इन 5 कारणाें से सर्दियों में ड्राई हो जाती हैं पलकें? जानिए इससे छुटकारा पाने के एक्सपर्ट टिप्स

दिन भर काम करते हुये क्या आपको भी लगने लगा है कि आपकी पलकें सूखने लगी हैं या आपकी आंखों की नमी कम हो गयी है? यदि आपको भी आजकल ऐसा लग रहा है तो यह ड्राई आईलिड्स की वजह से हो सकता है।

kya hai stress ka kaaran
कार्यक्षेत्र पर सफल होने के लिए अपने अंदर आत्मविश्वास पैदा करें। दरअसल, अगर आप खुद पर विश्वास करेंगे, तभी कोई दूसरा आप पर अपना भरोसा जता पाएगा। चित्र: शटरस्टॉक
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Updated on: 21 November 2022, 18:46 pm IST
  • 130

आजकल काम के प्रेशर की वजह से हम सभी को लैपटॉप पर कई घंटे बिताने पड़ते हैं। इसकी वजह से आंखों से जुड़ी कई समस्याएं आ सकती हैं। मगर, ज़रूरी नहीं है कि आपकी आंखों से जुड़ी हर समस्या लैपटॉप से जुड़ी हो आंखों की कुछ समस्याएं स्किन से जुड़ी भी हो सकती हैं और इन्ही में से एक है ड्राई आईलिड्स (Dry eyelids) जैसी कन्डीशन।

ड्राई आइलिड्स काफी कॉमन प्रोब्लम है, जो किसी को भी हो सकती है। यह एक स्किन कन्डीशन एक्जिमा के कारण भी हो सकता है – जैसे एटोपिक डर्मेटाइटिस (atopic dermatitis) या कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस (contact dermatitis)। यह समस्या पलकों की ड्राईनेस, लालपन, खुजली और परतदार त्वचा का कारण बनती है।

जानिए क्या है ड्राई आई लिड्स की वजह?

मेयो क्लीनिक के अनुसार एलर्जी, तापमान में परिवर्तन, या ह्यूमिडिटी के अलावा भी कई कारण हैं जो ड्राई आइलिड्स की समस्या का कारण बनते हैं जैसे –

बढ़ती उम्र

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एजिंग के अनुसार जैसे – जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, त्वचा में सीबम की मात्रा कम हो जाती है। यह लगभग – 30 से 40 की उम्र में होता है, जिसमें आंखें बहुत ज़्यादा सेनसिटिव हो जाती हैं। इसके अलावा उम्र के साथ आंखों के आसपास की परत पतली हो जाती है, जिसकी वजह से आइलिड्स की स्किन और ज़्यादा ड्राई और पतली नज़र आने लगती है।

धूप लगना

बहुत ज़्यादा यूवी किरणों की चपेट में आना आपकी स्किन को परेशान कर सकता है। इसकी वजह से आपके आंखों के आसपास की त्वचा फ्लेकी और ड्राई नज़र आ सकती है। क्लीवलैंड क्लीनिक के अनुसार यह ड्राई आइलिड्स का सबसे बड़ा कारण है।

eyelash ka kaise khyaal rakhein
अपनी पलकों का ख्याल रखें। चित्र: शटरस्टॉक

ड्राई आई

शार्प साइट आई हॉस्पिटल्स की सीनियर कंसल्टेंट, कामरान अकील के अनुसार यदि आपकी आंखें ज़्यादा आंसू नहीं बना रही हैं, तो यह ड्राई आई की समस्या को जन्म दे सकता है। हालांकि, ड्राई आई आपकी आंखों की अंदर की त्वचा को ज़्यादा परेशान करता है। इसकी वजह से आपको आंखों में इरीटेशन महसूस हो सकती है और यह लाल पड़ सकती हैं।

कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस

यदि आपकी त्वचा किसी इरिटेंट या एलर्जेन के संपर्क में आती है, तो आपको कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस होने की संभावना बढ़ सकती है। कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस यानी चर्मरोग आपकी त्वचा को शुष्क, खुजलीदार और चिड़चिड़ा बना सकता है। यह मेकअप, सनस्क्रीन, परफ्यूम और धूल के कारण हो सकता है।

ऐटोपिक डरमैटाइटिस

ऐटोपिक डरमैटाइटिस एक स्वास्थ्य स्थिति है जो आपकी पलक की ऊपर की त्वचा को शुष्क और परेशान कर सकती है। यह दोनों स्थितियां एक दूसरे से अलग हैं। यह एलर्जी के लिए एक अस्थायी प्रतिक्रिया है, जबकि एटोपिक डरमैटाइटिस एक स्वास्थ्य स्थिति है जिसे आप अपने पूरे जीवन में अनुभव कर सकती हैं।

eyelashes ke nuksaan
आपको सूट नहीं कर सकता है आईलैश एक्सटेंशन। चित्र: शटरस्‍टॉक

जानिए आप घर पर ही कैसे कर सकती हैं ड्राई आईलिड्स की समस्या का समाधान

शार्प साइट आई हॉस्पिटल्स की सीनियर कंसल्टेंट, कामरान अकील के अनुसार क्या हो सकते हैं आई हेल्थ को बरकरार रखने के तरीके

किसी भी तरह के केमिकल प्रॉडक्ट, इरीटेंट्स और मेकअप प्रॉडक्ट का इस्तेमाल न करें, नहीं तो यह आपकी आंखों को और नुकसान पहुंचान सकता है।

इतना ही नहीं, अपनी पलकों पर फेस ऑइल या मॉइस्चराइज़र का इस्तेमाल कर सकती हैं, जिससे आंसू जमने की वजह से आपकी आइलिड्स पर पपड़ी नहीं जमेगी।

आप जब भी अपना चेहरा धोएं, तो आंखों और आइ लैश को नज़रअंदाज़ न करें। चेहरा धोते समय आईलैश भी साफ करें।

यदि आपको ड्राई आइ की समस्या आ रही है, तो अपनी आंखों पर गर्म सिकाई करें। साथ ही, आंखों पर बार – बार हाथ न लगाएं।

यह भी पढ़ें  क्या आप पलकों की सूजन से परेशान है? तो जानिए इसका कारण और बचाव के उपाय

  • 130
लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें