क्या पाचन संबंधी समस्याएं बन गई हैं परेशानी का सबब, तो इन 5 तरीकों से अपनी आतों को करें डिटॉक्स

एक खराब पाचन क्रिया पूरे शरीर को प्रभावित कर सकता है। ऐसे मे अपनी आंतों का ध्यान रखना जरूरी है। तो आतों को डिटॉक्स करने में मदद करेंगे यह 5 घरेलू उपचार।
Kacche aam se digestion ko karein boost
फाइबर से भरपूर कच्चा आम का मुरब्बा खाने से ब्लोटिंग, कब्ज और ऐंठन की समस्या हल हो जाती है। चित्र: शटरस्टॉक
अंजलि कुमारी Updated: 16 Dec 2022, 12:32 pm IST
  • 128

आजकल की लाइफ स्टाइल और गलत खान-पान के कारण ज्यादातर लोगों को पाचन संबंधी समस्या की शिकायत रहती है। ऐसे में पाचन क्रिया को संतुलित रखने के लिए सबसे जरूरी है आतों का स्वस्थ रहना। जंक फूड, प्रोसेस्ड फ़ूड और फ्राइड फूड्स के अधिक सेवन से हमारी आंतो में टॉक्सिन जमा हो जाते हैं। इसका प्रभाव हमारी पाचन क्रिया पर पड़ता है और कब्ज, अपच, इत्यादि जैसी पेट से जुड़ी समस्याएं देखने को मिलती हैं। ऐसे में इसे डिटॉक्स करना बहुत जरूरी है। अब आप सोच रही होंगी कि आखिर आंतों को डिटॉक्स कैसे करें! तो चिंता की बात नहीं है। हम लेकर आए हैं ऐसे 5 घरेलू उपचार (home remedies to detox intestine) जो इसमें आपकी मदद कर सकते हैं।

भारतीय योगा गुरु, योगा इंस्टीट्यूट की डायरेक्टर और टीवी की जानी-मानी हस्ती डॉक्टर हंसाजी योगेंद्र ने इंटेस्टाइन को डिटॉक्स करने के कुछ प्रभावी घरेलू उपचार बताये हैं तो चलिए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से।

यहां जाने इंटेस्टाइन को डिटॉक्स करने के कुछ प्रभावी घरेलू उपचार

1. खुद को हाइड्रेटेड रखें

पर्याप्त मात्रा में पानी पीना पाचन क्रिया को संतुलित रखने का एक सबसे प्रभावी तरीका है। इसके साथ ही नेशनल लाइब्रेरी ऑफ़ मेडिसिन द्वारा किए गए रिसर्च के अनुसार गुनगुने पानी के सेवन को पाचन क्रिया के लिए काफी फायदेमंद बताया गया है। ऐसे में इंटेस्टाइन को डिटॉक्स करने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी पियें।

zyaada bhookh ke kaaran
खुदको हाइड्रेटेड रखें। चित्र: शटरस्टॉक

साथ ही टमाटर, तरबूज, इत्यादि जैसे पानी से युक्त फल और सब्जियों का सेवन करें। यह सभी चीजें प्राकृतिक रूप से आपके इंटेस्टाइन को क्लीन करने में मदद करेंगी।

2. फाइबर से युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन रहेगा असरदार

अपने नियमित डाइट में फाइबर से युक्त खाद्य पदार्थों को जरूर शामिल करें। इंटेस्टाइन को डिटॉक्स करने के लिए प्लांट फूड्स जैसे कि फ्रूट, वेजिटेबल, ग्रेंस, नट्स, सीड्स, इत्यादि एक बेहतरीन विकल्प साबित हो सकते हैं। नेशनल लाइब्रेरी ऑफ़ मेडिसिन द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार प्लांट फूड्स में सैलूलोज और फाइबर की भरपूर मात्रा मौजूद होती है। जो इंटेस्टाइन में मौजूद टॉक्सिंस से निजात पाने में मदद करते हैं और कब्ज इत्यादि जैसी समस्याओं में फायदेमंद होते हैं। इसके साथ ही यह गुड बैक्टीरिया की संख्या को बढ़ा देते हैं।

3. प्रोबायोटिक है जरूरी

इंटेस्टाइन को डिटॉक्स करने के लिए अपनी डाइट में प्रोबायोटिक्स को जरूर शामिल करें। यह न केवल आपके पाचन क्रिया को संतुलित रखता है बल्कि आपकी समग्र सेहत के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है। इसके लिए आप घर पर बने प्रोबायोटिक से युक्त दही, किमची, अचार, कांजी, बटर्मिल्क, इत्यादि को अपनी डाइट में शामिल कर सकती हैं।

पब मेड सेंट्रल द्वारा किये गए अध्ययन के अनुसार प्रोबायोटिक्स आपकी आंतो में गुड बैक्टीरिया के प्रोडक्शन को बढ़ा देता है। ऐसे में पाचन क्रिया पूरी तरह एक्टिव हो जाती है। साथ ही साथ टॉक्सिंस को भी बाहर निकालने में मदद करती है।

fal khaane ke fayde
खट्टे फल खाने से एसिडिटी सहित इनडाइजेशन के कई प्रॉब्लम हो सकते हैं। चित्र : शटरस्टॉक

4. जूस और स्मूदी भी रहेगी फायदेमंद

सब्जियों का जूस इंटेस्टाइन को डिटॉक्स करने के लिए फायदेमंद माना जाता है। इसके साथ ही एप्पल, ऑरेंज, लेमन जूस भी काफी फायदेमंद होते हैं। हालांकि, यदि इन्हें स्मूदी के तौर पर लिया जाए तो यह ज्यादा प्रभावी तरीके से काम कर सकते हैं।

जूस में फाइबर की मात्रा कम हो जाती है वहीं स्मूदी फल में मौजूद फाइबर की गुणवत्ता को कम नहीं करती। फाइबर एक संतुलित पाचन क्रिया के लिए बहुत जरूरी है।

5. ताजे फल का सेवन है जरूरी

अपने पूरे दिन में ब्रेकफास्ट या स्नैक्स में से किसी एक समय पर्याप्त मात्रा में फल लेना जरूरी है। इंटेस्टाइन को डिटॉक्स करने के लिए आप सेव, पपीता, संतरा, मौसमी और केला जैसे फलों को अपनी डाइट में शामिल कर सकती है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

इसके साथ ही पानी में या अन्य तरीकों से नींबू के रस को डाइट में शामिल करें। यह शरीर में फाइबर और विटामिन सी की मात्रा को बनाए रखेगा और आपके इंटेस्टाइनल टॉक्सिंस को बाहर निकालने में मदद करेगा।

यह भी पढ़ें : आपकी सेहत के लिए कमाल कर सकते हैं मटर के ये छोटे दाने, यहां जाने इसकी 2 लाजवाब रेसिपी

  • 128
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
अगला लेख