किसी भी स्थिति में नॉर्मल नहीं है नाक से खून आना, जानिए ऐसी स्थिति में आपको क्या करना है

समय रहते ये समझना जरूरी है, कि ऐसा क्यों हो रहा है, और आप अपना ट्रीटमेंट शुरू करवा सके। आज हम बात करेंगे नाक से खून आने के कुछ कारणों पर। तो यदि आपको भी यह समस्या रहती है, तो उसे भूलकर भी नजर अंदाज न करें।
nose bleeding ko n kren najarandan
जानें नोज ब्लीडिंग को घर पर कैसे कंट्रोल किया जा सकता है. चित्र:शटरस्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 10 Mar 2024, 09:30 am IST
  • 124

आप में से ज्यादातर लोगों ने कभी नहीं कभी नोज ब्लीडिंग का सामना जरूर किया होगा। वहीं आप में से कुछ लोग ऐसे भी होंगे जिन्हें नोज ब्लीडिंग की समस्या अधिक फ्रिक्वेंटली परेशान करती होगी। बहुत से लोग इसे नजरअंदाज कर देते हैं, पर आपके द्वारा की गई ये भूल बेहद खतरनाक साबित हो सकती है। समय रहते ये समझना जरूरी है, कि ऐसा क्यों हो रहा है, और आप अपना ट्रीटमेंट शुरू करवा सके। आज हम बात करेंगे नाक से खून आने के कुछ कारणों पर। तो यदि आपको भी यह समस्या रहती है, तो उसे भूलकर भी नजर अंदाज न करें। नोज ब्लीडिंग (nose bleeding) से जुड़ी अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हेल्थ शॉर्ट्स में मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल के एंट कंसलटेंट डॉक्टर सुवेन कालरा से बात की। तो चलिए जानते इस विषय पर अधिक विस्तार से।

दो तरह की हो सकती हैं नोज ब्लीडिंग (nose bleeding)

एंटीरियर नोजब्लड (Anterior nosebleeds)

वह दीवार जो आपकी नाक को अलग करती है, उसे सेप्टम कहा जाता है। इसमें बहुत सारी ब्लड वेसल्स होती हैं, जो चेहरे पर चोट लगने या आपके नाखून की खरोंच से भी टूट सकती हैं। अधिकांश नाक से खून सेप्टम के निचले हिस्से में शुरू होता है, यानी आपकी नाक के करीब।

never avoid nosebleed
भूलकर भी इसे न करें नजरअंदाज। चित्र : एडॉबीस्टॉक

पोस्टीरियर नोजब्लड (Posterior nosebleeds)

ये अधिक दुर्लभ हैं, इसमें आपकी नाक के पिछले हिस्से में ब्लीडिंग शुरू हो जाती है। ओल्डर पीपल, हाई ब्लड प्रेशर वाले लोगों, या जिनके चेहरे पर चोट लगी हो, उनमें नाक से खून बहने की संभावना अधिक होती है।

यह भी पढ़ें: अनचाही प्रेगनेंसी मेंटल-फिज़िकल हेल्थ के साथ रिलेशनशिप को भी कर सकती है प्रभावित, जानिए इससे कैसे डील करना है

क्या हो सकते हैं नाक से खून आने के कारण

ड्राई क्लाइमेट, ड्राई और हीटेड एयर के संपर्क में आने से नाक के अंदर की स्किन ड्राई हो जाती है, जिसकी वजह से नोज ब्लीडिंग हो सकती है।
रेस्पिरेटरी इन्फेक्शन जैसे की कोल्ड की स्थिति में भी बहुत से लोगों को नोज ब्लीडिंग हो सकती है।
नाक के अंदर की स्किन को अधिक अग्रेसिव तरीके से रब करना।
नियमित रूप से एस्पिरिन लेने पर।
साइनस इन्फेक्शन के कारण।
अमोनिया जैसे केमिकल्स जो आपके एयरवेज को इरिटेट कर देती हैं।
अगर आप अपने नाक को जोर से ब्लो करती हैं, या ब्लड वेसल्स को कॉन्ट्रैक्ट करती हैं, तो ऐसे में नोज ब्लीडिंग हो सकती है।

जानें नोज ब्लीडिंग को घर पर कैसे कंट्रोल किया जा सकता है

1. हमें हमेशा से बचाव पर ध्यान देना चाहिए। अगर आपको फ्रीक्वेंट नोज ब्लीडिंग हो होती है, तो बचाव के लिए अपने नाक के अंदर की स्किन को पूरी तरह से मॉइश्चराइज रखने की कोशिश करें। आप इसके लिए पेट्रोलियम जेली और कोकोनट ऑयल का इस्तेमाल कर सकती हैं। इसके साथ ही फिंगरनेल्स को छोटा रखें, ताकि कभी भी नाक को पिक करते हुए ये आपकी स्किन को न छिले। अगर आप कभी भी ड्राई और गर्म मौसम में जा रही हैं, तो खुदको पूरी तरह से हाइड्रेटेड रखें, इससे नाक से खून आने का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है।

naak ki koshika hoti hai prabhavit
वायरस नाक की कोशिकाओं को हानि पहुंचाता है।चित्र: शटरस्‍टॉक

2. नाक से खून आने की स्थिति में अपने नाक के निचले हिस्से को जोर से दबाएं। इस स्थिति में सीधी बैठी रहें और मुंह से धीरे धीरे हल्के से सांस लें। वहीं इस दौरान अपने सिर पर आइस पैक या कुछ और ठंडी चीज रखें। इससे आपकी ब्लीडिंग बंद हो जाएगी।

3. अगर 5 मिनट तक नाक को दबाने के बाद भी ब्लीडिंग न रुकें, तो अन्य 5 मिनट के लिए इसे दोबारा से दबाए रखें। अगर न रुके तो इंतजार न करें, सीधा डॉक्टर से संपर्क करें।

4. नोज ब्लीडिंग के दौरान शांत रहने का प्रयास करें। खुदको कॉम रखें, क्युकी नोज ब्लीडिंग की स्थिति में ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है, जिसकी वजह से और ज्यादा ब्लीडिंग हो सकती है। इसलिए शांत रहने की कोशिश करें।

यह भी पढ़ें: अनचाही प्रेगनेंसी मेंटल-फिज़िकल हेल्थ के साथ रिलेशनशिप को भी कर सकती है प्रभावित, जानिए इससे कैसे डील करना है

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

  • 124
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख