प्रेगनेंसी के दौरान और भी ज्यादा जरूरी है खुश रहना, एक स्त्री रोग विशेषज्ञ बता रहीं हैं क्यों

गर्भावस्था किसी भी स्त्री के लिए बहुत सारे बदलावों का दौर होता है। बढ़ा हुआ वजन जहां कुछ महिलाओं के लिए चिंता का विषय बन जाता है, तो कुछ आने वाली जिम्मेदारियों के बारे में सोचकर परेशान होने लगती हैं। जबकि इस दौरान आपको पूरी तरह तनावमुक्त रहने की जरूरत होती है।
pregnancy mei stress badh jaata hai
बहुत सी महिलाएं प्रेगनेंसी में तनाव का सामना करती हैं। शरीर में आने वाले बदलावों को लेकर चिंतित रहने से तनाव बढ़ने लगता है। चित्र : अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Published: 26 Oct 2023, 09:30 am IST
  • 135

गर्भावस्था को आमतौर पर खुशी और नई शुरुआत का समय माना जाता है। हालांकि, सच्चाई यह है कि हम में से कई लोगों के लिए गर्भावस्था तनाव, उथल-पुथल और अनिश्चितता का समय भी है। बहुत कुछ बदल रहा है – आपका शरीर, आपकी पहचान, आपके रिश्ते – और गर्भावस्था पैसे, नौकरी और करियर के बारे में डर भी लेकर आती है।

ऐसे में, इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि गर्भवती महिलाओं को अक्सर मानसिक स्वास्थ्य चुनौतियों का अनुभव होता है। साथ ही, गर्भावस्था के दौरान ध्यान अक्सर इस बात पर होता है कि हमारे शरीर और हमारे बच्चों के साथ क्या हो रहा है। शायद ही कोई गर्भावस्था के दौरान मानसिक स्वास्थ्य के बारे में बात करता है, और जो लोग मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्यों का सामना कर रहे हैं, वे अक्सर यह नहीं जानते हैं कि गर्भावस्था में उन्हें कैसे हैंडल किया जाए।

इस बारे में ज्यादा जानने के लिए हमने बात की डॉ. मधुलिका सिंह, स्त्री रोग विशेषज्ञ, अंकुरा अस्पताल, पुणे से।

preterm delivery
कम ऊर्जावान महसूस करना गर्भावस्था के दौरान होने वाले सामान्य और स्वस्थ परिवर्तन हैं। चित्र शटरस्टॉक

डॉ. मधुलिका सिंह बताती है कि तनाव या एंग्जाइटी से जूझ रही गर्भवती महिलाओं के लिए समय पर चिकित्सा जरूरी है, किसी विशेषज्ञ की मदद से काउंसलिंग उन महिलाओं को विभिन्न मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों से उबरने में मदद कर सकती है। इसके अलावा, गर्भवती महिलाओं को उन महत्वपूर्ण सुझावों का पालन करना चाहिए जो उन्हें गर्भावस्था के दौरान शांत रहने में मदद कर सकते हैं।

गर्भावस्था के दौरान खुश रहने के लिए इन चीजों को करें फॉलो

1 सही व्यायाम

आप तैराकी, पैदल चलना, दौड़ना, डांस करना, योग करने का प्रयास कर सकते हैं। जो कुछ भी आपके लिए काम करता है, उसे गर्भावस्था तक करते रहें।

व्यायाम आपको किसी अलग चीज़ पर ध्यान केंद्रित करने का मौका देता है, और यह आपके और आपके बच्चे के स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा है। एंडोर्फिन की वृद्धि, या तनाव से राहत देने वाले स्ट्रेच, आपको अच्छा महसूस करने और बेहतर नींद में मदद कर सकते हैं।

2 तनाव हो तो उस पर बात करें

गर्भावस्था के दौरान एंग्जाइटी महसूस होना बिल्कुल सामान्य है, क्योंकि आपका शरीर बड़े बदलावों से गुजरता है। अपने जीवनसाथी, करीबी दोस्तों या परिवार के साथ अपनी समस्याओं के बारे में बात करने से वास्तव में आपको बेहतर महसूस करने में मदद मिल सकती है।

माँ बनना भी तनावपूर्ण हो सकता है, लेकिन अन्य माता-पिता को जानना फायदेमंद हो सकता है। आप अपने पालन-पोषण की कठिनाइयों को साझा कर सकते हैं। यदि आप सार्वजनिक रूप से शर्म महसूस कर रहे हैं, तो ऑनलाइन क्या हो रहा है, उसे देखें। दूसरों के साथ बातचीत करना आपकी चिंताओं को दूर करने का एक अच्छा तरीका हो सकता है।

pregnant mahilayen in baton ka rakhen khas dhyaan
अगर आप मां बनने वाली हैं, तो आपको कुछ चीजों का ध्यान रखना होगा। चित्र : शटरस्टॉक

3 अपने शरीर के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण रखें

हम जानते हैं कि हमारा शरीर बच्चे को जन्म देने और उसकी देखभाल करने के लिए अविश्वसनीय है। हालाँकि, कभी-कभी हमारी भावनाएं पूरी तरह से भिन्न हो सकती हैं। वजन बढ़ना, स्ट्रेच माक्स का आना, और कम ऊर्जावान महसूस करना गर्भावस्था के दौरान होने वाले सामान्य और स्वस्थ परिवर्तन हैं, लेकिन कुछ महिलाओं को इन परिवर्तनों को स्वीकार करने में कठिनाई होती है। आप अपने शरीर के बारे में सकारात्मक शब्दों का इस्तेमाल करें और विचार रखें।

4 आराम करना है जरूरी

चाहे यह कितना भी कठिन क्यों न हो, अपने लिए कुछ समय निकालना जरूरी है और जब भी संभव हो आराम करें। बच्चे के आने के बाद शायद आप दोबारा सो नहीं पाएंगी। चाहे जल्दी सोना हो, दिन के दौरान ब्रेक लेना हो, दोस्तों के साथ लंच करना हो या छुट्टी मनाना हो, सुनिश्चित करें कि आप तनाव मुक्त और अच्छी तरह से आराम कर रहे हैं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

ये भी पढ़े- Deep Breathing : एयर पॉल्यूशन से फेफड़ों को बचाना है तो इस तरह करें डीप ब्रीदिंग का अभ्यास

  • 135
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख