जानिए क्या होता है, जब आप कोविड-19 संक्रमण के दौरान आराम नहीं करतीं

Published on: 26 January 2022, 14:00 pm IST

कोविड -19 से प्रभावित होना आपकी पसंदीदा नेटफ्लिक्स सीरीज को समाप्त करने का अवसर नहीं है। इसके बजाय, जितना हो सके उतना आराम करने का समय आ गया है। अन्यथा परिणाम गंभीर हो सकते हैं।

Covid-19 ke baad aaram na karne se sehat kharab ho sakti hai
कोविड-19 के बाद आराम नहीं करने से सेहत खराब हो सकती है। चित्र:शटरस्टॉक

यह उन लोगों को समर्पित है जो कोविड -19 से संक्रमित हैं, लेकिन फिर भी आराम करने के लिए तैयार नहीं हैं। ज्यादातर एसिम्प्टोमैटिक मरीजों को ही इसके लिए जिम्मेदार माना जाता है, क्योंकि उनके लिए किसी भी लक्षण न होने का मतलब कोई समस्या नहीं है। लेकिन वे यह नहीं समझते हैं कि यह वायरस आपको अंदर से कैसे नुकसान पहुंचाता है, और समय के साथ अपने असली रंग दिखाता है।

क्यों जरूरी है कोविड-19 संक्रमण के दौरान आराम करना

डॉक्टरों से लेकर आयुष मंत्रालय जैसी स्वास्थ्य एजेंसियों तक, हर कोई इस वायरस को हराने के लिए पर्याप्त आराम के महत्व पर जोर देता रहा है। आयुष मंत्रालय द्वारा जारी नवीनतम दिशानिर्देशों में भी, यह उल्लेख किया गया है कि 7 से 8 घंटे सोना हर कोविड -19 रोगी के लिए जरूरी है।

लेकिन हम में से कुछ ऐसे भी हैं, जो अपनी व्यस्त नौकरियों के कारण इसे नजरअंदाज कर देते हैं। दुर्भाग्य से, लोगों को यह एहसास नहीं है कि लंबे समय में इसके कई जोखिम हो सकते हैं।

आराम न करने के कारण आपके शरीर को ये दिक्कतें हो सकती हैं

  1. थकान
  2. स्टैमिना में कमी
  3. आंखों में दर्द
  4. लगातार सिरदर्द
  5. मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द

यह न सोचें कि आपको ये आफ्टर-इफेक्ट्स तभी मिलेंगे, जब आपमें कोविड-19 के गंभीर लक्षण हों। ऐसा इसलिए है क्योंकि हल्के लक्षणों वाले लोगों ने भी उपरोक्त पोस्ट-कोविड-19 दुष्प्रभावों की सूचना दी है।

कोरोनावायरस के इन आफ्टर-इफेक्ट्स के पीछे का प्रमुख कारण पर्याप्त आराम नहीं करना है। दूसरा कारण हो सकता है स्वच्छ आहार न लेना, हाइड्रेटेड न रहना, पर्याप्त सावधानी न बरतना और बहुत अधिक स्क्रीन टाइम।

Corona se thik hone kebaad bhi aaram karne ki jaroorat hai कोरोना से ठीक होने के बाद भी आपको आराम करने की जरूरत है। चित्र : शटरस्टॉक

कुछ वास्तविक कहानियां

1. श्रिया, 26, मार्केटिंग एक्जीक्यूटिव

“कोविड -19 मेरे लिए उतना बुरा नहीं था, जितना कि इसके बाद के प्रभाव हैं। अब, यह मुझे और भी परेशान कर रहा है। इसने मेरे स्टैमिना को काफी हद तक प्रभावित किया है। मैं एक रनर हुआ करती थी, लेकिन अब वापस जाना मेरे लिए एक संघर्ष बन गया है। मैं कुछ मिनटों के बाद ही हांफना शुरू कर देती हूं। हालांकि मैं इस पर काम कर रहीं हूं, लेकिन मैं महसूस कर सकती हूं कि मेरे कोविड संक्रमण के बाद यह कितना कठिन हो गया है।”

2. प्रियंका, 38, ग्राफिक डिजाइनर

“थकान! यह एक शब्द मेरे कोविड-19 संक्रमण के बाद द वर्ड बन गया है। मेरा विश्वास करिए जब मैं कहती हूं कि, किसी भी मात्रा में नींद या पावर नैप ने मेरी मदद नहीं की है। जब मेरा टेस्ट पॉज़िटिव आया, तो मुझमें शायद ही कोई लक्षण थे। इसलिए, मैंने इसे बहुत हल्के में लिया। मैंने काम से एक दिन की भी छुट्टी नहीं ली।

मैं सामान्य की तरह काम करती रही और कुछ दिनों के क्वारंटाइन के बाद मेरी रिपोर्ट निगेटिव आई। मैं सोचती थी कि यह वायरस इतना बुरा नहीं है। लेकिन मेरे ठीक होने की अवधि समाप्त होने के बाद इसने अपना असली रंग दिखाया। खासकर जब मैंने शारीरिक श्रम करना शुरू किया था। मैं ध्यान केंद्रित नहीं कर सकती, मेरी उत्पादकता अब तक के सबसे निचले स्तर पर है, और मुझे बस बिस्तर पर लेटे रहने का मन करता है। क्योंकि मैं हमेशा थकी हुई रहती हूं।”

3. ऋषिता, 32, गृहणी

“एक बच्चे के साथ और अब हर कोई घर से काम कर रहा है, मेरा काम दोगुना हो गया है। इन सबके बीच मुझे कोविड हो गया। मेरा न तो इतना गंभीर था और न ही इतना हल्का, लेकिन इसने मुझे बहुत परेशान किया। यह सिर्फ आराम नहीं था, बल्कि मेरे आहार से भी समझौता किया गया था। मैंने कुछ शारीरिक प्रभाव देखे हैं, क्योंकि मेरे सिर में लगातार दर्द होता है जो पहले नहीं था। इसके अलावा, मैंने अपने मासिक धर्म में बदलाव देखा है। अब यह कोविड -19 की वजह से है या नहीं, मैं अभी भी अपने डॉक्टर से इसका पता लगा रही हूं। ”

यह भी पढ़ें: पेट साफ करने में हो रही है दिक्कत, तो अपनाएं ये 4 आसान घरेलू उपाय

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें