जानिए क्या है एक्टोपिक प्रेगनेंसी, जब बच्चा गर्भाशय में नहीं होता

Updated on: 9 March 2022, 14:24 pm IST

एक्टोपिक प्रेगनेंसी तब होती है जब अंडा गर्भाशय के बाहर खुद को प्रत्यारोपित करता है। यहां इस जटिल गर्भावस्था से निपटने का तरीका बताया गया है।

ObesitPregnancy mein complications ho sakta hai y Intimate aur mental health ko prabhavit karta hai
गर्भावस्था में जटिलताएं अक्सर महिलाओं को हो सकती हैं। चित्र:शटरस्टॉक

जब एक फर्टिलाइज्ड एग गर्भाशय के बाहर बढ़ता है, तो इसे एक्टोपिक गर्भावस्था (ectopic pregnancy) कहा जाता है। एक फर्टिलाइज्ड एग (Fertilized egg) एक सामान्य गर्भावस्था के दौरान गर्भाशय में प्रत्यारोपित और परिपक्व होता है। दूसरी ओर, यह अंडा इस जटिल गर्भावस्था में गर्भाशय तक नहीं पहुंच पाता है। यह एक अलग स्थान पर प्रत्यारोपित होता है। आमतौर पर फैलोपियन ट्यूब में और ऐसी गर्भावस्था को ‘ट्यूबल प्रेगनेंसी (Tubal pregnancy) के रूप में जाना जाता है। एक्टोपिक प्रेगनेंसी अंडाशय, गर्भाशय ग्रीवा या पेट में भी हो सकती है।

एक प्रमुख कारण जिसकी वजह से एक फर्टिलाइज्ड एग फैलोपियन ट्यूब से जल्दी नीचे नहीं जाता है, वह है ब्लॉक ट्यूब। संक्रमण या सूजन बंद नलियों के सबसे प्रचलित कारण हैं। पहले पेट की सर्जरी या फैलोपियन ट्यूब सर्जरी से निशान टिश्यू द्वारा ट्यूब को संभावित रूप से अवरुद्ध किया जा सकता है।

कब होती है एक्टोपिक प्रेगनेंसी?

  1. एक्टोपिक प्रेगनेंसी का एक पिछला इतिहास रहा है।
  2. एक महिला को पेल्विक सूजन की बीमारी या पेल्विक क्षेत्र में सर्जरी जैसे संक्रमण सबसे अधिक ट्यूबरक्यूलोसिस के कारण हुए हैं।
  3. यदि एक मां की ट्यूबल रिकंस्ट्रक्शन और रेकेनलाइजेशन सर्जरी हुई है।
  4. सीयू टी, एलएनजी-आईयूडी जैसे गर्भ निरोधकों का उपयोग बढ़ा है।
  5. यदि किसी महिला को गर्भधारण के लिए संघर्ष करना पड़ा है या प्रजनन उपचार हुआ है।
  6. अगर महिला बहुत ज्यादा धूम्रपान करने वाली है।
Ectopic pregnancy ke jokhim se bachne ke liye smoking band kare
एक्टोपिक प्रेगनेंसी के जोखिम से बचने के लिए धूम्रपान से दूरी बनाए रखें। चित्र : शटरस्टॉक

एक्टोपिक प्रेगनेंसी के कुछ प्रारंभिक संकेत

  1. अनीनोरिया या योनि से खून बहना जो सामान्य नहीं है।
  2. पीठ के निचले हिस्से में दर्द।
  3. हल्का पेट या पैल्विक दर्द।
  4. पेल्विक रीजन में जकड़न, विशेष रूप से एक तरफ।

बच्चे को जन्म देने वाली महिला के लिए, एक्टोपिक प्रेगनेंसी जोखिम भरा हो सकता है। जैसे-जैसे गर्भावस्था आगे बढ़ती है, जिस अंग में इसे प्रत्यारोपित किया जाता है वह फट सकता है। इसके परिणामस्वरूप इंटरनल ब्लीडिंग हो सकता है। यही कारण है कि एक्टोपिक गर्भावस्था का जल्द पता लगाना महत्वपूर्ण है।

क्या इस स्थिति को संभाला जा सकता है?

हालांकि एक्टोपिक प्रेगनेंसी को रोका नहीं जा सकता है, लेकिन महिलाएं कुछ जोखिम कारकों को कम कर सकती हैं। जो महिलाएं गर्भधारण करने की कोशिश कर रही हैं, उन्हें धूम्रपान से दूर रहना चाहिए। धूम्रपान करने वालों को गर्भवती होने से पहले धूम्रपान छोड़ने की योजना बनानी चाहिए। गर्भाधान के बाद, एक महिला को नियमित रूप से अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। ताकि इस जटिल गर्भावस्था का जल्द से जल्द पता लगाया जा सके।

Pelvic pain ka matlab complicated pregnancy
यदि आप तेज पैल्विक दर्द का अनुभव कर रहे हैं, तो यह एक जटिल गर्भावस्था का संकेत हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

यदि एक एक्टोपिक प्रेगनेंसी की पता चलता है, तो इसे समाप्त कर दिया जाना चाहिए। यह या तो दवा या सर्जरी द्वारा पूरा किया जा सकता है। दवा कोशिकाओं के विकास को रोकती है और गर्भावस्था को समाप्त करती है।

एक्टोपिक टिश्यू तब शरीर द्वारा अवशोषित किया जाता है। कुछ एक्टोपिक प्रेगनेंसी के लिए सर्जिकल हस्तक्षेप की आवश्यकता होती है। इनमें वे शामिल हैं जिनका जल्दी पता नहीं चल पाता है या जिसके परिणामस्वरूप श्रोणि अंग का टूटना होता है। ऐसी गर्भधारण के लिए लैप्रोस्कोपी सर्जरी का सबसे आम तरीका है। कभी-कभी, डॉक्टर को फैलोपियन ट्यूब या किसी अन्य अंग के फटने पर उसे निकालना भी पड़ सकता है।

यह भी पढ़ें: मच्छराें के साथ अगर बढ़ रहा है डेंगू का खौफ, तो इन घरेलू नुस्खों को हमेशा याद रखें

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें