हृदय स्वास्थ्य के लिए जोखिम बढ़ा सकता है रेड मीट, जानिए इसके साइड इफेक्ट

Published on: 28 June 2022, 08:00 am IST

खानपान सभी की अपनी निजी पसंद है। इसके बावजूद आपको यह पता होना चाहिए कि आप जो खा रहीं हैं, उसका आपके स्वास्थ्य पर क्या असर होने वाला है।

garmi men red meat nuksandeh haian
बरसात में नॉन वेज खाने से रखें परहेज। चित्र : शटरस्टॉक

यदि आप भी रेड मीट खाने का शौक रखती हैं, तो आपको थोड़ा सावधान हो जाना चाहिए। कई शोध इस बात का दावा करते हैं कि रेड मीट का ज्यादा सेवन स्वास्थ्य संबंधी जोखिमों को बढ़ा सकता है। आप भले ही इसके साथ ताजी सब्जियां या सलाद ले रहीं हो, पर इसके बावजूद इससे होने वाले जोखिम कम नहीं होते। आइए जानते हैं इस बारे में विस्तार से।

हो सकता है कि आपको भी अन्य लोगों की तरह अपने बर्गर में पोर्क या बीफ स्लाइस बहुत पसंद हो, लेकिन इसका ज़्यादा सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो सकता है।

पहले जानिए क्या है रेड मीट

रेड मीट सिर्फ स्तनधारियों (Mammals) के मांस को कहा जाता है। जिनमें गाय, भैंस, भेड़ और सूअर का मांस शामिल है। इसे रेड मीट कहने की मुख्य वजह यही होती है कि ये दिखने (कच्चे रूप में) में लाल होता है। इनका सेवन आपको सोच समझकर करना चाहिए। क्योंकि, इसकी वजह से जोड़ों के दर्द, सूजन और फैटी लिवर डिजीज जैसी कई समस्याएं हो सकती हैं। इतना ही नहीं, हाल ही में हुये एक शोध नें लाल मांस में मौजूद तत्वों को कार्डियोवैस्कुलर बीमारी के बढ़ते जोखिम से जोड़ा है, जिसका अर्थ है कि इस भोजन को कम करने से हृदय स्वास्थ्य पर भी महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है।

यहां हैं रेड मीट के स्वास्थ्य जोखिम

1 हृदय स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है

नेचर माइक्रोबायोलॉजी पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन में, क्लीवलैंड क्लिनिक के शोधकर्ताओं ने पाया कि लाल मांस में एक रसायन एल-कार्निटाइन की खपत ट्राइमेथिलैमाइन एन-ऑक्साइड (TMAO) के गठन में कैसे योगदान देती है। जो विभिन्न कार्डियोवैस्कुलर समस्याओं की एक श्रृंखला से जुड़ा हुआ है।

लगभग 3,000 प्रतिभागियों के प्लाज़्मा की जांच करने पर, कई प्रकार के मल के नमूनों के साथ, शोधकर्ताओं ने पाया कि जब रेड मीट के अणुओं को कुछ आंत बैक्टीरिया के साथ जोड़ा जाता है, तो पदार्थों के TMAO बनने की संभावना अधिक होती है, जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है।

Non-veg khane se bache
ऐसे समय मांसाहारी भोजन खाने से बचें। चित्र : शटरस्टॉक

पिछले अध्ययनों ने TMAO को धमनियों में बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल से जोड़ा है। इस प्रकार, यह न केवल हृदय रोग के जोखिम को बढ़ा सकता है, बल्कि आपके स्ट्रोक के जोखिम को भी बढ़ा सकता है। इसमें टाइप 2 मधुमेह भी शामिल है।

2 डायबिटीज़ का जोखिम भी बढ़ाता है रेड मीट?

2011 में, हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के एक अध्ययन में सामने आया कि रेड मीट खाने से टाइप 2 मधुमेह का खतरा बढ़ जाता है। एक दिन में 110 ग्राम से अधिक प्रोसेस्ड रेड मीट खाने वालों में मधुमेह का खतरा 20% अधिक था। प्रोसेस्ड मीट खाने वालों में से टाइप 2 डायबिटीज का खतरा 50% अधिक बढ़ गया।

हार्वर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ रेड मीट के सेवन नें और मृत्यु दर के बीच संबंध के बारे में पता लगाया है। उन्होंने हेल्थ प्रोफेशनल्स फॉलो-अप स्टडी (1986 में शुरू) से 37, 000 से अधिक पुरुषों और नर्सों के स्वास्थ्य अध्ययन (1980 से शुरू) से 83,000 से अधिक महिलाओं का अध्ययन किया। अध्ययन की शुरुआत में सभी प्रतिभागी हृदय रोग और कैंसर से मुक्त थे।

red meat
रेड मीट हानिकारक है। चित्र: शटरस्‍टॉक

3 रेड मीट घटा सकता है आपकी उम्र

एक नए अध्ययन से इस बात का प्रमाण मिलता है कि नियमित रूप से रेड मीट खाने से आपकी उम्र कम हो सकती है। ऐसे में रेड मीट के सेवन में कमी करना और अन्य प्रोटीन स्रोतों को बढ़ाना आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

कुक करते समय भी रखें खास ध्यान?

कच्चे रेड मीट में खतरनाक बैक्टीरिया हो सकते हैं। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि रेड मीट को उचित रूप से, पकाया जाए। कच्चे मांस को संभालने के बाद अपने हाथ धोएं और कच्चे मांस के लिए इस्तेमाल किए गए सभी बर्तन और क्रॉकरी को धो लें।

फूड पॉइजनिंग को होने से रोकने के लिए रेड मीट को एक से अधिक बार गर्म नहीं करना चाहिए। रेड मीट पकाते समय ध्यान रखें कि मांस के अंदर के बैक्टीरिया पूरी तरह पक जाएं।

यह भी पढ़ें : हाई ब्लड प्रेशर का कारण बन सकती है आपकी रेगुलर ब्रेड, हम बता रहे हैं कैसे

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें