उपचार के साथ-साथ परेहज और घरेलू उपाय भी हैं पाइल्स से छुटकारा दिलाने में मददगार, जानिए कैसे

यह एक दर्दनाक स्थिति हो सकती है, जब आपके लिए मलत्याग करना चुनाैतीपूर्ण हो सकता है। पर इससे घबराने की बजाए आपको अपने आहार और दैनिक आदतों का ध्यान रखना होगा।

janiye piles ke upaay
बवासीर से राहत पाने के लिए यहां 5 टिप्स दिए गए हैं। चित्र : शटरस्टॉक
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Published on: 13 September 2022, 09:00 am IST
  • 131

बवासीर को पाइल्स (Piles) के रूप में भी जाना जाता है। यह गुदा क्षेत्र में सूजी हुई नसों के कारण होता है। हालांकि यह अपनी सामान्य अवस्था में यह क्षेत्र मल के मार्ग को नियंत्रित करने के लिए कुशन के रूप में कार्य करता है। पर बवासीर की स्थिति में इनमें सूजन आ जाती है। ऐसा क्यों होता है, इसका सटीक कारण अभी भी अज्ञात है। पर ज्यादातर विशेषज्ञ ऐसा मानते हैं कि मलत्याग के दौरान गुदा क्षेत्र में दबाव बढ़ाने वाले कारक बवासीर के लिए जिम्मेदार होते हैं। यह ऐसी समस्या है, जिससे कई लोग जूझते हैं और इससे उन्हें उठने-बैठने और चलने में भी काफी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

क्या हो सकते हैं पाइल्स के कारण?

बवासीर में योगदान करने वाले कई कारक हो सकते हैं:

पोषण संबंधी कारक (लो फाइबर आहार)
इरेगुलर गट हैबिट्स (कब्ज या दस्त)
नियमित व्यायाम की कमी
जेनेटिक्स
पेल्विक फ्लोर डिसफंक्शन
लंबे समय तक बैठे रहना
मोटापा

बवासीर जैसी समस्या में कई लोग घर के बने चूर्ण या औषधि (Herbs) भी लेते हैं। मगर इस गंभीर समस्या में यह जानना ज़रूरी है कि क्या घरेलू उपचार काम आ सकते हैं या यह स्थिति को और खराब कर देंगे।

इस विषय पर अधिक जानने के लिए हमने पोषण विशेषज्ञ और न्यूट्रीशन बाय अनुष्का की संस्थापक, अनुष्का भोज से बात की। वे मानती हैं कि पाइल्स व्यायाम की कमी, जंक फूड, चाय या कॉफी का अधिक सेवन और एक गतिहीन जीवन शैली के कारण हो सकती है। इसलिए इसमें डॉक्टर के इलाज के साथ परहेज और घरेलू उपचार की भी जरूरत होती है।

अनुष्का यहां उन फूड्स के बारे में बता रहीं हैं, जो बवासीर के इलाज में मदद कर सकते हैं

1 अलसी

फाइबर में उच्च, अलसी एक शानदार प्राकृतिक रेचक के रूप में काम करती है। वे मल को नरम कर सकती हैं और बवासीर में मल त्याग में मदद कर सकती है। आप रोजाना 1 टेबलस्पून अलसी के पाउडर का सेवन कर सकती हैं। अलसी का सेवन करते समय पर्याप्त मात्रा में पानी पीना जरूरी है।

2 एलोवेरा

एलोवेरा में मौजूद ग्लाइकोप्रोटीन और पॉलीसेकेराइड इसे एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण देते हैं। यह बवासीर को ठीक करने का एक शानदार तरीका हो सकता है। पाइल्स से छुटकारा पाने के लिए आप एलोवेरा जूस का सेवन कर सकती हैं और सूजन और संक्रमण को कम करने के लिए इसे ऊपर से भी लगा सकती हैं।

Ghee ke fayade
आपकी सेहत के लिए अच्छा है घी. चित्र : शटरस्टॉक

3 घी

अपने आहार में अच्छे वसा को शामिल करना बवासीर को ठीक करने का एक शानदार तरीका है। घी आवश्यक फैटी एसिड का एक बड़ा स्रोत है। यह पाचन तंत्र को चिकनाई देता है, जिससे मल त्याग करना आसान हो जाता है।

पाइल्स के उपचार में ये टिप्स भी कर सकती हैं मदद

उच्च फाइबर आहार का पालन करें। फाइबर आपके मल को नरम करने में मदद करता है।

नियमित रूप से खूब सारे तरल पदार्थ पिएं।

ईसबगोल की भूसी 2 चम्मच रात को गर्म पानी के साथ लें। इससे आपको आराम मिलेगा।

जब भी शौच की आवश्यकता महसूस हो जरूर जाएं। मल को नियंत्रित करने की आदत स्थिति को और ज्यादा बिगाड़ सकती है।

सही वजन बनाए रखने का प्रयास करें।

यह भी पढ़ें : दवाइयों के साथ आज़माएं ये 5 घरेलू उपाय और टाइफाइड से पाएं छुटकारा

  • 131
लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory