हड्डियां अटकती हैं या उनमें से आने लगी है आवाज़, तो बढ़ती उम्र के साथ इस तरह रखें बोन हेल्थ का ध्यान

हड्डियां आपके शरीर का ढांचा मात्र नहीं हैं, ये आपको एक्टिव बनाए रखने और आकर्षक दिखने में मदद करती हैं। उम्र बढ़ने के साथ ये कमजोर न हों, इसके लिए जरूरी है कुछ चीजों का ध्यान रखना।
कैल्शियम हड्डियों के लिए बहुत जरूरी है ये उनका मुख्य निर्माण खंड है। चित्र- अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Published: 2 Jul 2024, 10:23 am IST
  • 125

हड्डियां हमारे शरीर का बहुत जरूरी हिस्सा है। हम सभी ने बचपन में हड्डियों के कंकाल के बारे में पढ़ा है। जब भी हड्डियों (Bones) की बात आती है, तो हमारे जहन में वही कंकाल आने लगता है। लेकिन हड्डियां इनसे बहुत अलग है। सच्चाई आपकी कल्पना से बहुत अलग है। आपकी हड्डियां जीवन भर सक्रिय रहने की कोशिश करती हैं। समस्या यह है कि जैसे-जैसे आप बड़े होते जाते हैं, उन्हें बनाए रखना कठिन होता जाता है।

लेकिन इससे आपको निराश होने की जरूरत बिल्कुल भी नहीं है क्योंकि आपके पास अपनी हड्डियों की केयर करने के बहुत सारे तरीके है। चाहे आपकी उम्र कुछ भी हो। आप क्या खाते हैं और कितना व्यायाम करते हैं, इससे बहुत फ़र्क पड़ सकता है। आप अपने खान पान और लाइफस्टाइल को ध्यान में रखकर आपनी हड्डियों का बचा सकते है।

हड्डियां क्या हैं और वे कैसे काम करती हैं (What is bone)

आपकी हड्डियां जीवित टिशू (bone tissues) से भरी होती हैं जो आपको स्वस्थ रखने के लिए हमेशा काम करती हैं। हड्डियां आपके पूरे शरीर को सहारा देता है और आपके कुछ अंगों की सुरक्षा करती है। ये टिशू आपके शरीर के लिए ज़रूरी खनिजों को जमा करने का काम भी करते है।

bone health ko bnaye rakhen
ऐसे कौन से खाद्य पदार्थ हैं, जो आपकी हड्डियों के लिए हानिकारक हो सकते हैं (bone damaging foods)। चित्र शटरस्टॉक

हड्डियां खुद को नया करने का काम भी कर सकती है। जैसे-जैसे पुरानी हड्डी की कोशिकाएं टूटती हैं, नई कोशिकाएं उनकी जगह लेती हैं। आपके बचपन और किशोरावस्था के दौरान, आपका शरीर जितनी हड्डी की कोशिकाएं खोता है, उससे ज़्यादा उन्हें बदल देता है। जैसे-जैसे आप बड़े होते हैं, आपकी हड्डियां भी बड़ी और घनी होती जाती हैं।

आपके 30 साल होने तक, आपका शरीर अपने अधिकतम बोन मास तक पहुंच जाता है। जैसे-जैसे आप 40 के होते है और उससे आगे बढ़ते हैं, आपकी हड्डी की कोशिकाएं बदलने की तुलना में तेज़ी से टूटने लगती हैं। और आप हड्डियों की डेनसिटी खोना शुरू कर देते हैं।

कई लोगों में बुढ़ापे तक आते आते हड्डियां बहुत कमजोर हो जाती है। इससे ऑस्टियोपोरोसिस होने का खतरा बढ़ जाता है। गिरना ज़्यादा ख़तरनाक हो जाता है। अगर आप गिरते हैं तो आपकी हड्डी टूटने की संभावना ज़्यादा होती है।

बढ़ती उम्र में बोन हेल्थ के लिए इन 4 चीजों पर दें ध्यान (how to make bones and joints strong)

1 पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम और विटामिन डी लें (Vitamin D)

कैल्शियम हड्डियों के लिए बहुत जरूरी है ये उनका मुख्य निर्माण खंड है। विटामिन डी शरीर को कैल्शियम को अवशोषित करने में मदद करता है। अपने आहार में कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करना बहुत जरूरी है। इस पोषक तत्व के पर्याप्त स्तर को बनाए रखने के लिए नियमित रूप से धूप लें या विटामिन डी सप्लीमेंट लें।

2 नियमित रूप से व्यायाम करें (regular exercise)

वजन उठाने वाले व्यायाम जैसे चलना, जॉगिंग, सीढ़ियां चढ़ना, डांस करना और वजन उठाना हड्डियों के घनत्व को बनाए रखने और हड्डियों के नुकसान को रोकने में मदद करता है। इसके लिए आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। आपके डॉक्टर आपके लिए कौन की एक्सरसाइज अच्छी होगी इसकी सलाह दे सकते है।

haddiyon ko majbuti de
महिलाओं को अपने हड्डियों के स्वास्थ्य के बारे में अतिरिक्त सावधानी बरतने की आवश्यकता है. चित्र : शटरस्टॉक

3 जीवनशैली की खराब आदतें बदलें (lifestyle changes)

आपकी लाइफस्टाइल मे कई ऐसी आदतें होती है जो आपके स्वास्थ्य के लिए खराब हो सकती है। उनमें से धूम्रपान और शराब पीना दो ऐसी आदतें हैं जो हेलथ के लिए काफी खराब है। धूम्रपान से हड्डियों के नुकसान और फ्रैक्चर का खतरा बढ़ जाता है, और अत्यधिक शराब का सेवन भी हड्डियों के नुकसान का कारण बन सकता है।

4 अपना वजन कंट्रोल करें (control your weight)

आपकी हड्डियों पर बहुत ज़्यादा वजन हड्डियों के डेनसिटी को कम कर सकता है। जबकि आपको अपनी हड्डियों की सुरक्षा के लिए पहले से ही रोज़ाना व्यायाम करना चाहिए, अपनी हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए आपको आपना वजन कम रखने की जरूरत भी होती है। इसलिए आप जो खा रहें है उसका ध्यान रखें।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

ये भी पढ़े- पेट की चर्बी से लेकर स्किन की ड्राईनेस तक, इन 6 तरह से आपका शरीर देता है बीमारी के संकेत

  • 125
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख