आंखों के लिए डायबिटीज जितने ही खतरनाक हैं रतजगे, एक्सपर्ट दे रहे हैं चेतावनी

पोषण की कमी और धूप ही नहीं, आपकी कुछ आदतें भी आपकी आंखों को नुकसान पहुंचा रही होती हैं। पर आपको अहसास तब होता है जब चश्मे का नंबर बढ़ने लगता है।

ye habits apki ankhon ko nuksan pahucha rahi hain
ये आदतें आपकी आंखों को नुकसान पहुंचा सकती है। चित्र: शटरस्टॉक
Dr. Siddarth Sain Published on: 11 July 2022, 15:29 pm IST
  • 165

ओवर वर्क, पार्टी, बिंज वाॅच या सोशल मीडिया स्क्रॉलिंग… कारण चाहें जो भी हो। अगर आप देर रात तक जागती हैं, तो आप खुद अपनी आंखों को नुकसान पहुंचा रहीं हैं। शुरूआत में भले ही इनका असर नजर न आए मगर बढ़ती उम्र में ये आपकी आंखों की राेशनी छीन सकते हैं। इसलिए इसे डायबिटीज और स्मोकिंग जितना ही खतरनाक माना जा रहा है। यहां हम उन बुरी आदतों (bad habits for eyes) के बारे में बताने जा रहे हैं, जो आपकी आंखों के लिए नुकसानदेह साबित हो रहीं हैं।

अक्सर 30-40 साल की उम्र में लोग अपनी आंखों पर बहुत कम ध्यान देते हैं। जब तक देखने में दिक्कत आनी न शुरू हो जाए, लोग अपनी आंखों पर कोई ध्यान नहीं देते। जबकि हकीकत यह है कि इस वक्त ही आपको सबसे ज्यादा आंखों पर ध्यान देना चाहिए। कभी-कभी आंखों को दुरुस्त रखने के लिए न केवल खानपान पर बल्कि अपनी कुछ आदतों पर भी आपको ध्यान देना चाहिए। यहां जानते हैं उन आदतों के बारे में जो आपकी आंखों को कमजोर बना देती हैं।

परेशानी से पहले जरूरी है ध्यान देना 

ऐसा नहीं है कि सिर्फ जिन्हें आंखों में दिक्कत हो रही है या फिर कोई मेडिकल हिस्ट्री है, तभी आंखों का ध्यान रखने की जरूरत है। असल में आंखों की सही समय पर देखभाल भविष्य में आपकी आंखों में आने वाली विजन प्रॉब्लम से आपको बचा सकती है।

ऐसे में आज हम आपको बताते हैं कि आंखों की रोशनी को हमेशा बचाए रखने के लिए किन-किन आदतों को बदलने की जरूरत है और कौनसे टिप्स फॉलो करने चाहिए..

eye care
मानसून में आंखों का धूल, मिट्टी और तेज हवा से बचाव करें। चित्र :शटरस्टॉक

आई केयर में इन बातों का हमेशा रखें ध्यान 

1 बादल हों तब भी पहनें धूप का चश्मा 

ऐसा नहीं है कि आप सिर्फ फैशन के लिए ही चश्मा पहनें, बल्कि सनग्लासेज आपकी आंखों की सुरक्षा भी करते हैं। दरअसल, ज्यादा समय तक अल्ट्रावायलेट (पराबैंगनी) किरणों के लंबे समय तक संपर्क में रहने से आंखों में कॉर्निया और लेंस पर नुकसान पहुंच सकता है। फिर अंत में यह मोतियाबिंद और आंखों के कैंसर का कारण बनता है।

इसलिए ऐसा सनग्लास चुनें, जो अल्ट्रावाइलेट ए और अल्ट्रावायलेट किरणों से आपकी आंखों का 99 या 100 फीसदी तक बचाव करे। इस बात का खास ध्यान रखें कि बाहर बादल होने के बाद भी उन्हें पहनें।

2 आंखों पर स्ट्रेन कम करें

अब लोगों का स्क्रीम टाइम लगातार बढ़ रहा है, इससे आंखों पर स्ट्रेन भी बढ़ रहा है. अगर आप लैपटॉप पर पूरे दिन काम करते हैं तो अपने कंधे के हिसाब से कम्प्यूटर रखें और 20-20-20 रूल को फॉलो करें और अपनी आंखों को आराम दें। अगर आप आंखों की सही से प्रोटेक्शन करते हैं तो आप आंख में होने वाली 90 फीसदी दिक्कतों को दूर कर सकते हैं।

3 सिगरेट का कहें न

अभी तक आपको लगता था कि सिगरेट फेफड़ों को नुकसान पहुंचाती है, लेकिन ये आंखों के लिए भी हानिकारक है। स्मोकिंग यानी धूम्रपान से मोतियाबिंद और आंखों में धब्बे होने वाली दिक्कतों का खतरा बढ़ जाता है। इसके साथ ही अक्सर तंबाकू का धुंआ यहां तक कि दूसरे के द्वारा की जा रही स्मोकिंग का धुंआ भी आंखों को रुखा बना देता है।

4 अच्छी मात्रा में नींद लें

हर रोज जरूरत के हिसाब से नींद लेने से भी आंखों में दिन भर होने वाले तनाव से उबरने में मदद मिलती है। आंखों को आराम देने के अलावा, अच्छी मात्रा में ली गई नींद आंसुओं की आपूर्ति को फिर से भर देती है। जिससे आंखें हाइड्रेट रहती हैं। इसलिए, जो लोग प्रतिदिन उचित मात्रा में नींद लेते हैं, उनकी आंखों में ड्राई आई जैसी दिक्कतें बहुत कम होती है।

sleeping aur productivity
जब आप ठीक से सो नहीं पातीं, तब उसका असर आपकी आंखों पर भी पड़ता है। चित्र: शटरस्टॉक

5 नियमित एक्सरसाइज करें

हर रोज एक्सरसाइज करने से शरीर के कई अंगों का फायदा मिलता है, जिसमें आंखे भी हैं।दरअसल, वॉक, जॉगिंग, योग आदि करने से हाई ब्लड प्रेशर, हाई कॉलेस्ट्रॉल और डायबिटीज जैसी दिक्कत नहीं होती। अगर शरीर में ये दिक्कत होती है, तो इससे आंखों की रोशनी पर असर पड़ता है और आंखों से जुड़ी बीमारियां हो सकती हैं।

6 आंखों में ज्यादा कॉस्मेटिक प्रयोग न करें

कई लोग फैशन के चक्कर में आंखों में टैटू बनवाकर या लिड लिफ्ट के जरिए आंखों को दिक्कत में डालते हैं और इससे आंखों से जुड़ी दिक्कत होने का डर बढ़ जाता है। इसके अलावा आंखों के डॉक्टर की सलाह बिना लैंस आदि का इस्तेमाल करना भी खतरना है और इससे आपकी रोशनी को लेकर दिक्कत हो सकती है।

7 शुगर, कॉलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखें

बता दें कि शुगर, हाई कोलेस्ट्रॉल और हाई ब्ल्ड प्रेशर आपके शरीर की संचार प्रणाली को प्रभावित करते हैं। अगर आपकी आंखों में सही से खून का संचार नहीं हो पाता है, तो इससे आपके आंखों में देखने की शक्ति प्रभावित होगी और इससे डायबिटिक रेटिनोपैथी, ग्लूकोमा या धुंधला दिखना जैसी दिक्कत हो जाएगी।

8 मेकअप न करें शेयर

जी हां, नेत्र विशेषज्ञों का मानना है कि अगर आप मेकअप का सामान जैसे कि मस्कारा, आईशेडो और आईलाइनर किसी के साथ शेयर करते हैं, तो इससे आंखों में इंफेक्शन हो सकता है। अगर आपकी आंखों में खुजली या लालपन रहता है, तो तुरंत इन प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल बंद कर देना चाहिए।

apni ankhon ka khyaal rakhein
अपनी आँखों का ख्याल रखें: चित्र : शटरस्टॉक

9 खेलते वक्त आंखों का खास ध्यान रखें

अगर आप कुछ भी खेल रहे हैं, तो भी आंखों का विशेष ध्यान रखना चाहिए। बिना प्रोटेक्शन बॉल या रैकेट से आंखों में इंजरी हो सकती है। ऐसे में सबसे अच्छा तरीका ये है कि आप आई गियर, चश्मे या हेलमेट के जरिए खेल के दौरान होने वाली दिक्कतों से बचें।

10 कॉन्टैक्ट लैंस का खास ध्यान रखें

अगर आप अपने लैंस को अच्छे से साफ नहीं करते हैं और अच्छे से नहीं रखते हैं, तो आपको आंखों में इंफेक्शन हो सकता है। इसलिए, ध्यान रखें कि इसका इस्तेमाल करते वक्त हाथ धुले हों और उन्हें साफ करने के बाद अच्छे से रखें।

आंखों में लैंस लगाकर सोना, नहाना और तैरना इंफेक्शन को बढ़ावा देता है। अगर आप लैंस का इस्तेमाल करते हैं और आपकी आंखों में दर्ज, विजन की दिक्कत होती है, तो लैंस न पहनें और डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें – आर्थराइटिस से ग्रसित हैं, तो भूल कर भी न करें ये 10 काम 

  • 165
लेखक के बारे में
Dr. Siddarth Sain

Dr. Siddarth Sain is Senior Retina Specialist at Sharp Sight Eye Hospitals

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें