पीसीओएस के बावजूद हैं गर्भवती, तो जरूरी है इसकी जटिलताओं को समझकर अपना ख्याल रखना 

पीसीओएस से पीड़ित महिलाओं को इस स्थिति का पता भी तब चलता है, जब वे गर्भधारण की कोशिश करतीं हैं, जानिए इस स्थिति में प्रेगनेंसी होने पर ध्यान कैसे रखें। 

Pregnancy-with-PCOS
जानिए प्रेगनेंसी में क्यों होती है ज्यादा खुजली चित्र:शटरस्टॉक
शालिनी पाण्डेय Updated on: 21 September 2022, 00:17 am IST
  • 111

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS) से पीड़ित महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान कुछ समस्याओं या जटिलताओं का खतरा अधिक होता है। कुछ महिलाओं को तो इस स्थिति का पता भी तब तक नहीं चलता जब तक कि वे गर्भधारण (Pregnancy care tips during PCOS) करने की कोशिश नहीं करतीं। पीसीओएस की जटिलताओं पर अक्सर गर्भावस्था तक किसी का ध्यान नहीं जाता है। लेकिन अगर आप साल भर से अधिक समय से प्राकृतिक रूप से गर्भधारण करने की कोशिश कर रही हैं, तो आपको अपने डॉक्टर से जांच इस बारे में बात करनी चाहिए।

आपका डॉक्टर गर्भवती होने में आपकी चिकीत्सीय मदद कर सकता है। कुछ रणनीतियां, जैसे वजन कम करना, स्वस्थ भोजन करना, और कुछ मामलों में, दवाएं, आपके गर्भवती होने की संभावना को बढ़ा सकती हैं।

क्या हो सकती हैं पीसीओएस के साथ प्रेगनेंसी की जटिलताएं

पीसीओएस अवेयरनेस एसोसिएशन की एक रिपोर्ट के अनुसार पीड़ित महिलाओं में गर्भावस्था और प्रसव संबंधी जटिलताओं का खतरा अधिक होता है। पीसीओएस पीड़ित को प्रारंभी गर्भावस्था में गर्भपात का तीन गुना ज़्यादा जोखिम उठाना पड़ता है जिसमें  गर्भकालीन मधुमेह (गर्भावस्था के दौरान होने वाला मधुमेह) शामिल हैं, जिससे बच्चे का आकार सामान्य से ज़्यादा हो सकता है, इसके अलावा प्रीक्लेम्पसिया की स्थिति जो 20 वें सप्ताह के बाद अचानक पैदा हो सकती है. इस स्थिति में  उच्च रक्तचाप और शरीर में सूजन हो जाती है। जिससे समय से पहले जन्म और सी-सेक्शन डिलीवरी की पेचीदगी सामने आ सकती है। 

यदि आप अपनी गर्भावस्था के दौरान प्रीक्लेम्पसिया ग्रसित होती हैं, तो आपको बहुत बारीकी से अपनी स्थिति की निगरानी करनी होगी क्योंकि यह स्थति होने वाली माँ के गुर्दे, यकृत और मस्तिष्क को बुरी तरह प्रभावित कर सकती है।

गर्भावस्था के दौरान मधुमेह एक चिंता का विषय है, पीसीओएस से पीड़ित कई महिलाओं को इसका सामना करना पड़ता है। यदि आप गर्भावधि मधुमेह विकसित करते हैं, तो आपके रक्त शर्करा के स्तर (blood sugar level) को स्थिर रखने के लिए इंसुलिन की आवश्यकता हो सकती है। गर्भावधि मधुमेह के कारण प्रसव के दौरान भी समस्या हो सकती है। उदाहरण के लिए, आकार में बड़े बच्चों को शोल्डर डिस्टोसिया होने का खतरा अधिक होता है (जब बच्चे का कंधा प्रसव के दौरान अटक जाता है)।

गर्भावस्था के दौरान आपको इन चीजों पर जरूर देना चाहिए ध्यान 

1 ब्लड शुगर

 गर्भवती होने पर, आपको संभवतः गर्भावस्था से पहले की तुलना में अधिक बार अपने ब्लड शुगर की जांच करने की आवश्यकता होगी। संभवतः भोजन से पहले या भोजन के एक-दो घंटे बाद, सोते समय और रात के समय इसका परीक्षण करना चाहिए।

cancer
ब्लड शुगर कंट्रोल करने के लिए इंसुलिन ली जा सकती है होम्योपैथ दवा। चित्र शटरस्टॉक।

अपने डॉक्टर से पूछें कि आपके रक्त शर्करा की सामान्य मात्रा क्या है। मधुमेह से पीड़ित अधिकांश गर्भवती महिलाओं को इब्लड शुगर मेंटेन रखना  रखना चाहिए, जब तक कि वे निम्न रक्त शर्करा का कारण न बनें:

चेक करें भोजन से पहले ब्लड शुगर

भोजन शुरू होने के एक घंटे बाद: 140 मिलीग्राम/डीएल या उससे कम

भोजन शुरू होने के दो घंटे बाद: 120 मिलीग्राम/डीएल या उससे कम

2 इंसुलिन

 यदि आप गर्भावस्था से पहले से ही इंसुलिन पंप का उपयोग कर रही थीं, तो आपको इसका उपयोग करते रहना चाहिए। आपको गर्भावस्था के दौरान पहली बार इंसुलिन पंप का उपयोग शुरू नहीं करना चाहिए। लेकिन अगर अन्य प्रकार के इंसुलिन उपचार आपके blood sugar को नियंत्रित नहीं करते हैं, तो आपका डॉक्टर आपको इंसुलिन पंप पर स्विच करने के लिए कह सकता है।

3 न्यूट्रीशन

ज़रूरत के अनुसार पोषण के लिए आपको आहार विशेषज्ञ की सलाह लेनी चाहिए। यह हेल्दी न्यूट्रीशन प्लान आपके रक्त शर्करा को संतुलित करते हुए सही वजन बनाए रखेगा। 

आहार विशेषज्ञ सुझाव देते हैं कि कार्बोहाइड्रेट, या “कार्ब्स” के स्तर को सीमित करें। एक दिन में तीन छोटे मील खाएं और दो से चार स्नैक्स खाना अच्छा विचार है। आपका आहार विशेषज्ञ यह भी सलाह दे सकता है कि एक दिन में कितनी बार खाना चाहिए और कितनी कैलोरी खाएं। 

baby in a womb
समय से पहले जन्म, गर्भकालीन उम्र के लिए असामान्य रूप से बड़ा होना जैसी दिक्कतें हो सकती है, चित्र:शटरस्टॉक

सबसे महत्वपूर्ण बात यह सुनिश्चित करना है कि आपका आहार, पोषक तत्वों से भरपूर और पर्याप्त प्रोटीन से भरा हो और इसमें ज़्यादा चीनी वाले खाद्य पदार्थों की संख्या या मात्रा कम हों। वेट मैनेजमेंट के लिए जंक फूड और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों (processed food)से बचना आपका सबसे अच्छा तरीका है।

 जटिलताओं से बचने और भ्रूण के विकास को सही रख्नेकेलिए के लिए उचित चिकित्सा प्रबंधन और न्यूट्रीशानिस्ट का होना अनिवार्य है। 

4 व्यायाम

 भोजन के बाद की शारीरिक गतिविधि, जैसे कि 10 से 20 मिनट तक चलना, पोस्टप्रांडियल हाइपरग्लेसेमिया को नियंत्रित करके रक्तचाप और इंसुलिन प्रतिरोध को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है। 

प्रजनन क्षमता और पीसीओएस में सुधार के लिए योग को विशेष रूप से प्रभावी दिखाया गया है। यह समझना महत्वपूर्ण है कि योग आपके पीसीओएस को ठीक नहीं करेगा, लेकिन आपको अपने शरीर से अधिक जुड़ाव महसूस करने में मदद करेगा, हार्मोन संतुलन बनाए रखेगा, और श्रोणि क्षेत्र में रक्त परिसंचरण को बढ़ाने में मदद भी करेगा।

5 विटामिन

गर्भावस्था के पहले त्रैमासिक (सप्ताह 12) को समाप्त करने के बाद आपका डॉक्टर आपके द्वारा लिए जाने वाले फोलिक एसिड की खुराक को कम कर देगा। अक्सर, गर्भावस्था के बाकी दिनों में और जब तक आप स्तनपान बंद नहीं कर देतीं, फोलिक एसिड की अनुशंसित खुराक 0.4 मिलीग्राम (400 माइक्रोग्राम) से 1 मिलीग्राम प्रति दिन होती है। अपने डॉक्टर से पूछें कि आपको अन्य प्रसवपूर्व विटामिन लेने के बारे में विस्तार से बात करना न भूलें।

हेल्दी डिलीवरी के लिए आप क्या कर सकते हैं?

इस स्थिति में  बच्चे के लिए भी जोखिम हैं, जिनमें समय से पहले जन्म, गर्भकालीन उम्र के लिए असामान्य रूप से बड़ा होना, गर्भपात शामिल हैं। यदि आपका शिशु एक लड़की है, तो उसमें भी  पीसीओएस होने की भी संभावना है।

आप अपने बच्चे और अपने स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने में मदद ले सकती हैं। गर्भावस्था से पहले और गर्भावस्था के दौरान उचित देखभाल प्राप्त करने के लिए अपने प्रसूति रोग विशेषज्ञ और अपने मधुमेह विशेषज्ञ की सलाह पर ज़रूर अम्ल करें। अपनी मधुमेह की दवा निर्धारित समय के अनुसार लें और अपने रक्त शर्करा को नियंत्रण में रखें। स्वस्थ भोजन लें साथ ही शारीरिक रूप से सक्रिय रहें। 

यह भी पढ़ें: अगर बोझ बनता जा रहा है कोई रिश्ता, तो इन 6 तरीकों से करें शालीतना से उसका अंत

  • 111
लेखक के बारे में
शालिनी पाण्डेय शालिनी पाण्डेय

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें