वैलनेस
स्टोर

बदलते मौसम में जरूरी है एलर्जिक राइनाइटिस से बचना, जानिए आयुर्वेद में क्‍या है इससे बचने का उपाय

Published on:24 April 2021, 18:00pm IST
द इंटरनेशनल स्टडी ऑफ एलर्जिक राइनाइटिस सर्वे 2018 के अनुसार, एलर्जिक राइनाइटिस 15% -25% के साथ एक वैश्विक स्वास्थ्य समस्या है, जो बच्चों, किशोरों और वयस्कों को किसी भी उम्र में प्रभावित कर सकती है।
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ
  • 82 Likes
रिपोर्ट नेगेटिव आने पर भी कोविड - 19 लक्षणों को कैसे समझें. चित्र : शटरस्टॉक

एलर्जी राइनाइटिस मानव जाति को प्रभावित करने वाली सबसे आम बीमारियों में से एक है। इसकी पुनरावृत्ति केवल तब होती है जब बैक्टीरिया पूरी तरह से समाप्त नहीं हुए होते हैं। ये बैक्टीरिया शरीर में अपनी निष्क्रिय अवस्था में मौजूद होते हैं और जब वे उत्तेजित कारकों के संपर्क में आते हैं, तो फिर से उसी बीमारी को जन्म दे सकते हैं। इसलिए जरूरी है कि आप इसके बचाव के उपायों के बारे में जान लें।

क्‍या कहते हैं अध्‍ययन

अमेरिकन एकेडमी ऑफ एलर्जी, अस्थमा और इम्यूनोलॉजी (American Academy of Allergy, Asthma & Immunology, AAAAI) के अनुसार, अमेरिका में लगभग 8 प्रतिशत वयस्क किसी न किसी तरह से एलर्जी राइनाइटिस (Allergic Rhinitis) का अनुभव करते हैं। दुनिया भर में 10 से 30 प्रतिशत लोगों में एलर्जिक राइनाइटिस होता है।

एलर्जिक राइनाइटिस क्या है?

ये एलर्जेन के कारण होता है, जो कि एक हानिरहित पदार्थ है और शरीर में एलर्जी की प्रतिक्रिया का कारण बनता है। एलर्जी राइनाइटिस, या हे फीवर, एलर्जी के लिए एक प्रतिक्रिया है। पोलन मौसमी एलर्जी राइनाइटिस में सबसे आम एलर्जी है। ये एलर्जिक लक्षण होते हैं, जो मौसम के बदलाव के साथ होते हैं।

क्‍या हैं एलर्जिक राइनाइटिस के लक्षण :

एलर्जिक राइनाइटिस शरीर को एलर्जेन से बचाने का तरीका है। किसी भी एलर्जी के संपर्क में आने पर, शरीर हिस्टामाइन छोड़ता है, जो संपर्क से बचाव के लिए प्राकृतिक रसायन हैं। यह हिस्टामाइन लक्षणों का कारण बनता है।

नाक बंद होने एलर्जी राइनाइटिस का लक्षण हो सकते हैं । चित्र: शटरस्‍टॉक

इसके लक्षणों में भरी हुई नाक, खांसी, गले में खराश, लगातार सिरदर्द, आंखों के नीचे काले घेरे, अत्यधिक थकान, पित्ती और एक्जिमा जैसे लक्षण शामिल हैं।

अब जानिए एलर्जिक राइनाइटिस के कारण :

एलर्जिक राइनाइटिस दो प्रकार के हो सकते हैं, मौसमी और जीर्ण। मौसमी राइनाइटिस ज्यादातर वसंत और शरद ऋतु में होता है, जो बाहरी एलर्जी के कारण होता है। क्रोनिक राइनाइटिस वर्ष के दौरान कभी भी हो सकता है और ज्यादातर घर के पेंट, स्प्रे, या धूल के कण जैसे इनडोर पदार्थों के कारण होता है।

तापमान में उतार-चढ़ाव, अचानक ठंड, आर्द्रता, सिगरेट के धुएं के संपर्क में आना, हेयर स्प्रे, इत्र, कोलोन, लकड़ी / कोयले के धुएं या धुएं के कारण कुछ अन्य कारक एलर्जी राइनाइटिस को बढ़ा सकते हैं।

एलर्जिक राइनाइटिस को दूर करने के लिए आप इन आयुर्वेदिक उपायों को अपना सकते हैं लेकिन, चिकत्सीय सलाह बेहद ज़रूरी है :

1. एलर्जिक राइनाइटिस होने पर आयुर्वेद में हल्का भोजन करने की सलाह दी जाती है। साथ ही, आहार में गुनगुना पानी, सेंधा नमक और फलियां शामिल करने से स्थिति में सुधार होता हैं।

2. काली मिर्च पाउडर का 1/4 चम्मच, वाइन रूट पाउडर का 1/2 चम्मच, ताजा कसा हुआ अदरक का 1.5 चम्मच और 10-12 तुलसी के पत्तों को एक कप पानी में मिलाएं। इसे आधा होने तक उबालें। चाय और कॉफी के विकल्प के रूप में सुबह और शाम गुनगुना करके पिएं।

एलर्जी राइनाइटिस के लक्षण दिखने पर चाय में लौंग और तुलसी का इस्तेमाल करें . चित्र : शटरस्टॉक

3. कषाय पाउडर – हल्का भुना, 1 कप धनिया के बीज, 1/2 कप जीरा, 1/4 कप सौंफ के बीज और 1 बड़ा चम्मच काली मिर्च, 1 बड़ा चम्मच मेथी दाना। बारीक पीसकर स्टोर करें। 1/2 कप दूध और पानी, और 1/2 चम्मच कषाय पाउडर को उबालकर चाय बनाएं। गैस बंद करें और स्वादानुसार गुड़ पाउडर डालें। इसे रोज सुबह पियें आपकी एलर्जी ठीक होने लगेगी।

4. 1/2 चम्मच हल्दी पाउडर को एक चुटकी नमक के साथ उबालकर पीने से लक्षण कम होते हैं।

5. आंवला पाउडर को 1 चम्मच शहद के साथ दिन में दो बार लें। इससे जुकाम-खांसी में राहत मिलेगी।

6. हमेशा अपने साथ कुछ लौंग और काली मिर्च रखें। जब भी आपको कोई मामूली लक्षण महसूस हो, तो मुंह में दो टुकड़े डाल लें। इससे आपको इंस्टेंट रिलीफ मिलेगा। इसके अलावा नीलगिरी तेल को अपनी छाती पर नियमित लगाएं।

एलर्जिक राइनाइटिस से बचने के लिए अपने आहार-विहार में सुधार बेहद महत्वपूर्ण है। इसके लिए ये आयुर्वेदिक टिप्स फॉलो कर सकती हैं :

जंक और गलत फूड कॉम्बिनेशन खाने से बचें और बासी भोजन का सेवन न करें।

गेहूं, डेयरी, परिष्कृत चीनी, आलू, टमाटर, केले, संतरे और मिर्च जैसे खाद्य पदार्थों से बचें या नियंत्रित करें।

एलर्जी राइनाइटिस में टमाटर खाने से बचें। चित्र- शटरस्टॉक।

इष्टतम स्वास्थ्य और कल्याण को बढ़ाने के लिए नियमित व्यायाम और विश्राम के लिए समय निकालें।

हमेशा गर्म पानी के स्नान को प्राथमिकता दें

तेज धूप के संपर्क में आने से बचें

नियमित भोजन का पालन करें और भोजन को छोड़ें नहीं।

प्रभावी पाचन के लिए धीरे-धीरे खाएं और ठीक से चबाएं।

खुले में न सोएं।

यह भी पढ़ें : क्या शरीर में प्राकृतिक तरीकों से बढ़ाई जा सकती है ऑक्सीजन? आइए जानते हैं इसके 5 उपाय

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।