला

पहला प्‍यार प्रकृति और दूसरा मिठास। संबंधों में मिठास हो तो वे और सुंदर होते हैं। डायबिटीज और तनाव दोनों पास नहीं आते।