क्या सेब का सिरका घुटनों और जोड़ों के दर्द में आराम दिला सकता है? चलिये पता करते हैं

सेब का सिरका ऐसा सुपरफूड है जिसका इस्तेमाल आप कई समस्याओं के समाधान के रूप में कर सकती हैं। मगर क्या यह घुटनों और जोड़ों के दर्द से भी राहत दिला सकता है !
जानिए कैसे सेब का सिरकार घुटनों और जोड़ों के दर्द में आराम दिला सकता है। चित्र : शटरस्टॉक
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Published on: 28 September 2021, 11:00 am IST
ऐप खोलें

आपने आजकल कई लोगों को सेब का सिरका यानी एप्पल साइडर विनेगर (Apple Cider Vinegar) का सेवन करते हुए देखा होगा। यह अपने पोषक तत्वों की वजह से काफी लोकप्रिय हो गया है। फिटनेस फ्रीक्स वज़न कम करने के लिए हर रोज़ एप्पल साइडर विनेगर का सेवन करते हैं। यह न सिर्फ वेट लॉस (Weight Loss) के लिए, बल्कि यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फ़ैकशन (Urinary Tract Infection) का इलाज करने में भी सक्षम है।

मगर क्या आप जानते हैं कि सेब का सिरका जोड़ों के दर्द से भी राहत दिला सकता है? शायद नहीं! लेकिन यह सच है। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के अनुसार – कई सालों से विशेषज्ञ, एप्पल साइडर विनेगर का इस्तेमाल गठिया के इलाज के लिए करते आए हैं।

सेब के रस को खमीरिकृत करके, एप्पल साइडर विनेगर तैयार किया जाता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

गठिया शरीर के जोड़ों जैसे उंगलियों, हाथों, घुटनों, कोहनी, कूल्हों, जबड़े में सूजन, दर्द और जकड़न पैदा कर सकता है। ऐसे में एप्पल साइडर विनेगर, ऑस्टियोआर्थराइटिस, गठिया, गाउट, सोरियाटिक गठिया और घुटनों और जोड़ों से संबंधी अन्य समस्याओं में मदद कर सकता है।

स्टैनफोर्ड कायरोप्रैक्टिक सेंटर के अनुसार सेब का सिरका जोड़ों के दर्द और गठिया में फायदेमंद साबित हो सकता है, जानिए कैसे

1. मिनरल की कमी को पूरा करता है

शरीर में मिनरल की कमी जोड़ों के दर्द को और भी बदतर बना सकती है। एप्पल साइडर विनेगर में कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटेशियम और फास्फोरस की अच्छी मात्रा होती है। ऐसे में यह एक सप्लीमेंट की तरह काम करता है और दर्द को कम कर सकता है।

2. हड्डियों को मजबूती देता है

सेब के सिरके में मौजूद मैग्नीशियम हड्डियों को कैल्शियम सोखने में मदद करता है, जो हड्डियों की मजबूती के लिए जरूरी है। यह एंजाइम और एसिड से भरपूर होता है, जो उचित पाचन और स्वस्थ जोड़ों के लिए आवश्यक पोषक तत्वों के अवशोषण को बढ़ावा देता है।

3. गठिया के दर्द को कम करता है

इसमें एंटीऑक्सीडेंट, बीटा-कैरोटीन और एसिटिक एसिड भी होता है। एंटीऑक्सिडेंट मुक्त कणों के हानिकारक प्रभावों को रोकते हैं, जो आमतौर पर गठिया जैसी स्थितियों में टिशू डैमेज को रोकते हैं। इसके अलावा, सेब का सिरका जोड़ों में बनने वाले एसिड क्रिस्टल को तोड़कर गठिया के दर्द और कठोरता को कम करता है।

अर्थराइटिस है घुटनों के दर्द का कारण। चित्र: शटरस्टॉक

4. पाचन तंत्र को दुरुस्त रखे

गठिया का दर्द आंशिक रूप से खराब चयापचय और अपच के कारण होता है, जो संयोजी ऊतकों में जमा होता है। सेब के सिरके में मौजूद पेक्टिन, एसिडिक एसिड और मैलिक एसिड विषाक्त पदार्थों को अवशोषित करने और उन्हें शरीर से बाहर निकालने में मदद करते हैं।

कैसे करना है इसका सेवन

आप सेब के सिरके का सेवन सुबह खाली पेट या खाने से एक घंटा पहले कर सकती हैं। एक चम्मच सिरके को एक गिलास पानी में डाइल्यूट करके पीएं, यह इसे पीने का सही तरीका है।
इसकी ज़्यादा मात्रा सेहत को नुकसान भी पहुंचा सकती है।

इसलिए, यदि आपको भी घुटनों में दर्द है या जोड़ों की कोई समस्या है, तो अपने डॉक्टर की सलाह पर एप्पल साइडर विनेगर का सेवन करें!

यह भी पढ़ें : ये 5 चुनौतियां लेकर आता है उम्र का तीसरा दशक, जानिए इनसे कैसे निपटना है

लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
Next Story