गुनगुने पानी में मिलाएं सेंधा नमक और पाएं मुंह और दांतों से जुड़ी तमाम समस्याओं का छुटकारा

ब्रश करने और ओरल हाइजीन के लिए प्रयास करने से ही हमारे दांत स्वस्थ रहते हैं। जानते हैं कैसे गुनगुने पानी के साथ सेंधा नमक का प्रयोग दांतों को मजबूत बनाता है।
ayurveda me garm pani peene kaha jata hai.
गुनगुने पानी के सेवन से वजन कम करने में मदद मिल सकती है। चित्र:शटरस्टॉक
स्मिता सिंह Published: 11 Sep 2023, 09:30 am IST
  • 125

फिजिकल हेल्थ, मेंटल हेल्थ के साथ-साथ ओरल हेल्थ मजबूत होना जरूरी है। ओरल हेल्थ का तात्पर्य दांतों, मसूड़ों और संपूर्ण ओरल- फेस सिस्टम के स्वास्थ्य से है। यह हमें मुस्कुराने, बोलने और भोजन को चबाने की भी अनुमति देता है। हमारे ओरल हेल्थ को प्रभावित करने वाली कुछ सबसे आम बीमारियां दांतों में कैविटीज़ (tooth decay), मसूड़ों (periodontal disease) के रोग और ओरल कैंसर भी हो सकता है। इससे बचाव के लिए गर्म पानी के साथ सेंधा नमक (luke warm water and rock salt for oral hygiene) लिया जा सकता है।

क्यों होती हैं दांतों की बीमारियां (what is the cause of Oral Problem)

दिल्ली के अद्विक डेंटल केयर के फाउंडर और सीनियर डेंटिस्ट डॉ. सौरभ कालरा बताते हैं, ‘अच्छी तरह साफ़-सफाई के अभाव में दांत गर्म और ठंडे खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों के प्रति संवेदनशील हो जाते हैं। समय के साथ दांतों में सडन, दाग, दांत पीले पड़ना और बाद में कैविटी की भी समस्या होने लगती है। एसिडिक खाद्य पदार्थ और सोडा जैसे पेय पदार्थ दांतों में होने वाली समस्या के लिए जिम्मेदार होते हैं। दांत और मसूड़े से जुड़ी ज्यादातर समस्याएं रात में खाना खाने के बाद ब्रश नहीं करने के कारण होती हैं।’

गुनगुने पानी में सेंधा नमक का सेवन (Gungune pani me sendha namak ka sevan)

डॉ. सौरभ बताते हैं, गुनगुने पानी में सेंधा नमक डालकर कुल्ला करने का प्राकृतिक उपाय दांत को स्वस्थ रखने में कामयाब है। एसिडिक खाद्य पदार्थ और सोडा जैसे पेय पदार्थ का सेवन करने के बाद गुनगुने पानी में सेंधा नमक डालकर कुल्ला करना चाहिए। सेंधा नमक के स्थान पर नींबू के रस का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।
इससे मुंह के पीएच स्तर को संतुलित करने में मदद मिलती है। इससे इनेमल की रक्षा भी हो पाती है।’

क्या है फायदा (gungune pani aur sendha namak ka fayda)

डॉ. सौरभ के अनुसार, सेंधा नमक (Rock Salt) में मौजूद कई उपयोगी मिनरल्स में एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं। ये बैक्टीरिया को मारने में मदद करते हैं। यह प्लाक और टार्टर के निर्माण को रोकने में मदद करता है। यह कैविटीज़, मसूड़ों की बीमारी और अन्य दांत की समस्याओं के जोखिम को कम करता है।

fitkari ke fayade
सेंधा नमक में मौजूद कई उपयोगी मिनरल्स में एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं। चित्र : अडोबी स्टॉक

कैसे करें इस्तेमाल (how to use Rock Salt for Oral Hygiene)

अच्छी ओरल हेल्थ के लिए गुनगुना पानी का प्रयोग करना चाहिए। ब्रश करने के बाद दिन में 2 बार सेंधा नमक के पानी से कुल्ला करना चाहिए। यह मसूड़ों और दांतों को स्वस्थ रखता है। यदि आप माउथवाश का प्रयोग करती हैं, तो नमक पानी से एक दिन छोड़कर (use of rock salt water in alternate day) कुल्ला करें

दांतों के पीले दाग हटाने के लिए (how to reduce dental stain)

अच्छी तरह साफ़ सफाई के अभाव में दांत पीले पड़ने लगते हैं। गुनगुने पानी में सेंधा नमक मिलाएं और दिन में 4 से 5 बार अच्छी तरह इससे गरारे करें। यदि आप माउथवाश का इस्तेमाल करती हैं, तो कुछ जरूरी बातें याद रखें। ध्यान रखें कि किसी भी माउथ वॉश का इस्तेमाल लगातार नहीं करना चाहिए। आप केवल 15 दिनों तक लगातार इसका प्रयोग कर सकती हैं।

गुनगुने पानी में सेंधा नमक मिलाएं और दिन में 4 से 5 बार अच्छी तरह इससे गरारे करें। चित्र : अडोबी स्टॉक

दांतों पर बने दाग को ख़त्म करने के लिए भी नियमित रूप से इसका प्रयोग नहीं किया जाना चाहिए। दांत के पीलेपन को हटाने के लिए दिन में दो बार गुनगुने पानी में सेंधा नमक डालकर गरारे कर सकती हैं। सुबह भोजन के बाद और रात को सोने से पहले। यह ओरल कैविटी में भोजन के जमा होने और बैक्टीरिया के विकास को रोक देता है। दांतों पर जैल का उपयोग करने से बचें। किसी अच्छी कंपनी के टूथ ब्रश और टूथपेस्ट का इस्तेमाल करें

अंत में

साथ ही ब्रश करते समय सही तकनीक का उपयोग करना चाहिए। हर 6 महीने में दांतों की नियमित जांच और दांतों की सफाई भी करवानी चाहिए।

यह भी पढ़ें :- ये 4 संकेत बताते हैं कि आपको है गट हेल्थ पर तुरंत ध्यान देने की जरूरत, जानिए इसके लिए जरूरी उपाय

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
  • 125
लेखक के बारे में

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।...और पढ़ें

अगला लेख