हाइपरटेंशन से बचना है, तो आज ही रूटीन में शामिल कर लें ये 7 अच्‍छी आदतें

इस ताजा शोध मे उन सात आदतों को अपनाने की सिफ़ारिश की गयी जो आपके हाइपरटेंशन के जोखिम को कम कर सकती हैं
janiye kya hai hypertantion.
जानिए क्या है ह्यपरटेंशन।चित्र- शटरस्टॉक।
विदुषी शुक्‍ला Updated: 10 Dec 2020, 12:41 pm IST
  • 89

विश्व भर में 1.3 बिलियन से अधिक लोग हाइपरटेंशन के शिकार हैं। हाइपरटेंशन ऐसी बीमारी है जो आपको धीरे-धीरे मौत के करीब ले जाती है। इसके लक्षण नजर नहीं आते, लेकिन यह आपके दिल और पूरे कार्डियोवस्कुलर सिस्टम पर बुरा प्रभाव डालती है।

जर्नल ऑफ अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन में प्रकाशित एक स्टडी में बताया गया है कि कैसे कुछ आदतें आप के उच्च रक्तचाप यानी हाइपरटेंशन की समस्या को उल्लेखनीय रूप से कम करती हैं।

क्या है अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन की स्टडी

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन ने 2930 प्रतिभागियों पर किये इस अध्ययन में पाया कि इन 7 में से एक आदत को भी अगर आप अपना लें तो हाइपरटेंशन का जोखिम 6 प्रतिशत तक कम हो जाता है।

कुछ आदतें आप के उच्च रक्तचाप यानी हाइपरटेंशन की समस्या को कम करती हैं। चित्र- शटरस्टॉक।

क्या हैं हाइपरटेंशन से बचाव करने वाली सात अच्‍छी आदतें-

1. वजन पर नियंत्रण जरूरी है

मोटापा सभी बीमारियों की जड़ माना जाता है और यह गलत नहीं है। ओवर वेट या ओबीस होने पर आपके दिल पर बहुत दुष्प्रभाव पड़ता है और आपको लाइफस्टाइल से जुड़ी बीमारियां होने लगती हैं।
नेशनल हेल्थ इंस्टीट्यूट के अनुसार ज्यादा वजन आपके ब्लड प्रेशर को भी बढ़ाता है और वजन में मात्र पांच किलो का अंतर भी हृदय के स्वास्थ्य पर बहुत असर डालता है।
स्वस्थ वजन और BMI रखें, जिससे आपको हाइपरटेंशन जैसी बीमारियां न हों।

2. जीवनशैली को सक्रिय बनाएं

यह तो आप जानते ही हैं कि हमारे मोटापे के पीछे वजह है हमारा लाइफस्टाइल। हमारी दिनचर्या से मेहनत वाले काम गायब हो रहे हैं और हम दिन भर ज्यादातर बैठे ही रहते हैं। इसे बदलने की जरूरत है। दिन भर ज्यादा से ज्यादा सक्रिय रहने की कोशिश करें।
फिटनेस विशेषज्ञ सप्ताह में 150 घण्टे एक्सरसाइज करने की सलाह देते हैं। अगर आप हाई इंटेनसिटी वर्कआउट करते हैं, तो 75 घण्टे भी चलेगा। इन 150 घण्टों को आप हफ्ते में पांच दिन, 30 मिनट के कार्डियो में बांट सकते हैं।

सात्विक भोजन जैसे हरी सब्जियां एवं फल आपको सेहतमंद रहने में मदद कर सकते हैं। चित्र : शटरस्‍टॉक.

3. पौष्टिक आहार

स्वस्थ हृदय के लिए स्वस्थ आहार सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है। बाहर का प्रोसेस्ड भोजन बिल्कुल अवॉयड करें क्योंकि यह कोलेस्ट्रॉल बढ़ाता है, जो दिल के लिए खतरनाक होता है। इसके साथ ही अपने आहार में सोडियम, ट्रान्स फैट और सैचुरेटेड फैट कम करें।
इसके बजाय भोजन में फल और सब्जियां ज्यादा से ज्यादा शामिल करें। हेल्दी फैट के लिए सीड्स और नट्स का सहारा लें।

4. स्मोकिंग न करें

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार हर साल दुनिया भर में आठ मिलियन लोगों की मौत का कारण होता है तम्बाकू। स्मोकिंग से अस्थायी रूप से ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है। सिगरेट पीना फेफड़ों को तो नुकसान पहुंचाता ही है साथ ही कार्डियोवस्कुलर तंत्र को भी हानि होती है। स्मोकिंग अरथेरेऑस्क्लेरोसिस नामक बीमारी को जन्म देता है, जिसमें खून ले जाने वाली नसों में प्लाक जमने लगता है और नसें ब्लॉक होने लगती हैं।

अगर आपको स्मोकिंग की लत हैं, तो डॉक्टर से मदद लें। यह आदत आपके जीवन को भारी नुकसान पहुंचाती है।

5. शुरू से ही रक्तचाप को नियंत्रित रखें

एक बार हाइपरटेंशन हो जाने के बाद आपके हाथ में कुछ नहीं रहता। इसलिए जरूरी है कि आप शुरू से ही ब्लड प्रेशर को चेक में रखें। अपने 30s से ही नियमित ब्लड प्रेशर जांच कराएं और ब्लड प्रेशर बढ़ाने वाली आदतों को छोड़ दें।
व्यायाम करना, पूरी नींद लेना, वजन नियंत्रित करना और उचित भोजन से आप ब्लड प्रेशर को नियंत्रित कर सकती हैं।

हाई ब्लड प्रेशर से बचाव के उपाय । चित्र : शटरस्टॉक

6. ब्लड शुगर लेवल काबू में रहे

डायबिटीज में धीरे धीरे ब्लड वेसल्स और दिल डैमेज होता है जिसके कारण कार्डिएक अरेस्ट से लेकर स्ट्रोक तक का खतरा कई गुना बढ़ जाता है।
अगर आपके परिवार में डायबिटीज की हिस्ट्री है तो आप कम उम्र से ही ब्लड शुगर लेवल चेक कराएं और हेल्दी लाइफस्टाइल अपनाएं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

7. कोलेस्ट्रॉल का स्तर नियंत्रित रखें

सबसे पहले तो यह जानना जरूरी है कि कोलेस्ट्रॉल हमेशा बुरा ही नहीं होता, गुड कोलेस्ट्रॉल शरीर के लिए आवश्यक होता है।
बैड कोलेस्ट्रॉल या LDL दिल के लिए खतरनाक होता है, जिससे हाइपरटेंशन का जोखिम बढ़ जाता है।
कोलेस्ट्रॉल लेवल सही है या नहीं जानने का एक ही तरीका है, समय समय पर कोलेस्ट्रॉल टेस्ट कराएं।

चीनी और फैट का सेवन सीमित कर दें, व्यायाम करें और स्मोकिंग ना करें।
इन कुछ आदतों को कम उम्र में ही अपना लिया जाए तो बुढ़ापे में स्वस्थ जीवन पाया जा सकता है।

  • 89
लेखक के बारे में

पहला प्‍यार प्रकृति और दूसरा मिठास। संबंधों में मिठास हो तो वे और सुंदर होते हैं। डायबिटीज और तनाव दोनों पास नहीं आते। ...और पढ़ें

अगला लेख