फॉलो
वैलनेस
स्टोर

एक ब्रेस्‍ट कैंसर अचीवर से जानिए कि क्‍या होनी चाहिए इस दुष्‍ट दुश्‍मन से मुकाबले की रणनीति

Updated on: 10 December 2020, 12:14pm IST
अक्टूबर का अंतिम दिन है,जाते-जाते सिर्फ त्योहारों को ही याद न रखें, बल्कि अक्तूबर का महीना स्‍तन कैंसर जागरुकता माह (Breast Cancer Awareness Month) के लिए भी जाना जाता है। इसीलिए इस महीने के अंतिम दिन हम आपको एक सकारात्मक ऊर्जा देना चाहते है। इसके लिए आगे पढ़े:
प्रेरणा मिश्रा
  • 66 Likes
अक्‍टूबर ब्रेस्‍ट कैंसर अवेयरनेस मंथ है। चित्र : शटरस्टॉक

जब आप किसी बीमारी से लड़ते हैं तो अपने आप को मरीज न समझें, बल्कि आप फाइटर हैं। और जब आप उस पर जीत हासिल कर लेते हैं तो आप हो जाते हैं अचीवर। ये कहना है कैंसर अचीवर विभा रानी का। विभा रानी स्‍तन कैंसर से लड़ाई जीतने के बाद उन महिलाओं भी जागरुकता पैदा कर रहीं हैं, जो इस दुष्‍ट बीमारी से अब भी लड़ रहीं हैं। एक विजेता ही बता सकता है दुश्‍मन से मुकाबले की असली रणनीति।

ब्रेस्ट कैंसर अवेरनेस मंथ की शुरुआत करने का मुख्य कारण लोगो को ब्रेस्ट कैंसर के प्रति जागरूक करना रहा है। साथ ही उनकी समस्याओं का निदान करने और एक इस बीमारी से मुकाबले को एक सकारात्‍मक माहौल तैयार करना भी है।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

आइये जाने इस पर क्या कहती हैं ब्रेस्ट कैंसर अचीवर विभा रानी

विभा रानी एक ब्रेस्ट कैंसर अचीवर हैं। वह बताती हैं कि उन्‍होंने कैंसर के शब्दकोश से तीन शब्द निकालें है और उनकी जगह तीन नए शब्द जोड़े हैं। जो कैंसर से जुड़ें व्यक्ति में एक सकारात्मक भाव के साथ- साथ एक नयी ऊर्जा प्रदान करते हैं।

1.कैंसर सर्वाइवर (Cancer Survivor) की जगह कैंसर अचीवर (Cancer Achiever)

2.कैंसर मरीज (Cancer Patient) की जगह कैंसर फाइटर (Cancer Fighter)

3. और जो लोग कैंसर से हार गए उन्‍हें भी कैंसर वॉरियर (Cancer Warrior) कहा जाए।

ब्रेस्ट कैंसर एक बड़ी चिंता बनता जा रहा है, इसके जोखिम को कम करने के लिए उपाय। चित्र : शटरस्टॉक

कैंसर से जुड़े लोगों को पॉजिटिव एनर्जी की बहुत जरूरत होती है और इन शब्दों के जरिए हम उन्हें पॉजीटिव एनर्जी देते हैं। साथ ही उनके मन में बैठे ब्रेस्ट कैंसर के प्रति डर को खत्म करने की कोशिश करते हैं।

ब्रेस्ट कैंसर से घबराएं नहीं सचेत रहें

विभा रानी कहती हैं, “ब्रेस्ट कैंसर आज विश्व में बड़ी तेजी से बढ़ रहा है, परन्तु इससे घबराने की बजाए सचेत रहें। एहतियात बरतें, साथ ही सही डॉक्टर से सही इलाज करवाएं। यह एक बीमारी है और चिकित्‍सकीय उपचार से ही खत्म होगी। इसीलिए किसी भी प्रकार के अंधविशवासों के चक्करों में न पड़ें। यह आपके ब्रेस्ट कैंसर को जड़ से खत्म करने में कहीं भी मदद नहीं करता है।”

सकारात्‍मक बने रहना है ज्‍यादा जरूरी

विभा रानी जो खुद एक ब्रेस्ट कैंसर अचीवर है वह बताती है कि “कैंसर के दौरान सकारात्मक होना बेहद आवश्यक है। क्योंकि यह आपके साथ आपके परिवार और दोस्तों को भी आपकी समस्या से चिंतित बना देता है। इस दौरान आपका खुश रहना उन्हें भी खुश रखता है।

हेल्दी डाइट ब्रेस्ट कैंसर के जोखिम को कम करने में मदद कर सकती है। चित्र: शटरस्टॉक

ब्रेस्ट कैंसर के इलाज में बहुत लंबा समय लगता है। अधिक पैसे भी खर्च होते हैं, परन्तु अगर इस समय किसी चीज की जरूरत होती है तो वह है आपके हिम्मत से कम लेने की। साथ ही धैर्य बनाए रखना भी जरूरी है। आपका धैर्य आपको इस लड़ाई में आपकी मदद करता है।

डॉक्‍टर के पास जाने से घबराएं नहीं

ब्रेस्ट कैंसर औरतों को ही होती है, ऐसा नहीं है। कुछ पुरष भी इसके शिकार होते हैं। पर ज्‍यादा मामले औरतों के ही है। कभी-कभी महिलाएं इस बात से कतराने लगती हैं कि अब उनके ब्रेस्ट को काट दिया जाएगा। अब उनकी खूबसूरती खत्म हो जाएंगी ,कृप्या इस रूढ़िवादी विचारधारा से उठ कर अपने कीमती जीवन को बचाने के बारे में सोचें।

ब्रेस्ट कैंसर का मतलब ब्रेस्ट रिमूवल नहीं होता

ब्रेस्ट कैंसर का यह मतलब नहीं होता कि आपके ब्रेस्ट को रिमूव कर दिया जाएगा, बल्कि जिस प्रकार का कैंसर आपके ब्रेस्ट में होगा डॉक्टर आपका इलाज उसी प्रकार से करेंगे। कुछ केस में ब्रेस्ट में सिर्फ छोटी सी गांठ होती है और डॉक्टर ऑपरेशन करके उस गांठ को निकाल देते हैं। इसीलिए शुरुआत के समय में ही इलाज करवाना आपके लिए फायदेमंद होता है। उस समय ब्रेस्ट कैंसर का खतरनाक रूप देखने को नहीं मिलता है।

ब्रेस्‍ट कैंसर महिलाओं में सबसे ज्‍यादा होने वाले कैंसर में शुमार है। चित्र: शटरस्‍टॉक
ब्रेस्‍ट कैंसर महिलाओं में सबसे ज्‍यादा होने वाले कैंसर में शुमार है। चित्र: शटरस्‍टॉक

तो लेडीज, इस ब्रेस्ट कैंसर अवेयरनेस मंथ में सबसे पहले आत्‍म परीक्षण करें। आपके दोस्‍तों में, परिवार में या जान-पहचान वाली किसी महिला को अगर आपकी मदद की जरूरत है तो उनकी मदद करें।

डॉक्टर पुरुष है या स्‍त्री इस बात को दिमाग से निकाल दें। अगर मर्ज लगा है तो उसका इलाज करवाना ही आपकी पहली जिम्‍मेदारी है। ध्यान रखें कि ब्रेस्ट कैंसर के इलाज के लिए गायनेकोलॉजिस्ट के पास न जाकर ओंकोंलॉजिस्ट के पास जाएं।

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

प्रेरणा मिश्रा प्रेरणा मिश्रा

हेल्‍दी फूड, एक्‍सरसाइज और कविता - मेरे ये तीन दोस्‍त मुझे तनाव से बचाए रखते हैं।