CPR : हार्ट अटैक होने पर जीवन बचा सकती है यह तकनीक, जानिए इस बारे में सब कुछ

Published on: 6 June 2022, 20:01 pm IST

हाल की चिकित्सा रिपोर्टों में दावा किया गया है कि अगर समय पर सीपीआर दिया जाता, तो केके को बचाया जा सकता था। ऐसे में आपके लिए भी यह जानना बहुत महत्वपूर्ण है कि सीपीआर कैसे देते हैं।

kaise karein CPR test
किसी का CPR टेस्ट कैसे करें. चित्र : शटरस्टॉक

मीडिया रिपोर्टों के हवाले से एक चिकित्सा विशेषज्ञ के अनुसार, गायक केके को समय पर कार्डियोपल्मोनरी रिससिटेशन या सीपीआर मिला होता, तो उन्हें बचाया जा सकता था। हृदय गति रुकने के कारण लोकप्रिय गायक के आकस्मिक निधन ने सभी का इस ओर ध्यान आकर्षित किया है। तो आप भी जानिए कि सीपीआर कैसे किया जा सकता है।

सीपीआर क्या है? (What is CPR)

यह एक आपातकालीन प्रक्रिया है जो आर्टीफिशियल वेंटिलेशन के साथ छाती के संकुचन को जोड़ती है। यह मस्तिष्क कार्य को संरक्षित करने के लिए किया जाता है जब तक कि हार्ट अटैक से पीड़ित व्यक्ति में फिर से ब्लड सरक्यूलेशन न शुरू हो जाए।

एशियाई आयुर्विज्ञान संस्थान के निदेशक और प्रमुख – कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. मोहन नायर, ने हेल्थशॉट्स को बताते हैं कि “सीपीआर एक बहुत ही सरल प्रक्रिया है। इसके लिए आपको बस रोगी को एक सपाट सतह पर लेटा देना है और अपने हाथों सीने पर, एक के ऊपर एक रखकर 100-120 बीट प्रति मिनट की दर से नियमित रूप से पंप करना है।”

सीपीआर कैसे करें?

अमेरिकन रेड क्रॉस के अनुसार, सीपीआर इस प्रकार होता है:

यदि आप किसी व्यक्ति पर सीपीआर करना चाहते हैं, तो पहले पीपीई किट का उपयोग करें।

 Kaise karein cpr
जानिए कैसे करें सीपीआर । चित्र : शटरस्टॉक

यदि व्यक्ति जख्मी है, तो सांस लेने या किसी जानलेवा रक्तस्राव की जांच करें। यदि व्यक्ति अभी भी प्रतिक्रिया नहीं कर रहा है और सांस नहीं ले रहा है लेकिन केवल हांफ रहा है, तो तुरंत चिकित्सा सहायता के लिए कॉल करें या किसी को ऐसा करने के लिए कहें।

तब तक व्यक्ति को उसकी पीठ के बल किसी समतल सतह पर रखें

इसके बाद, छाती पर अपने दो हाथों से छाती को 30 बार पंप करें। कंधे सीधे हाथों के ऊपर होने चाहिए और कोहनी 100 से 120 प्रति मिनट की दर से पंप करनी चाहिए। इसके अलावा, प्रत्येक पंप के बाद छाती को सामान्य स्थिति में लौटने दें।

वायुमार्ग को खोलने के लिए मुंह से 2 सांसें दें। सुनिश्चित करें कि प्रत्येक सांस 1 सेकंड तक चले और छाती को ऊपर उठाएं। अगला ब्रेक देने से पहले हवा छोडें।

30 चेस्ट पंप और 2 सांसों के सेट को दोहराएं।

रोगी के आसपास के अधिकांश लोगों को यह नहीं पता होता है कि ऐसे मामलों में क्या करना चाहिए। सीपीआर प्रशिक्षण के महत्व पर जोर देते हुए, डॉ नायर ने कहा, “कार्डियक अरेस्ट कहीं भी हो सकता है और यह किसी को भी प्रभावित कर सकता है। इसलिए हम सभी को कम से कम इस बुनियादी जीवन समर्थन प्रक्रिया के लिए, केवल चिकित्सा कर्मियों के अलावा, पुलिसकर्मी, स्कूली बच्चे, कॉलेज जाने वाले युवाओं को सिखाने की आवश्यकता है।

“अगर 3 मिनट से कम समय में सीपीआर नहीं दिया जाता है और रक्त संचार नहीं सही होता है, तो रोगी की मृत्यु हो सकती है। यदि उसे सीपीआर या तत्काल चिकित्सा सहायता दी जाती, तो उच्च संभावना है कि उसे बचाया जा सकता है । ”

Apne hriday swaasty ka khyal rakhein
अपने हृदय स्वास्थ्य का ख्याल रखें। चित्र : शटरस्टॉक

कार्डिएक अरेस्ट के लक्षण क्या हैं

कार्डियक अरेस्ट के चेतावनी संकेत निम्नलिखित हैं:

बिना वजह पसीना आना
छाती में कसाव महसोसो करना
छाती में दर्द
बेहोशी का अहसास

डॉ नायर के अनुसार – ”यदि आपको हार्ट अटैक आ रहा है और आपके पास कोई नहीं है तो एक डिस्प्रिन टैबलेट लें। इसके अलावा, हमेशा अपने साथ इमरजेंसी नंबर रखें।

एक निश्चित उम्र के बाद लोगों को नियमित रूप से हृदय स्वास्थ्य की जांच करानी चाहिए। अधिकांश शिक्षित लोग सोचते हैं कि सीने में दर्द सूजन या पाचन समस्याओं के कारण हो सकता है और वे इसके बजाय एंटासिड लेते हैं। इसलिए किसी भी चेतावनी के संकेत को बिल्कुल भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।

यह भी पढ़ें  : इन 10 टिप्स को फॉलो करेंगी तो बिस्तर पर पड़ते ही आ जाएगी नींद 

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें