खराब गट हेल्थ भी बन सकती है अर्थराइटिस का कारण, एक्सपर्ट बता रहे हैं दोनों के बीच का संबंध

एंटीबायोटिक का उपयोग, तनाव, विशिष्ट आहार और आनुवंशिक प्रवृत्ति सहित कई कारक, आंत माइक्रोबायोम के संतुलन को बिगाड़ सकते हैं। जिसका असर जोड़ाें में होने वाले दर्द पर भी नजर आ सकता है।
सभी चित्र देखे arthritis se bachna hai to apne pet ka khyal rakhen
अर्थराइटिस से बचना है तो अपने पेट का ख्याल रखना भी जरूरी है। चित्र : अडोबी स्टॉक
Dr. B Vikas Reddy Updated: 29 Oct 2023, 20:31 pm IST
  • 132

गठिया रोग शरीर की एक सामान्य स्थिति है, जो दुनिया भर में लाखों लोगों को प्रभावित करती है। सूजन, जोड़ों का दर्द और कठोरता इसके मुख्य लक्षण हैं। यह किसी भी व्यक्ति के जीवन की गुणवत्ता पर गंभीर प्रभाव डाल सकती है। हमारी गठरांत्र प्रणाली (gastrointestinal system) में रहने वाले असंख्य बैक्टीरिया को आंत माइक्रोबायोम (gut microbiome) कहा जाता है। ये सूक्ष्मजीव पाचन, प्रतिरक्षा प्रणाली नियंत्रण और विटामिन और न्यूरोट्रांसमीटर के संश्लेषण सहित कई जैविक प्रक्रियाओं के लिए महत्वपूर्ण हैं। इतना ज्यादा कि इनमें होने वाला असंतुलन अर्थराइटिस या गठिया (Arthritis and gut health) का भी कारण बन सकता है।

समझिए क्या है गट डिस्बिओसिस (Gut dysbiosis) 

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल तंत्र का डिस्बिओसिस एक ऐसी स्थिति है, जो तब हो सकती है जब इन बैक्टीरिया का संतुलन गड़बड़ा जाता है। कह सकते हैं कि आंत में रोगजनकों की अधिक वृद्धि होने लगती है।

कई अध्ययनों ने आंत डिस्बिओसिस (gut dysbiosis) और गठिया के बीच संबंध की जांच की गयी है। मानव और पशु दोनों अध्ययनों से पता चला है कि आंत माइक्रोबायोम में व्यवधान गठिया के लक्षणों को खराब कर सकता है। ये व्यवधान आंतों की प्रसार क्षमता को बढ़ा सकते हैं, जिससे रक्तप्रवाह में सूजन संबंधी कारकों का रिसाव हो सकता है। परिणाम स्वरूप यह असामान्य प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया और पुरानी सूजन का कारण बन सकता है, जिससे गठिया के लक्षण बढ़ सकते हैं।

Poor gut health arthritis ka bhi karan ban sakti hai
खराब गट हेल्थ अर्थराइटिस का भी कारण बन सकती है। चित्र शटरस्टॉक।

आंत के स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले कारक

एंटीबायोटिक का उपयोग, तनाव, विशिष्ट आहार और आनुवंशिक प्रवृत्ति सहित कई कारक, आंत माइक्रोबायोम के संतुलन को बिगाड़ सकते हैं। ये कारक आपके आंत में बैक्टीरिया के संतुलन को बिगाड़ सकते हैं, जिससे डिस्बिओसिस हो सकता है। उदाहरण के लिए प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों (processed foods) में उच्च और फाइबर में कम आहार लाभकारी आंत बैक्टीरिया की विविधता और प्रचुरता पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

क्या है आपके पेट और जोड़ों का कनेक्शन (The Gut-Joint Axis)

गट जॉइंट एक्सिस दरअसल आंत और जोड़ों के बीच दोनों दिशाओं से संचार को कहते हैं। आंत माइक्रोबायोम में व्यवधान प्रतिरक्षा प्रणाली की प्रतिक्रिया को प्रभावित कर सकता है, जिससे प्रणालीगत सूजन हो सकती है। यह जोड़ों सहित शरीर के विभिन्न हिस्सों को प्रभावित कर सकती है। इसके अलावा आंत माइक्रोबायोटा के कारण सूजन पैदा करने वाले पदार्थ रक्तप्रवाह में प्रवेश कर सकते हैं और जोड़ों में सूजन और क्षति को पैदा सकते हैं।

प्रोबायोटिक्स और प्रीबायोटिक्स हो सकते हैं  मददगार 

कई अध्ययनों में आंत स्वास्थ्य और गठिया के बीच संबंधों पर प्रकाश डाला गया है। जानवरों के अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया है कि आंत माइक्रोबायोम में हेरफेर करने से गठिया के लक्षणों को कम किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, प्रोबायोटिक्स और प्रीबायोटिक्स आंत के संतुलन को बहाल करने और जोड़ों की सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं।

metabolism ko badhaate hain probiotics
प्रोबायोटिक्स के द्वारा गट हेल्थ में सुधार कर अर्थराइटिस के दर्द को कंट्रोल किया जा सकता है। चित्र : शटरस्टॉक

बैक्टीरिया 2020 में नेचर कम्युनिकेशंस जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में 218 व्यक्तियों के मल के नमूनों की जांच की गई थी। जिनमें स्वस्थ नियंत्रण और रुमेटाइड गठिया (RA) के रोगी शामिल थे। शोधकर्ताओं ने पाया कि आरए वाले व्यक्तियों में स्वस्थ नियंत्रण की तुलना में आंत माइक्रोबायोम संरचना काफी भिन्न थी। यह इस धारणा का समर्थन करता है कि आंत डिस्बिओसिस आरए के रोगजनन में शामिल हो सकता है।

शोध भी कर रहे हैं समर्थन (Research on Arthritis and gut health)

2015 में आर्थराइटिस एंड रुमेटोलॉजी जर्नल में प्रकाशित एक अलग अध्ययन में आंत की पारगम्यता (permeability) और गठिया के बीच संबंधों की जांच की गई। शोधकर्ताओं ने पाया कि शुरुआती गठिया के रोगियों में स्वस्थ नियंत्रण की तुलना में आंत की पारगम्यता बढ़ गई थी।

उच्च आंत पारगम्यता के कारण हानिकारक पदार्थों रक्तप्रवाह में प्रवेश करते हैं, संभावित रूप से इससे सूजन बढ़ सकती है और गठिया की समस्या बढ़ जाती है।

2017 में ऑटोइम्यूनिटी रिव्यूज़ जर्नल में प्रकाशित एक संरचित समीक्षा और मेटा-विश्लेषण ने कई अध्ययनों से डेटा का विश्लेषण किया और आंत डिस्बिओसिस और रूमेटोइड गठिया के विकास के जोखिम के बीच एक महत्वपूर्ण संबंध पाया। समीक्षा में 4,000 से अधिक प्रतिभागियों को शामिल किया गया, जो आंत और गठिया के बीच कनेक्शन के लिए मजबूत सांख्यिकीय साक्ष्य प्रदान करते हैं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

गट माइक्रोबायोम में सुधार कम कर सकता है गठिया का जोखिम 

आंत स्वास्थ्य और गठिया के बीच जटिल संबंध को पूरी तरह से समझने के लिए अधिक शोध की आवश्यकता है। अब तक के निष्कर्षों से पता चलता है कि आंत माइक्रोबायोम को लक्षित करना गठिया की रोकथाम और उपचार के लिए एक संभावित तरीका हो सकता है। आहार में संशोधन, प्रोबायोटिक्स या अन्य हस्तक्षेपों के माध्यम से स्वस्थ आंत माइक्रोबायोम को बढ़ावा देकर, सूजन को कम करना और गठिया की प्रगति को धीमा करना संभव हो सकता है।

निष्कर्ष (Conclusion)

आंतों के स्वास्थ्य और गठिया के बीच संबंध (Arthritis and gut health) अध्ययन का एक दिलचस्प विषय है। यद्यपि निश्चित रूप से कारण-और-प्रभाव संबंध स्थापित करने के लिए आगे और भी शोध की आवश्यकता है, लेकिन उपलब्ध साक्ष्य बताते हैं कि आंत माइक्रोबायोटा (आंत के बैक्टेरिया) में परिवर्तन गठिया की शुरुआत और प्रगति में प्रमुख भूमिका निभा सकते हैं।

arthritis ko ke karano ko samajhna bhi zaruri hai
अर्थराइटिस को कंट्रोल करने के लिए उसके कारणों को जानना सबसे ज्यादा जरूरी है। चित्र : शटरस्टॉक

आंत के स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले कारकों को समझने और उनका समाधान करने से हम गठिया से पीड़ित लोगों के लिए परिणामों में सुधार कर सकते हैं और संभवतः इसकी शुरुआत से भी बच सकते हैं। इस क्षेत्र में अधिक शोध से गठिया के इलाज और प्रबंधन के तरीके को बदला जा सकता है।

यह भी पढ़ें – ये 4 संकेत बताते हैं कि आपको है गट हेल्थ पर तुरंत ध्यान देने की जरूरत, जानिए इसके लिए जरूरी उपाय

  • 132
लेखक के बारे में

Dr. B Vikas Reddy is MS (Orthopaedics), Consultant Orthopaedic Surgeon at Omni Hospitals, Kukatpally, Hyderabad, Telangana ...और पढ़ें

अगला लेख