क्या वर्क फ्रॉम होम या मास्क पहनने से आपकी आंखों में जलन हो रही है? तो जानिए क्या हैं इसके कारण

Updated on: 1 November 2021, 13:35 pm IST

यदि आप आंखों में जलन महसूस कर रही हैं, तो आप ड्राई आई से पीड़ित हो सकती हैं। यहां वह सब कुछ है, जो आपके लिए जानना आवश्यक है।

apni aankhon ka khyaal rakhein
30 के दशक में ही इस तरह रखें अपनी आंखों का ख्याल। चित्र: शटरस्टॉक

ड्राई आई फ्लेयर एक इंफ्लेमेटरी प्रतिक्रिया है। यह आमतौर पर कुछ कारणों से ट्रिगर होती है- जैसे कि काम और घर का वातावरण (जहां आप स्क्रीन के सामने अधिक समय बिता रहे हैं), कॉन्टैक्ट लेंस, या MADE (mask-associated dry eye)।

MADE तब होता है जब सांस छोड़ने वाली हवा ऊपर की ओर आंखों में जाने लगती है। आमतौर पर जब मास्क ठीक से फिट न हो तो ऐसा हो सकता है। एक हालिया अध्ययन में सामने आया कि मास्क पहनने से आंखों में सूखापन और जलन हो सकती है। यह हमारी आबादी के एक बड़े प्रतिशत के लिए एक समस्या बन सकती है।

सूखी आंखों के फड़कने (dry eye flares) के कारण क्या हैं?

विमानों में लंबी यात्राएं, मौसमी एलर्जी, प्रतिकूल पर्यावरणीय कारक जैसे पंखे का उपयोग और ज़्यादा हवा के संपर्क में आना।

गर्मी और एयर कंडीशनिंग से जुड़ी पुरानी सूजन की स्थिति जैसे कि क्रोनिक अस्थमा, सोजोग्रेन सिंड्रोम, रुमेटाइड गठिया, इनडोर हीटिंग या कूलिंग इसका कारण हो सकती हैं।

ऐसे आहार का सेवन करना जो विटामिन A में कम हो, जो लीवर, गाजर और ब्रोकोली में पाया जाता है, या ओमेगा -3 फैटी एसिड में कम होता है, जो मछली, अखरोट और वनस्पति तेलों में पाया जाता है।

यदि आप आंखों में जलन महसूस कर रही हैं, तो आप ड्राई आई से पीड़ित हो सकती हैं। चित्र : शटरस्टॉक

यहां है ड्राई आई के बारे में और भी बहुत कुछ

डीईडी (DED -dry eye disease) एक गंभीर स्थिति है। इसकी प्रकृति अलग भी हो सकती है। सभी रोगियों को लगातार लक्षणों का अनुभव नहीं होता। इसके बजाय, वे विभिन्न संभावित ट्रिगर्स के परिणामस्वरूप, असुविधा के विभिन्न स्तरों के साथ सूखी आंखों के फड़कने का अनुभव करते हैं। हालांकि डीईडी का निदान प्राप्त करने वाले 80-90% रोगियों में भी सूजन की तीव्रता या फ्लेयर होती है।

इससे ग्रस्त मरीजों में बदली हुई दृष्टि, बेचैनी, जलन और डिस्चार्ज हो सकता है। एक अन्य श्रेणी में ऐसे रोगी शामिल हैं, जो वर्ष के अधिकांश समय पूरी तरह से एसिंपटोमैटिक होते हैं। हालांकि, वे समय-समय पर सूखी आंखों की चमक से पीड़ित होते हैं।

इसके अलावा, डेटा से पता चलता है कि डीईडी के रोगियों में प्रति वर्ष औसतन लगभग 4-6 ड्राई आई होती है, जो 7-14 दिनों के बीच चलती हैं।

इस स्थिति से पीड़ित लोगों की आंखों में जलन हो सकती है। वे अपनी आंखों में अधिक पानी और धुंधली दृष्टि का अनुभव कर सकते हैं।

क्या हैं ड्राई आई फ्लेयर्स के लक्षण?

ऊपर वर्णित आमतौर पर देखे गए लक्षणों के अलावा, ड्राई आई वाले कुछ लोगों की समस्या रात में बढ़ सकती है। जिसमें पूरे दिन अपनी आंखों का उपयोग करने से थकान, रात में आपके चयापचय में बदलाव और कुछ चिकित्सीय स्थितियां शामिल हैं।

is samsya se aankhein ho jaati hai kamzor
इस समस्या से आँखें हो जाती है कमजोर। चित्र: शटरस्टॉक

रोकथाम और उपचार:

बहुत अधिक वायु संचलन वाले स्थानों से बचें
सर्दी के मौसम में ह्यूमिडिफायर चालू करें
सिगरेट के धुएं से दूर रहें
गर्म कंप्रेस का इस्तेमाल करें और अपनी पलकें धोएं
ओमेगा -3 फैटी एसिड सप्लीमेंट्स लेने का प्रयास करें

अधिक पानी पीने से आपके शरीर को स्वस्थ मात्रा में आंसू पैदा करने में मदद मिल सकती है, जो ड्राई आई को रोकने के लिए महत्वपूर्ण हैं। आंसू और तेल ग्रंथियों का उत्पादन करने के लिए स्वस्थ अश्रु ग्रंथियों का होना भी महत्वपूर्ण है। ताकि आंसू बहुत जल्दी एवेपोरेट न हों। कैफीन या अल्कोहल युक्त पेय से दूर रहें क्योंकि ये डिहाइड्रेशन का कारण बनते हैं।

यह भी पढ़ें : World Ayurveda Day : आयुर्वेद के बारे में ऐसे सवाल जिनके बारे में आप सभी जानना चाहते हैं

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें