ऐप में पढ़ें

शाेध बता रहे हैं डायबिटीज कंट्रोल करने के लिए कितना वजन घटाना है जरूरी

Published on:4 October 2021, 14:37pm IST
वेट लॉस आप क्यों करती हैं? परफेक्ट बॉडी शेप के लिए, स्लिम दिखने के लिए, फिटनेस और अन्य कारणों के लिए। परफेक्ट शेप में होने की वजह से आप कॉन्फिडेंट फील करती होंगी। लेकिन क्या आपको मालूम है कि वेट लॉस डायबिटीज कंट्रोल करने में भी आपकी मदद करता है।
Type 2 diabetes control karne ke liye weight loss karna bhi hai zaruri
टाइप 2 डायबिटीज कंट्रोल करने के लिए वेट लॉस करना भी है जरूरी। चित्र: शटरस्टॉक

डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है, जो तब होती है जब आपका ग्लूकोज, जिसे ब्लड शूगर भी कहा जाता है, बहुत अधिक हो जाता है। बल्ड ग्लूकोज आपकी उर्जा का मुख्य स्रोत होता है और आपके द्वारा खाए जाने वाले भोजन से आता है। लेकिन समय के साथ, आपके बल्ड में बहुत अधिक ग्लूकोज होने से सवास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। हालांकि डायबिटीज का कोई इलाज नहीं है। इसलिए इसे कंट्रोल करने और स्वस्थ रहने के लिए जानिए कि आपको कितना वजन कम करना है जरूरी।

वेट लॉस से आप डायबिटीज कंट्रोल कर सकती हैं

द लैसेंट पत्रिका के अध्ययन के अनुसार, शरीर के वजन में लगातार 15 प्रतिशत की कमी करने से डायबिटीज ( Diabetes) के टाइप 2 ( T2D) की समस्या से आप निजात पा सकती हैं। वेट लॉस (Weight Loss) डायबिटीज के प्रोग्रेस को धीमा करने और जटिलताओं को कम करने की क्षमता रखता है। आप अपना वेट लॉस कम कैलोरी (Calorie) वाले डाइट और हेवी एक्सरसाइज के माध्यम से कर सकती हैं।

मेलबर्न विश्वविद्यालय की सह- लेखिका डॉ प्रिया सुमित्रन का कहना है , “ वेट लॉस करके शरीर के वजन में 15 प्रतिशत की कमी करने से टाइप 2 डायबिटीज की प्रोग्रेस में रुकावट आती है। कभी – कभी तो कुछ रोगियों को इससे मुक्ति भी मिल जाती है।”

weight loss apko fit rahne me help kar sakta hai
वेट लॉस आपको फिट रहने में मदद कर सकता है। चित्र: शटरस्टॉक

टाइप 2 डायबिटीज के बारे में जानना है जरूरी

टाइप 2 मधुमेह हृदय रोग, स्ट्रोक व अंधेपन के जोखिम को बढ़ाता है। दुनिया भर में लगभग 400 मिलियन लोग इस बीमारी से प्रभावित हैं। टाइप 2 मधुमेह के इलाज की बात करें, तो इस बीमारी को जीवन शैली में सकारात्मक बदलाव और दवा के माध्यम से प्रबंधित किया जा सकता है।

इंसुलिन की जगह पोषक तत्वों को अपने खानपान में शामिल करें

अध्ययन के अनुसार, कुछ मरीजों को पोषण संबंधी सुझाव दिए गए और उनसे एक्सरसाइज करवाई गई। नतीजे के मुताबिक सिर्फ 10 किलो वजन कम करने वाले 10 फिसदी मरीजों को डायबिटीज की दवा लेने की जरुरत नहीं रही। 15 किलो कम करने वाले 86 फीसदी लोग दवा छोड़ने में सफल रहें।

वहीं एक मरीज ऐसा भी था, जो सिर्फ वजन घटाकर इंसुलिन से मुक्ति पाने में सफल रहा। डॉक्टर्स के मुताबिक डायबिटीज की मुख्य वजह अंगों और पेट में फैट जमा होना है। फैट जितना ज्यादा होगा, उतने ही ज्यादा इंसुलिन की जरुरत पड़ेगी। ज्यादा इंसुलिन होने की वजह से आपके शरीर में फैट स्टोरेज अधिक होगी। जो आपके लिए खतरनाक और जानलेवा है।

यहां हैं वे उपाय जो डायबिटीज कंट्रोल करने में आपकी मदद कर सकते हैं

1 सही खान-पान अपनाएं

मधुमेह के मरीज़ों को अपने खान-पान का खास ख़्याल रखना चाहिए। इसलिए, डॉक्टर डायबिटीज के लिए एक विशेष आहार चार्ट बनाते हैं और उसी के अनुरूप खान-पान की सलाह देते हैं। खाने में हरी पत्तीदार सब्ज़ियां, गाजर, टमाटर, संतरा, केला व अंगूर खा सकते हैं। इसके अलावा चीज़ और दही का भी सेवन करने की सलाह दी जाती है।

Healthy diet ke sath exercise bhi zaruri hai
हेल्दी डाइट के साथ एक्सरसाइज भी जरूरी है। चित्र: शटरस्टाॅक

2 व्यायाम

खाने-पीने के अलावा डॉक्टर व्यायाम और योगासन करने की भी राय देते हैं। फिज़िकल एक्टिविटी करने से ब्लड ग्लूकोज लेवल संतुलित रहता है और आपका शरीर स्वस्थ रहता है। डॉक्टर, डायबिटीज के मरीजों को चलने, सुबह की सैर और हल्का-फ़ुल्का व्यायाम करने की राय देते हैं। ये डायबिटीज के इलाज के सबसे आसान तरीके हैं।

3 दवाइयां

डायबिटीज के मरीजों को दवाइयाें की भी सलाह दी जाती है। डॉक्टर, मरीज की बीमारी के अनुसार ही दवाई देते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि बिना चिकित्सकीय परामर्श के कोई दवा न लें।

यह भी पढ़ें – क्या हार्ट अटैक में फर्स्ट एड के तौर पर दी जा सकती है एस्पिरिन? एक्सपर्ट दे रहे हैं इसका जवाब

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।