बार-बार और लगातार बन रही है गैस? तो समझिए इसे कैसे कंट्रोल करना है

Updated on: 20 January 2022, 22:59 pm IST

गैस की समस्या एक आम समस्या है। शायद ही ऐसा कोई हो जिस को इस समस्या से जूझना न पड़ा हो। कभी-कभी गैस बनने की बात अलग है, लेकिन अगर आपको बार-बार और लगातार यह समस्या हो रही है, तो आपको सावधान रहने की जरूरत है।

rat mei gas ki problem se pet bhari rehta aur nind nahi aati.
रात में गैस की समस्या से पेट भारी रहता और नींद नहीं आती। चित्र : शटरस्टॉक

क्या आपको बार-बार गैस बनती है? काफी परेशानी और पेट दर्द का सामना करना पड़ता है? कभी-कभी गैस फंसने की वजह से छाती में भी दर्द होने लगता है? अगर हां तो आपको उसका निवारण फौरन करना चाहिए। क्योंकि पेट में बार-बार और लगातार गैस बनने की समस्या आपको भविष्य में कई गंभीर रोग दे सकती है। 

वैसे तो गैस बनना पाचन की एक आम प्रक्रिया का हिस्सा है। ज्यादातर लोग दिन में 15 बार गैस पास करते हैं। यदि इससे ज्यादा होता है, तो आप को समझना चाहिए कि आप को गैस्ट्रिक प्रोब्लम (Gastric Problem) है।

चलिए जानते हैं कि आखिर क्या है गैस्ट्रिक प्रॉब्लम? 

पेट में गैस की समस्या एक ऐसी स्थिति है जिसमें पेट की मेंब्रेन लेयर गड़बड़ा जाती है और एसिड का स्राव होता है। एक बार जब ये एसिड पेट की दीवारों के संपर्क में आ जाते हैं, तो यह दर्द और बेचैनी को जन्म देता है। 

इस स्थिति को गैस्ट्रिक समस्या के नाम से जाना जाता है। हार्वर्ड हेल्थ पब्लिशिंग पर मौजूद जानकारी के अनुसार गैस तब बनती है जब पाचन तंत्र में बैक्टीरिया भोजन को तोड़ते हैं। आंतों की गैस में ज्यादातर हाइड्रोजन और मीथेन होते हैं।

fart rokna mushkil bhara ho sakta hai
फार्ट रोकना मुश्किल भरा हो सकता है। चित्र- शटरस्टॉक।

आमतौर पर यह समस्या 40 साल की उम्र के बाद शुरू होती है, लेकिन ऐसा जरूरी नहीं है। अस्वस्थ जीवनशैली बच्चों पर भी इस समस्या को जन्म देने की जिम्मेदार है। गैस्ट्रिक समस्या या गैस्ट्रिटिस पेट की परत की सूजन, जलन या क्षरण है। यह तीव्र होने से शुरू होता है और धीरे-धीरे पुरानी स्थिति में बदल सकता है। 

क्या हैं गैस के लक्षण 

गैस की समस्या काफी असहज हो सकती है, लेकिन यह आमतौर पर गंभीर नहीं होती। हालांकि कुछ मामलों में यह काफी भयानक साबित हो सकती है। ज्यादातर मामले ऐसे होते हैं जिनमें डॉक्टर से संपर्क करने की आवश्यकता नहीं होती और कुछ ही मिनटों में आराम भी मिल जाता है। सामान्य तौर पर नजर आने वाले कई लक्षण शामिल है जिसमें  : 

  1. खट्टी डकार आना या एसिडिटी
  2. पेट में ऐंठन
  3. पेट फूलना या भरा हुआ महसूस होना
  4. या पेट के आकार में वृद्धि या पेट टाइट होना
  5. छाती में दर्द

यह भी पढ़े :सर्दी-जुकाम से लेकर जोड़ों के दर्द तक, सर्दियों की हर समस्या का इलाज है घी और काली मिर्च

क्या हेल्थ कंसर्न है ज्यादा गैस बनना? 

वैसे तो यह एक आम समस्या है, जो ज्यादातर परेशानियों में नहीं डालती। लेकिन कई बार यह स्वास्थ्य से जुड़े बड़े जोखिम पैदा कर सकती है। ऐसे में यदि आपको ज्यादा गैस बनती है तो आपको सावधान रहने की जरूरत है। इससे आपको पेट दर्द, वजन घटना, बुखार, या खूनी मल, जैसे लक्षण नजर आ सकते हैं। ये सभी पाचन विकार, जैसे सीलिएक रोग, अल्सरेटिव कोलाइटिस, या क्रोहन रोग के लक्षण हैं।

प्रारंभिक तौर पर घरेलू नुस्खे कर सकते हैं मदद 

यदि आपको कोई बड़ी समस्या हो रही है, तो आप को फौरन डॉक्टर से संपर्क करने की जरूरत है। अगर छोटी मोटी समस्या है तो आप घर पर ही कुछ घरेलू आयुर्वेदिक नुस्खे आजमा कर अपनी गैस की समस्या को दूर कर सकते हैं। साथ ही जीवन शैली में कुछ बदलाव भी आपके बेहद काम आएंगे।

  1. अजवाइन और काला नमक 

पेट के लिए फायदेमंद है अजवाइन। चित्र : शटरस्टॉक

अजवाइन एक ऐसा मसाला है जो आपको गैस की समस्या से इंस्टेंट रिलीफ देने का काम करता है। यह एक जांचा-परखा आयुर्वेदिक इलाज है, जो बरसों से गैस की दिक्कत के लिए किया जा रहा है। आपको अजवाइन और काला नमक पीसकर एक चूर्ण तैयार कर लेना है। दिन में दो बार गर्म पानी के साथ इसका सेवन करना है। हालांकि ज्यादा सेवन करने से बचें अन्यथा दस्त की समस्या भी हो सकती है।

यह भी पढ़े :ये लक्षण बताते हैं कि आप में भी हो रही है हीमोग्लोबिन की कमी, जानिए इसे कैसे दूर करना है

  1. अदरक का जूस 

गले की खराश को दूर करने के लिए ज्यादातर अदरक घरेलू उपाय में काम आता है, लेकिन गैस की समस्या के लिए भी यह एक रामबाण इलाज है। इस बात में कोई दो राय नहीं है कि यह आयुर्वेदिक गुणों से भरपूर है। आपको एक चम्मच अदरक कद्दूकस करके नींबू के रस के साथ सेवन करना है।

  1. त्रिफला

Triphala pet ke liye bahut achchha hai
पेट की समस्या के लिए आयुर्वेद में त्रिफला का प्रयोग सदियों से होता आ रहा है। चित्र- शटर स्टॉक।

पेट दर्द की कई समस्याओं के लिए त्रिफला काफी फायदेमंद है, जिसमें गैस भी एक बड़ा नाम है। कई बार ज्यादा गैस बनने से एसिडिटी जैसी समस्याएं होने लगती हैं। जो काफी जलन देती है। उस स्थिति में त्रिफला का चूर्ण फायदेमंद है। इसका सेवन करने का बस उचित तरीका पता होना चाहिए। यदि आप त्रिफला का सेवन करना चाहते हैं तो 5 से 10 मिनट के लिए आधे चम्मच त्रिफला को पानी में उबाल लें और फिर रात में सोने से पहले इसका सेवन करें। हालांकि ध्यान रहे त्रिफला में फाइबर की मात्रा अच्छी होती है। इसका ज्यादा सेवन आपको समस्या दे सकता है।

यह भी पढ़े : उम्र से जुड़े इन 5 तरह के शारीरिक दर्द को नजरअंदाज करना पड़ सकता है भारी

अक्षांश कुलश्रेष्ठ अक्षांश कुलश्रेष्ठ

सेहत, तंदुरुस्ती और सौंदर्य के लिए कुछ नई जानकारियों की खोज में

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें