खराब ओरल हेल्थ से हार्मोन में बदलाव तक, जानिए क्या हैं मुंह के छालों के कारण

Published on: 22 March 2022, 09:30 am IST

मुंह के छालों को नज़रअंदाज़ न करें। यह किसी गंभीर समस्या का कारण भी बन सकते हैं। इसलिए इनका समय पर इलाज कराना ज़रूरी है।

mouth blisters ke karan
मुंह के छालों के कारण और इससे बचने के उपाय। चित्र : शटरस्टॉक

कई बार हमारे मुंह में छाले हो जाते हैं, मगर हम इनका कारण नहीं समझ पाते। कई बार यह समस्या इतनी बढ़ जाती है कि हमारा खाना-पीना तक रुक जाता है। विशेषज्ञों का मानना है कि ज़रूरी नहीं है कि यह किसी गंभीर समस्या का संकेत हों। मगर इनपर ध्यान देना ज़रूरी है।

मुंह के छाले आम हैं, और सभी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकते हैं। जबकि कई मुंह के छाले हानिकारक नहीं होते हैं, लेकिन कुछ अधिक गंभीर समस्याओं का संकेत देते हैं। इनका उपचार आपके मुंह के छाले के प्रकार पर निर्भर करता है।

मुंह के छालों के लक्षण क्या हैं?

आपके मुंह के छाले के प्रकार के आधार पर सटीक लक्षण भिन्न हो सकते हैं। ज्यादातर मामलों में, घाव, लाली, दर्द और सूजन का कारण बनते हैं::

जलन महसूस होना
खाने में कठिनाई (विशेषकर मसालेदार या नमकीन भोजन)।
फफोले पड़ना
खून आना
डिस्फेगिया (निगलने में कठिनाई)

क्लीवलैंड क्लीनिक के अनुसार मुंह के छाले के कई कारण होते हैं जैसे

ऐसी कई चीजें हैं जो मुंह के छालों का कारण बन सकती हैं। कारण सामान्य चोटों से लेकर गंभीर स्वास्थ्य स्थितियों तक होते हैं जैसे –

अपने होंठ, जीभ या गाल को काटना
ब्रेसिज़ या अन्य ऑर्थोडोंटिक उपकरणों से जलन
अपने दांतों को बहुत मुश्किल से ब्रश करना, या कड़े ब्रिसल वाले टूथब्रश का उपयोग करना
तंबाकू उत्पादों का उपयोग करना
हार्मोन में बदलाव
तनाव
गर्म खाने से मुंह में जलन

mouth ulcer ke liye home remedies try kar sakti hai
माउथ अल्सर के लिए आप ये होम रेमेडीज ट्राय कर सकती हैं। चित्र: शटरस्टॉक

कई बीमारियां और स्वास्थ्य स्थितियां भी हैं जो मुंह के घावों को विकसित कर सकती हैं, जिनमें शामिल हैं:

एनीमिया
फोलेट की कमी
हाथ पैर और मुहं की बीमारी
एचआईवी और एड्स
क्रोहन रोग
आईबीएस

जिन लोगों का कैंसर का इलाज चल रहा है, उन्हें भी मुंह के छाले हो सकते हैं। यह सिर या गर्दन के लिए रेडिएशान थेरेपी प्राप्त करने वाले व्यक्तियों में भी आम है।

क्या मुंह के छालों को रोका जा सकता है?

हालांकि आप मुंह के छालों को पूरी तरह से नहीं रोक सकते हैं, लेकिन कुछ चीजें हैं जो आप अपने जोखिम को कम करने के लिए कर सकते हैं। क्लीवलैंड क्लीनिक के अनुसार इन आदतों को अपनाएं –

अच्छी मौखिक स्वच्छता का अभ्यास करें, और नियमित रूप से अपने दंत चिकित्सक से मिलें।
तनाव कम करने के तरीके खोजें, जैसे माइंडफुलनेस या मेडिटेशन का अभ्यास करना।
स्वस्थ, संतुलित आहार लें
हाइड्रेटेड रहना
सभी तंबाकू उत्पादों से बचें
बाहर जाते समय 15 या इससे अधिक एसपीएफ वाले लिप बाम का प्रयोग करें
शराब का सेवन कम मात्रा में करें या इससे पूरी तरह परहेज करें।

यह भी पढ़ें : होली के बाद बढ़ गया है ब्लड शुगर, तो जानिए आपको क्या करना है और क्या नहीं

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें