और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

क्या आयरन की कमी आपकी प्रजनन और सेक्स क्षमता को भी प्रभावित करती है

Updated on: 20 June 2021, 22:28pm IST
प्रजनन आयु में आपका समग्र स्वास्थ्य और भी ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाता है। खासतौर से आयरन की कमी आपके यौन संबंधों और प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित कर सकती है।
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ
  • 82 Likes
अपने प्रजनन स्‍वास्‍थ्‍य को बनाए रखने के लिए आपको आयरन की भरपूर मात्रा लेनी चाहिए। चित्र: शटरस्‍टॉक
अपने प्रजनन स्‍वास्‍थ्‍य को बनाए रखने के लिए आपको आयरन की भरपूर मात्रा लेनी चाहिए। चित्र: शटरस्‍टॉक

आयरन की कमी दुनिया भर में सबसे आम पोषक तत्वों की कमी है। 20% से अधिक महिलाओं में उनके प्रजनन के वर्षों में आयरन की कमी होती है। शरीर में आयरन की कमी कई समस्याएं पैदा कर सकती है, जिनमें से एक है आपकी खराब सेक्स लाइफ। यह कमी आमतौर पर महिला और पुरुष दोनों की सेक्सुअल लाइफ पर अलग-अलग तरह से असर डालती है।

अगर आप भी इस तरह की समस्या से गुजर रही हैं और आपको समझ नहीं आ रहा है कि इसकी क्या वजह हो सकती है, तो यह लेख आपके लिए है –

क्या है आयरन की कमी?

आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया का मतलब है कि आपके शरीर में पर्याप्त आयरन नहीं है। आपके शरीर को आपके रक्त के माध्यम से शरीर के सभी भागों में ऑक्सीजन ले जाने में मदद करने के लिए आयरन की आवश्यकता होती है।

एनीमिया पुरुषों की तुलना में महिलाओं को ज्यादा प्रभावित करता है और गर्भावस्था के दौरान अधिक आम है।

आयरन की कमी से जूझ रही महिलाओं की सेक्स लाइफ भी प्रभावित हो सकती है। चित्र- शटरस्टॉक।
आयरन की कमी से जूझ रही महिलाओं की सेक्स लाइफ भी प्रभावित हो सकती है। चित्र- शटरस्टॉक।

आयरन डेफिशिएंसी का महिलाओं के स्वास्थ्य पर प्रभाव

महिलाओं में बाल झड़ने से लेकर प्रजनन स्वास्थ्य तक, सबको प्रभावित करती है। इतना ही नहीं यह आपकी सेक्स लाइफ को भी प्रभावित करती है। ऐसा देखा गया है कि जिन महिलाओं के शरीर में आयरन की कमी होती है, उनमें यौन संबंधों को लेकर नीरसता आ जाती है। वे अपनी सेक्सुअल लाइफ को पूरी तरह एन्जॉय नहीं कर पाती। अगर आपको पीरियड्स के दौरान ब्लीडिंग कम या ज्यादा होती हैं, तो यह भी आयरन डेफिशिएंसी का एक लक्षण हो सकता है।

इस बारे में महत्वपूर्ण है यह अध्ययन

नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इनफार्मेशन के अनुसार एनीमिया (आयरन डेफिशिएंसी) प्रजनन स्वास्थ्य के लिए एक चिंता का कारण बन सकता है। आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया (आईडीए) दुनिया भर में एक सामान्य सूक्ष्म पोषक तत्व की कमी है।

यह विशेष रूप से प्रजनन आयु की महिलाओं में एक महत्वपूर्ण स्वास्थ्य समस्या है। एनीमिया आयरन डेफिशिएंसी चिंता का कारण बन सकता है, जो महिला यौन रोग (एफएसडी) का प्रमुख कारक है।

प्रजनन आयु की आईडीए महिलाओं में चिंता के साथ-साथ एफएसडी का भी खतरा होता है। आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया का उपचार अल्पावधि में इन महिला आबादी में यौन कार्यों में काफी सुधार कर सकता है।

आयरन की कमी से आपको प्रेगनेंसी में दिक्कत हो सकती है । चित्र : शटरस्टॉक
आयरन की कमी से आपको प्रेगनेंसी में दिक्कत हो सकती है । चित्र : शटरस्टॉक

प्रेगनेंसी और आयरन की कमी

मासिक धर्म के दौरान खून की कमी के कारण महिलाएं अपने प्रसव के वर्षों में आयरन की कमी के लिए अधिक जोखिम में होती हैं। सेंटर फॉर प्रिवेंशन एंड डिजीज कंट्रोल (Centers for Disease Control and Prevention) के अनुसार, अधिकांश 19 से 50 वर्ष की महिलाओं के लिए आयरन की दैनिक खुराक 18 मिलीग्राम (मिलीग्राम) है।

वहीं, गर्भवती महिलाओं को प्रतिदिन 27 मिलीग्राम का सेवन करना चाहिए। दूसरी ओर, वयस्क पुरुषों को प्रति दिन केवल 8 मिलीग्राम आयरन की आवश्यकता होती है।

आयरन की कमी पूरी करने के लिए अपनाएं ये फूड्स

गहरी हरी पत्तेदार सब्जियां, जैसे पालक, ब्रोकोली
सूखे मेवे, जैसे किशमिश और खुबानी
रसदार फल जैसे – संतरे, अनार, कीवी, अंगूर आदि

यह भी पढ़ें : Fathers Day : जानिए उन 5 स्वास्थ्य स्थितियों के बारे में, जो आपको विरासत में मिलती हैं

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।