क्या आपके स्वास्थ्य के लिए हेल्दी है शुगर फ्री पिल्स का सेवन, आइए पता करते हैं

अगर आप डायबिटीज से बचने और चाय में मिठास बनाए रखने के लिए शुगर फ्री पिल्स का सेवन कर रहीं हैं, तो इसे पढ़ना आपके लिए जरूरी है।
मानव शरीर पर आर्टिफिशियल स्वीटनर के दुष्प्रभाव। चित्र: शटरस्टॉक
मोनिका अग्रवाल Published on: 21 August 2021, 13:30 pm IST
ऐप खोलें

भागदौड़ भरी जिंदगी और व्यस्त जीवनशैली ने लोगों की जिंदगी बदल कर रख दी है। उसके बाद कोविड-19 और लॉकडाउन ने रही सही कसर भी पूरी कर दी। आंकड़े बताते हैं कि कोविड-19 संक्रमण (Covid-19) और लॉकडाउन (Lockdown) के कारण डायबिटीज (Diabetes) के मरीजों की संख्या बढ़ी है। वहीं उन लोगों की भी संख्या कम नहीं है जो डायबिटीज की बाॅर्डरलाइन पर हैं। इससे बचने के लिए लोग मीठे का परहेज कर रहे हैं और उसकी जगह शुगर फ्री (Sugar Free Pills) गोलियों से अपनी चाय या कॉफी में मिठास बढ़ा रहे हैं। सिर्फ इतना ही नहीं अब तो बाजार में शुगर फ्री मिठाइयां (Sugar free sweets) भी उपलब्ध होने लगी हैं। पर क्या शुगर फ्री टेबलेट्स आपके डायबिटीज से मुक्त रहने की गारंटी हैं? आइए जानते हैं कि आपके लिए कितनी हेल्दी हैं शुगर फ्री गोलियां।   

डायबिटी और दुनिया भर के आंकड़े

डब्ल्यूएचओ (WHO) की एक रिपोर्ट के मुताबिक पूरी दुनिया में लगभग 400 मिलियन लोग इस बीमारी का शिकार हैं। इस खतरनाक बीमारी में इंसुलिन लेवल असंतुलित हो जाता है। कोरोनावायरस भी उन लोगों के लिए घातक हो सकता है, जो पहले से ही डाबयिटीज के शिकार (Diabetic) हैं। साथ ही इस संक्रमण से ग्रस्त होने के बाद बहुत से लोगों ने शुगर लेवल बढ़ जाने की शिकायत की है। तो क्या उन्हें शुगर फ्री पिल्स का सेवन करना चाहिए?

कोविड संक्रमण के बाद भी लोग डायबिटीज की शिकायत कर रहे हैं। चित्र: शटरस्टॉक

क्या हैं शुगर फ्री पिल्स 

कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल में डाइटीशियन डॉ. अदिति शर्मा का मानना है कि “अधिकांश लोग यह सोचते हैं कि शुगर फ्री की गोलियां खाने से वह शुगर से बचे रहेंगे। उन्हें डायबिटीज नहीं होगी और यह उनके लिए हेल्दी भी होगा। लेकिन यह बात पूरी तरह से सही नहीं है। 

दरअसल खूबसूरत पैकेजिंग में लपेट कर बेचे जा रहे ये आर्टिफिशियल स्वीटनर्स (कृत्रिम  मिठास) होते हैं। जो आपको डायबिटीज से बचने का विकल्प लग सकते हैं, लेकिन इनके अधिक सेवन से दिल के रोग और हाइपरटेंशन का खतरा बढ़ जाता है।”

उनकी सलाह है कि शुगर के मरीजों को शुगर फ्री गोलियों की जगह गुड़, देसी खांड या ब्राउन शुगर, शहद जैसे प्राकृतिक विकल्पों की ओर रुख करें। पर ध्यान रहे कि अधिकता हर चीज की बुरी है।

यह भी पढ़ें- FREEDOM : गैस और एसिडिटी से चाहिए आज़ादी, तो ट्राई करें ये 5 घरेलू उपाय

चेक करें लेबल

किसी भी शुगर फ्री गोली को खरीदने से पहले उस की डिब्बी पर उसमें प्रयोग किए जाने वाली सामग्री की लिस्ट को जरूर देखें। यदि आपको सैकरिन, एस्पार्टेम, रेबियाना व सुक्रोज जैसे नाम लिस्ट में मिलते हैं, तो समझ जाएं कि ये आपके लिए हानिकारक हैं।

क्यों खतरनाक हैं ये कृत्रिम स्वीटनर्स

कृत्रिम स्वीटनर हमारे शरीर के स्वास्थ्य के लिए बहुत नुकसानदायक हैं। इन्हें हानिकारक इनमें प्रयोग किए जाने वाले केमिकल बनाते हैं। जहां तक संभव हो इन आर्टिफिशियल स्वीटनर्स के प्रयोग से बचें।

शुगर फ्री गोलियों के सेवन से दिल की बीमारी का खतरा भी होता है। चित्र-शटरस्टॉक

शुगर फ्री पिल्स के साइड इफेक्ट

  1. कृत्रिम शुगर का लंबे समय तक प्रयोग आपको कैंसर जैसे रोग प्रदान कर सकता है।
  2.  शुगर फ्री से वजन कम नहीं होता, लेकिन तमाम विज्ञापनों के माध्यम से लोगों में इस तरह की बातें फैली हुई हैं कि शुगर फ्री गोलियों के सेवन से आप फिट रहती हैं। 
  3. शुगर फ्री का सेवन आपकी भूख पर भी प्रभाव डालता है। इससे आपका  मेटाबॉलिज्म भी धीरे-धीरे कम होने लगता है। 
  4. इसके अधिक सेवन से नींद न आना, घबराहट ,चिड़चिड़ापन, सिर में दर्द या जोड़ों में दर्द जैसी परेशानियां भी हो सकती हैं।

तो लेडीस, बेहतर होगा कि आप बाज़ार के इन छलावों में न आएं और अपने लिए मिठास के प्राकृतिक किंतु सीमित विकल्प चुनें। 

यह भी पढ़ें-मम्मी कहती हैं पॉश्चर खराब करने के साथ और भी कई समस्याएं देती है टेढ़े खड़े होने की आदत

लेखक के बारे में
मोनिका अग्रवाल

स्वतंत्र लेखिका-पत्रकार मोनिका अग्रवाल ब्यूटी, फिटनेस और स्वास्थ्य संबंधी विषयों पर लगातार काम कर रहीं हैं। अपने खाली समय में बैडमिंटन खेलना और साहित्य पढ़ना पसंद करती हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
Next Story