Fatty liver : डायबिटीज या गठिया से भी ज्यादा खतरनाक है फैटी लिवर डिजीज, जानिए इस बारे में सब कुछ

फैटी लिवर की समस्या डायबिटीज और गठिया से भी ज्यादा लोगों को प्रभावित कर रही है। इसके बावजूद लोग इसका समय पर परीक्षण और उपचार नहीं करवाते।
एक चौथाई आबादी फैटी लिवर डिजीज से ग्रस्त है। चित्र: शटरस्टॉक
Dr. S.S. Moudgil Published on: 28 November 2022, 21:30 pm IST
ऐप खोलें

एक स्वस्थ लिवर में थोड़ी मात्रा में फैट होता है। पर यह समस्या तब बनता है जब फैट लीवर के वजन का 5% से 10% तक पहुंच जाता है। आजकल 4 में से कम से कम 1 व्यक्ति इससे ग्रस्त होता जा रहा है। यानी 25 % लोग इस रोग से ग्रसित पाए गए हैं। जो कि मधुमेह और गठिया के जोड़ से भी अधिक है। जबकि अधिकांश लोग यह नहीं जानते होंगे कि वे फैटी लीवर लिए घूम रहे हैं। ज्यादातर लीवर की यह बीमारी हल्की होती है, लेकिन इसके कारण गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। हम जीवनशैली में स्मार्ट बदलाव करके फैटी लिवर (Fatty liver) को नियंत्रित या उलट सकते हैं।

क्या है फैटी लिवर?

लिवर में बहुत अधिक चर्बी जमा होना ही फैटी लिवर कहलाता है.फैटी लीवर का रोग मूलत: दो प्रकार का होता हैं:

गैर अल्कोहलिक फैटी लीवर (Non alcoholic fatty liver disease) और अल्कोहलिक फैटी लीवर (Alcoholic fatty liver disease)। इसे अल्कोहलिक स्टीटोहेपेटाइटिस भी कहा जाता है। कभी-कभी, अतिरिक्त चर्बी उन बदलावों को ट्रिगर कर सकती है, जो लीवर को अच्छी तरह से काम करने से रोकते हैं।

यकृत कई जीवन-सहायक कार्यों वाला एक आवश्यक अंग है यह –

  1. पित्त का निर्माण करता है, जो पाचन में मदद करता है।
  2. शरीर के लिए प्रोटीन बनाता है।
  3. लोहे (Iron) का भंडारण करता है।
  4. पोषक तत्वों को ऊर्जा में परिवर्तित करता है।
  5. ऐसे पदार्थ बनाता है, जो रक्त के थक्के बनाते हैं और शरीर पर लगे जख्मों की मरम्मत के काम आते हैं।
  6. प्रतिरक्षा कारक बनाकर रक्त से बैक्टीरिया और विषाक्त पदार्थों फ़िल्टर करता है। अत: इसके काम में बदलाव या बाधा कई बीमारी पैदा कर सकती है।
जीन भी हो सकते हैं फैटी लिवर के लिए दोषी। चित्र : शटरस्टॉक

गैर अल्कोहलिक फैटी लिवर के जोखिम 

यह रोग का आरम्भ में आमतौर पर हानिरहित होता है। लेकिन कुछ लोगों में इसका अधिक गंभीर रूप विकसित हो जाता है, जिसे नॉन अल्कोहलिक स्टीटोहेपेटाइटिस (एनएएसएच) कहा जाता है। जिससे लीवर में सूजन हो जाती है, जो आगे चल कर सिरोसिस में प्रवर्तित हो सकती है। जिगर पर जख्म के निशान जैसी अवस्था पैदा हो जाती है।

जो जिगर के काम में बाधा डाल कर पीलिया रोग पैदा कर सकती है। यह एक गंभीर समस्या होती है, जिसका उपचार कठिन होता है। सिरोसिस के कारण लीवर कैंसर और हृदय रोग की अधिक संभावना हो सकती है। विशेषज्ञों का मानना है कि NASH भविष्य में लीवर प्रत्यारोपण का प्रमुख कारण बन सकता है।

किन लोगों को ज्यादा होता है इस बीमारी का जोखिम 

विशेषज्ञ पूरी तरह से नहीं समझते हैं कि कुछ लोगों में यह क्यों होता है और अन्य को नहीं। लेकिन अधिक वजन वाले या मोटे लोगों में इसकी संभावना अधिक पाई गई है;

कुछ अन्य कारण भी हैं 

यथा मधुमेह, उच्च कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स, उच्च रक्तचाप, या हेपेटाइटिस सी और अन्य यकृत संक्रमण हैं; या कैंसर या हृदय की समस्याओं के लिए स्टेरॉयड या दवाओं सहित कुछ दवाएं भी होती है । इस प्रकार के फैटी लीवर वाले अधिकांश लोग मध्यम आयु वर्ग (अधेड़ उम्र) के होते हैं। लेकिन यह बीमारी किसी को भी हो सकती है, यहां तक कि बच्चों को भी।

अल्कोहलिक फैटी लिवर

जो लोग बहुत अधिक शराब पीते हैं और मोटापे से ग्रस्त होते हैं उनमें इसकी सम्भावना अधिक होती है। शराब पीने वाली महिलाओं में यह पुरुषों के मुकाबले अधिक होता है।

फैटी लीवर की समस्या का एक कारण जीन भी हो सकते हैं। यह अधिक गंभीर समस्याओं का पहला चरण हो सकता है। यदि इस रोग के लक्षण होते ही व्यक्ति शराब का त्याग नहीं करता, तो अल्कोहलिक हेपेटाइटिस, सिरोसिस, लीवर फेलियर और लीवर कैंसर होने की संभावना बढ़ जाती है।

क्या हो सकते हैं अल्कोहलिक फैटी लिवर के लक्षण

आमतौर पर शुरुआत में यह बिना लक्षण ही होता है बाद में

जानिए फैटी लीवर का उपचार कैसे संभव है। चित्र-शटरस्टॉक।
  1. पेट में दर्द या पेट के ऊपरी दाहिने हिस्से अफारा या गैस से तना या भरा हुआ महसूस होना।
  2. मतली, भूख न लगना या वजन कम होना।
  3. पीली त्वचा और आंखों का सफेद (पीलिया) होना।
  4. सूजे हुए पेट और पैर (एडिमा)।
  5. अत्यधिक थकान या मानसिक भ्रम।
  6. कमज़ोरी।

कैसे हो सकता है फैटी लिवर का निदान और परीक्षण

क्योंकि वसायुक्त यकृत रोग के अक्सर कोई लक्षण नहीं होते हैं,

डॉक्टर इसे पहचानने वाला पहला व्यक्ति हो सकता है। लिवर एंजाइम के उच्च स्तर (उन्नत लिवर एंजाइम) जो अन्य स्थितियों के लिए रक्त परीक्षण में बदल जाते हैं।

ऊंचा लिवर एंजाइम एक संकेत है कि आपका लिवर घायल हो गया है। निदान करने के लिए, डॉक्टर लीवर फंक्शन टेस्ट एक रक्त परीक्षण का आदेश दे सकता है।

अल्ट्रासाउंड या कंप्यूटेड टोमोग्राफी (सीटी स्कैन)।

लिवर बायोप्सी (ऊतक का नमूना) यह निर्धारित करने के लिए कि लिवर की बीमारी कितनी आगे बढ़ चुकी है।

फाइब्रो स्कैन (Fibro Scan) यकृत में वसा और निशान ऊतक की मात्रा का पता लगाने के लिए यकृत बायोप्सी के बजाय कभी-कभी एक विशेष अल्ट्रासाउंड का उपयोग किया जाता है।

प्रबंधन और उपचार

फैटी लीवर रोग के लिए विशेष रूप से कोई दवा नहीं है। इसके बजाय, डॉक्टर उन कारकों को प्रबंधित करने में आपकी मदद करने पर ध्यान केंद्रित करते हैं जो स्थिति में योगदान करते हैं। वे जीवनशैली में बदलाव करने की भी सलाह देते हैं जो आपके स्वास्थ्य में काफी सुधार कर सकते हैं। उपचार में शामिल हैं:

शराब से परहेज

वजन घटाना है जरूरी

मधुमेह, कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स (रक्त में वसा) का प्रबंधन करने के लिए दवाएं लेना।

विशिष्ट उदाहरणों में विटामिन ई और थियाजोलिडाइनायड्स (मधुमेह के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवाएं जैसे एक्टोस और अवंदिया लेना।

कैसे हो सकता है निवारण

फैटी लिवर की बीमारी से बचने का सबसे अच्छा तरीका है समग्र स्वास्थ्य जीवन शैली अपनाना

लिवर में खुद को ठीक करने की अद्भुत क्षमता होती है। यदि शराब से परहेज करते हैं या वजन कम करते हैं, तो लिवर की चर्बी और सूजन को कम करना और लिवर की शुरुआती क्षति को कम करना संभव है।

यह भी पढ़ें – Appendicitis : जानिए क्या है पेट में तेज दर्द के साथ होने वाली यह समस्या

लेखक के बारे में
Dr. S.S. Moudgil

Dr. S.S. Moudgil is senior physician M.B;B.S. FCGP. DTD. Former president Indian Medical Association Haryana State.

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
Next Story