Sweating : आपको हेल्दी और फ्रेश रखता है पसीना आना, एक्सपर्ट बता रही हैं इसके बारे में सब कुछ

जिस प्रकार शरीर की प्राकृतिक प्रतिक्रियाएं जैसे की यूरिन और स्टूल पास करना जरुरी है, ठीक उसी प्रकार त्वचा से पसीना निकलने देना भी महत्वपूर्ण है।
Sweating
बहुत से लोगों को इससे जुडी जानकारी नहीं होती, ऐसे में वे पसीने से बचते रहते हैं। चित्र:शटरस्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 22 Jun 2024, 12:48 pm IST
  • 124

गर्मी के मौसम में त्वचा से अधिक पसीना आता है। पसीने से त्वचा चिपचिपी हो जाती है, और आमतौर पर लोग इससे बेहद परेशान रहते हैं। पर क्या आपको मालूम है, त्वचा से पसीना आना आपके लिए कितना फायदेमंद हो सकता है। बहुत से लोगों को इससे जुडी जानकारी नहीं होती, ऐसे में वे पसीने से बचते रहते हैं। हालांकि, ऐसा करना उचित्त नहीं है। जिस प्रकार शरीर की प्राकृतिक प्रतिक्रियाएं जैसे की यूरिन और स्टूल पास करना जरुरी है, ठीक उसी प्रकार त्वचा से पसीना निकलने देना भी महत्वपूर्ण है।

हेल्थ शॉट्स ने पसीने से जुडी जरुरी जानकारी प्राप्त करने के लिए ज़िनोवा शाल्बी अस्पताल के इंटरनल मेडिसिन विशेषज्ञ डॉ. उर्वी माहेश्वरी, से बात की। तो फिर चलिए जानते हैं पसीना क्यों आता है और यह किस तरह हमारे लिए फायदेमंद हो सकता है।

क्यों आता है पसीना (why we sweat)

पसीना आना एक शारीरिक क्रिया है जो आपके शरीर के तापमान को नियंत्रित करने में मदद करती है। पसीने की ग्रंथियों से नमक-आधारित तरल पदार्थ का निकलना स्वेटिंग है। पसीना आना आपके है। जब हम अधिक गरम हो जाते हैं, जैसे कि व्यायाम के दौरान या गर्म मौसम में, यह शरीर के तापमान को नियंत्रित करने का शरीर का एक तरीका है। बुखार और तीव्र भावनाएं (जैसे, चिंता, तनाव) भी पसीने का कारण बन सकती हैं।

डॉ. उर्वी माहेश्वरी के अनुसार “शरीर के तापमान में वृद्धि पसीने का प्राथमिक कारण है। जब आपके शरीर का तापमान बढ़ता है, तो आपके मस्तिष्क में हाइपोथैलेमस आपके पसीने की ग्रंथियों को सक्रिय करने के लिए संकेत भेजता है, जिससे आपको ठंडा होने में मदद करने के लिए उन्हें पसीना उत्पन्न करने के लिए प्रेरित किया जाता है।”

chehre par zyada paseena kaisa kam karein
ऑयली और पसीने से तर त्वचा पर प्रदूषक ज्यादा जमते हैं। चित्र : शटरस्टॉक

बहुत कम या बहुत ज्यादा पसीना आना हो सकता है कुछ समस्याओं का संकेत

पर्याप्त पसीना न आना और बहुत ज़्यादा पसीना आना दोनों ही समस्याएं पैदा कर सकती हैं। पसीना न आना ख़तरनाक हो सकता है क्योंकि इससे बॉडी ओवरहीट का जोखिम बढ़ जाता है। ज़्यादा पसीना आना शारीरिक रूप से नुकसानदेह होने के बजाय मनोवैज्ञानिक रूप से ज़्यादा नुकसानदेह हो सकता है।

अधिक पसीना किसी अंतर्निहित स्वास्थ्य समस्या का संकेत हो सकता है। थायरॉईड, हृदय संबंधी बीमारी, गर्भावस्था, डायबिटीज, दवाए और हार्मोनल परिवर्तन के कारण अधिक पसीना आ सकता है। हाइपरहाइड्रोसिस से पीड़ित लोगों को बिना किसी कारण के पसीना आता है। उन्हें पूरे शरीर पर या कुछ क्षेत्रों में अत्यधिक पसीना आ सकता है। यह स्थिति जीवन के लिए खतरा नहीं है, लेकिन इसका गंभीर मनोवैज्ञानिक और भावनात्मक प्रभाव हो सकता है।

सेहत के लिए फायदेमंद है पसीना आना

डॉक्टर के अनुसार “लोग नियमित शारीरिक गतिविधि नहीं करते. इससे पसीने की मात्रा भी कम हो जाती है। पसीना शरीर से निकलने वाली पानी की छोटी बूंदें हैं, जिसमें अमोनिया, यूरिया, नमक और चीनी आदि होते हैं। जब भी हमारे शरीर का तापमान सामान्य से ऊपर बढ़ जाता है, तो पसीने की ग्रंथियां शरीर के तापमान को नियंत्रित करती हैं और शरीर से पानी को अवशोषित करती हैं। इस वजह से पसीना आना शरीर के लिए अच्छा होता है।”

Paseena aapke baalo ke liye acha nahi hota hai
पसीना आना हेल्दी है. चित्र: शटरस्‍टॉक

इन 5 तरीकों आपको हेल्दी रखता है पसीना (How sweating is good for your health)

1. प्राकृतिक क्लींजर के रूप में कार्य करता है

जब आपको पसीना आता है, तो आपकी त्वचा के छिद्र खुल जाते हैं, जो आपके शरीर से सारी गंदगी और बैक्टीरिया को बाहर निकालने में मदद करते हैं। यही कारण है कि यह आपके चेहरे को साफ करने में मदद करता है। आप कसरत के बाद अपने चेहरे को सौम्य क्लींजर से धोते हैं, जिसके बाद आपके चेहरे पर चमक आ जाती है।

यह भी पढ़ें: गर्मी से हुई सैंकड़ों हज यात्रियों की मौत, जानिए कैसे अधिक तापमान हो सकता है सेहत के लिए खतरनाक

2, त्वचा में प्राकृतिक चमक लाता है

पसीना आने से आपको प्राकृतिक चमक मिलती है, क्योंकि पसीना आने के पहले की गई गतिविधियां आपके शरीर में ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ा देती हैं, और आपको आंतरिक चमक प्रदान करती हैं। इसलिए, पसीना आने के बाद, त्वचा मुलायम नज़र आती है और प्राकृतिक रूप से जीवंत और चमकदार दिखाई देती है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

3. इम्युनिटी बूस्ट होती है

पसीना बॉडी में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है। पसीने में 95 प्रोटीन की पहचान की गई, जिनमें से 20 नए रक्षा प्रोटीन हैं। एक अध्ययन से पता चलता है कि डर्मसिडिन सबसे प्रचुर मात्रा में पाया जाने वाला स्वेट प्रोटीन है। यह रोगाणुरोधी प्रोटीन की उपस्थिति के माध्यम से मानव त्वचा वनस्पतियों और जीवाणुरोधी रक्षा के विनियमन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

immunity ko badhawa de
बॉडी को मजबूत करता है। चित्र: शटरस्टॉक

4. बॉडी टेम्प्रेचर को मेंटेन रखता है

पसीना आपके शरीर के तापमान को स्थिर रखने में मदद करता है। जब आप पसीना बहाती हैं, तो आपका शरीर अतिरिक्त हीट रिलीज करता है, ठंडा होता है, इस प्रकार बॉडी सही से कार्य कर पाती है।

5. ब्लड सर्कुलेशन सही रहता है

वर्कआउट या अन्य शारीरिक गतिविधियां जिसमें बहुत अधिक पसीना आता है, आपके शरीर में रक्त प्रवाह को बढ़ा देती हैं। इससे यह सुनिश्चित होता है कि ऑक्सीजन और पोषक तत्व आपके शरीर की सभी कोशिकाओं और ऊतकों तक पहुंचते हैं।

यह भी पढ़ें: Smelly Fart : शरीर में पानी की कमी से आने लगते हैं बदबूदार फार्ट, जानिए इनसे कैसे बचा जाए

  • 124
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख