हाजमे से लेकर बोन हेल्थ तक को नुकसान पहुंचाते हैं छोले-भटूरे, एक्सपर्ट बता रहीं हैं कैसे

मसालेदार छोले और डीप फ्राई भटूरे खाने में जितने टेस्टी लगते हैं, आपकी सेहत के लिए उतने ज्यादा नुकसानदायक हैं। इसकी सबसे बड़ी वजह है इनमें इस्तेमाल होने वाला मैदा और तेल।

chole-bhature-side-effects
ज्यादा मैदा खाने वालों का पेट खराब रहता है। चित्र शटरस्टॉक
निशा कपूर Published on: 19 October 2022, 19:30 pm IST
  • 148

बच्चा हो या बड़ा छोले-भटूरे (Chhole Bhature) का नाम सुनते ही सभी के मुंह में पानी आ जाता है। इसका स्वाद इतना लज़ीज होता है कि फिटनेस फ्रीक्स भी खुद को इससे दूर नहीं रख पाते। यकीनन आप भी यह जानती होंगी कि छोले-भटूरे का जायका आपकी जीभ के लिए जितना मज़ेदार होता है, आपकी सेहत के लिए उतना ही नुकसानदेह (chole bhature side effects)। क्योंकि भटूरों को घी में तला जाता है और मसालेदार छोले के साथ खाया जाता है। जो आपकी हेल्थ के लिए अच्छे नहीं होते है। तो चलिए पता करते हैं कि एक प्लेट छोले भटूरे में कितनी कैलोरी होती है और इसका आपकी सेहत पर क्या असर होता है।

डॉ. एलिन कैनडी, सर एच.एन. रिलायंस फाउंडेशन हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर में नुट्रिशन एंड डायटेटिक्स (Nutrition & Dietetics) विभाग की प्रमुख हैं। वे बताती हैं कि बाहर से मिलने वाली एक प्लेट छोले भटूरे में लगभग 500-600 कैलोरी होती हैं। क्योंकि इन्हें तेल में देर तक तला जाता है, इसलिए ये आपकी हार्ट हेल्थ के लिए भी खराब माने जाते हैं।

weight loss and calories
हेल्दी वेट बनाए रखने के लिए आपको कितनी कैलोरीज की है ज़रूरत. चित्र शटरस्टॉक।

हालांकि जब आप इसे घर पर बनाती हैं, तो इसकी कैलोरी को आप थोड़ा कम कर सकती हैं। पर तब भी ये स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा नहीं साबित नहीं होते। चने प्रोटीन का अच्छा स्रोत है, लेकिन भटूरे के साथ बनने वाले छोले का स्वाद बढ़ाने के लिए उसमें तेज़ मसाले डाले जाते हैं। जिसकी वजह से यह अपने पोषक तत्व खो देते हैं।

जानिए आपकी सेहत पर क्या होता है छोले भटूरे खाने का असर

डॉ. कैनडी कहती हैं कि छोले भटूरे खाने से हमारे स्वास्थ्य पर भी काफी प्रभाव पड़ता हैं। क्योंकि मैदा आपकी सेहत के लिए काफी नुकसानदेह होता है-

1 पेट खराब होना

अक्सर ऐसा देखा जाता है कि ज्यादा मैदा खाने वालों का पेट खराब ही रहता है। क्योंकि इसमें फाइबर बिल्कुल भी नहीं पाया जाता है, जिससे कब्ज की शिकायत होने लगती है।

यह भी पढ़े- स्तन कैंसर को पहचानने का पहला तरीका है सेल्फ एग्जामिनेशन, जानिए इसे कैसे करना है

2 तेजी से बढ़ता है मोटापा

अधिक मैदा खाने वालों का वजन काफी तेजी से बढ़ने लगता है। इतना ही नहीं, यह ब्लड में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी बढ़ा देता है। इसके साथ ही सांस लेने में भी दिक्कत होती है। अगर आप भी इन समस्याओं से परेशान हैं तो अपने खाने में से मैदा हटा दें।

3 हड्डियों का कमजोर होना

मैदा तैयार करते समय इसमें मौजूद प्रोटीन निकल जाता है। इस वजह से यह एसिडिक हो जाता है। जो हड्डियों से कैल्शियम को कम करता है। इसलिए मैदे का अधिक सेवन करने वालों की हड्डियां कमजोर होने लगती हैं।

Arthritis me ahar me shamil kren protein
लहसुन का सेवन करने से आपका शरीर अंदर से मजबूत होता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

4 फूड एलर्जी होना

मैदे में ग्लूटेन की मात्रा अधिक पायी जाती है, और ये फूड एलर्जी का कारण बनता है। पेट में मैदा फूलने लगता है। जिससे भूख कम हो जाती है।

5 इम्यून सिस्टम कमजोर होना

नियमित मैदे का सेवन करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने लगती है। इससे लोग बार-बार बीमार होने लगते हैं।

6 मधुमेह

मैदा खाने से ब्लड में शुगर का स्तर बढ़ने लगता है क्योंकि इसमें ग्लाइसेमिक इंडेक्स बहुत अधिक होता है। अगर आप भी बहुत अधिक मैदे का सेवन करते हैं, तो आपके शरीर में इंसुलिन कम बनने लगेगा और आप डायबिटीज के शिकार हो सकते हैं।

यह भी पढ़े- चावल के आटे में मिलाएं मम्मी की रसोई की ये 4 सामग्रियां और त्वचा को दें फेस्टिव ग्लो

  • 148
लेखक के बारे में
निशा कपूर निशा कपूर

देसी फूड, देसी स्टाइल, प्रोग्रेसिव सोच, खूब घूमना और सफर में कुछ अच्छी किताबें पढ़ना, यही है निशा का स्वैग।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory