जी हां, अल्कोहल का सेवन स्लीपिंग पैटर्न में सुधार कर सकता है, मगर सीमित मात्रा में

अल्कोहल को स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव से जोड़ा जाता है। लेकिन यह आपकी नींद की गुणवत्ता को बढ़ाने का प्रभावी तरीका है, मगर मॉडरेशन में।
aapko acchi neend de sakti hai sharab
एल्कोहल लेने के बाद सॉना बात के लिए न जाएं। चित्र : शटरस्टॉक
अदिति तिवारी Published: 17 Jan 2022, 20:00 pm IST
  • 120

आंखों के नीचे काले धब्बे आखिर किसे पसंद है। रातों की नींद न केवल मानसिक स्थिरता देती है, बल्कि ब्यूटी स्लीप भी प्रदान करती है। यह आपके समग्र स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। लेकिन अगर किसी वजह से आपका स्लीपिंग पैटर्न बिगड़ गया है, तो शराब का सेवन इसे ठीक कर सकता है। इसका मतलब अत्यधिक अल्कोहल के सेवन से नहीं है, बल्कि मॉडरेशन में अपने रुटीन में माइल्ड अल्कोहल ड्रिंक को शामिल करने से है।  

कैसे शराब आपके स्लीपिंग पैटर्न को बेहतर बना सकती है?

बहुत से लोग सोचते हैं कि शराब उन्हें सोने में मदद करती है। वास्तव में यह सच है! जबकि अल्कोहल हर किसी को अलग तरह से प्रभावित करता है। यह आमतौर पर आपकी नींद की विलंबता को कम करता है। इसके सेवन के बाद आप बिस्तर से टकराते ही सो जाते हैं।

ऐसा इसलिए है क्योंकि शराब के उत्तेजक प्रभाव होते हैं। लेकिन इसमें सीडेटिव क्वॉलिटी भी होती है। जर्नल ऑफ क्लीनिकल स्लीप मेडिसिन के अनुसार अल्कोहल आपके दिमाग और सेंट्रल नर्वस सिस्टम के साथ संपर्क करता है। यह दो प्रमुख न्यूरोट्रांसमीटर, गामा-एमिनोब्यूट्रिक एसिड (gamma -aminobutyric acid) और ग्लूटामेट (glutamate) को प्रभावित करता है।

aapki neend ki kami ko poora kar sakti hai sharab
आपकी नींद की कमी को पूरा कर सकता है शराब का सेवन। चित्र: शटरस्टॉक

गामा-एमिनोब्यूट्रिक एसिड एक अमीनो एसिड न्यूरोट्रांसमीटर है। जिसका अर्थ है कि यह आपको आराम करने और शांत रहने में मदद करता है। लेकिन इसका उल्टा है ग्लूटामेट। वह इसके विपरीत काम करता है। यह एक उत्तेजक न्यूरोट्रांसमीटर है जो दिन के दौरान सक्रिय रहता है। एक स्वस्थ प्रणाली में, गाबा (GABA) और ग्लूटामेट लगातार एक दूसरे को संतुलित करते रहते हैं।

सबसे पहले, शराब गाबा को सक्रिय करती है। वह आपको उस ठंडी, शांत अनुभूति के साथ छोड़ देता है जो नींद को आसान बना सकती है।

अल्कोहल समग्र रूप से नींद को कैसे प्रभावित करता है?

शराब आपको तेजी से नींद लाने में मदद कर सकती है। लेकिन इसके फायदे वहीं खत्म हो जाते हैं। समय के साथ, जैसे-जैसे गाबा के शांत प्रभाव कम होते जाते हैं, आप ग्लूटामेट में एक उछाल का अनुभव कर सकते हैं। यह आपको जागृत और सतर्क महसूस करा सकता है। यदि आप सोने से पहले शराब पी रहे हैं, तो अक्सर ऐसा तब होता है जब आप यह नहीं चाहते जैसे आधी रात में।

जब आप रात भर शराब पीने के बाद उठते हैं, तब भी आप काफी समय तक सोते हैं। यह आपको घबराहट महसूस करा सकता है। चूंकि अल्कोहल में मूत्रवर्धक गुण होते हैं, इसलिए इसे सोने से पहले पीने से आपको बाथरूम का अधिक उपयोग करने के लिए उठने की आवश्यकता हो सकती है। तो यह आपकी नींद को अधिक बाधित कर सकता है।

क्या कहते हैं शोध 

NCBI के शोध बताते हैं कि अपने शरीर को अल्कोहल प्रोसेस करने के लिए पर्याप्त समय देना जरूरी है। इसलिए आपको सोने से चार से छह घंटे पहले शराब पीना बंद कर देना चाहिए। 

sone
सोने से चार से छह घंटे पहले नहीं पीनी चाहिए शराब । चित्र- शटरस्टॉक।

यदि आप नोटिस करते हैं कि आप रात में एक गिलास वाइन पीने के बाद और भी बदतर महसूस कर रहे हैं, तो कभी-कभी शराब की अदला-बदली करके देखें। यह वास्तव में आपको आराम देगी बिना किसी नींद की परेशानी के। एक अच्छी किताब, चाय की प्याली, या स्लीपिंग पिल्स का विकल्प हो सकती है माइल्ड अल्कोहल वाली ड्रिंक, लेकिन मॉडरेशन में। 

यह भी पढ़े : छोटे बच्चों की सेहत के लिए जोखिम पैदा कर सकती हैं चाय और कॉफी, जानिए क्या कहते हैं अध्ययन

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

  • 120
लेखक के बारे में

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए ! ...और पढ़ें

अगला लेख