Folic acid vs folate : एक्सपर्ट से जानें एक-दूसरे से कितने अलग हैं ये दोनों पोषक तत्व

Updated on: 25 July 2022, 18:55 pm IST

अभी तक कई लोगों को फोलिक एसिड और फोलेट के बीच का अंतर नहीं पता है। वे इन दोनों के बीच भ्रमित रहते हैं। पर आपको जानना चाहिए कि ये दोनों ही अलग-अलग हैं।

Vitamin aur mneral se bharpur hai broccoli
यहां जानिए फोलिक एसिड और फोलेट में अंतर। चित्र : शटरस्टॉक

फोलिक एसिड और फोलेट विटामिन बी9 के दो अलग-अलग रूप हैं, जिन्हें एक-दूसरे के स्थान पर उपयोग किया जाता है। विटामिन बी9 शरीर के जरूरी फंक्शंस जैसे कि सेल ग्रोथ और डीएनए फॉरमेशन को संतुलित रखने के लिए आवश्यक पोषक तत्व के रूप में जाना जाता है। शरीर में इसकी कमी सेहत को नुकसान पहुंचा सकती हैं। हालांकि ये फाेलिक एसिड और फोलेट दोनों ही अलग-अलग पोषक तत्व हैं। इसके बावजूद लोग इन्हें लेकर कन्फ्यूज होते हैं। आइए जानते हैं बी9 विटामिन के इन दो जरूरी पोषक तत्वों (Folic acid vs folate) के बीच का अंतर।

विटामिन बी9 की कमी किस तरह सेहत के लिए हो सकती है नुकसानदेह

1. एलिवेटेड होमोसिस्टीन, इस समस्या में हृदय रोग और स्ट्रोक होने का खतरा बढ़ जाता है।

2. गर्भवती महिलाओं में फोलेट की कमी जन्म संबंधी असामान्यताओं का कारण बन सकती है, जैसे कि न्यूरल ट्यूब डिफेक्ट।

3. विटामिन बी9 की कमी कैंसर होने की संभावना को बढ़ा सकती है।

इन सभी कारणों को ध्यान में रखते हुए शरीर मे विटामिन बी9 की मात्रा को संतुलित रखना जरूरी है।

जानिए क्या है फोलेट

हेल्थ शॉट्स ने एशियन हॉस्पिटल की सीनियर ऑब्सटेट्रिक और गाइनेकोलॉजिस्ट डॉ उषा प्रियंवदा, से बातचीत की। इस दौरान उन्होंने बताया कि “फोलेट विटामिन बी9 में पाए जाने वाला प्राकृतिक पोषक तत्व है। वहीं लेवोमेफोलिक एसिड या 5-मिथाइलटेट्राहाइड्रोफोलेट (5 – एमटीएचएफ) को विटामिन बी9 का एक्टिव फॉर्म कहा जाता है। यह एक प्रकार का फोलेट है।”

इससे पहले कि फोलेट आपके ब्लडस्ट्रीम में प्रवेश करे, इसे विटामिन बी9 – 5-एमटीएचएफ के बायोलॉजिकल एक्टिव फॉर्म में कन्वर्ट करना जरूरी होता है।

हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक और लेट्यूस फोलेट के सबसे अच्छे स्रोत हैं। वहीं एवोकाडो, ब्रसेल्स स्प्राउट्स और शतावरी में भी फोलेट की भरपूर मात्रा मौजूद होती है।

paalak jawan dikhane me apki madad karta hai
पालक खाने के फायदें । चित्र: शटरस्‍टॉक

अब फोलिक एसिड के बारे में जानिए

फोलिक एसिड विटामिन B9 की एक सिंथेटिक फॉर्म है, जिसे पटरोयलग्लूटामिक एसिड भी कहा जाता है। इसका उपयोग सप्लीमेंट्स के तौर पर किया जाता है। वहीं प्रोसैस्ड फूड्स प्रोडक्ट जैसे कि आटा और ब्रेकफास्ट सीरियल में भी इसका इस्तेमाल होता चला आ रहा है।

डॉ प्रियंवदा के अनुसार “सभी प्रकार के फोलिक एसिड विटामिन B9 के एक्टिव फॉर्म में कन्वर्ट नहीं हो पाते, जो कि 5 एमटीएचएफ हैं। इसलिए, इसे आपके लीवर या टिशु में कन्वर्ट होना पड़ता है। यहां तक की नियमित रूप से बहुत छोटी खुराक जैसे कि 200-400 माइक्रोग्राम भी अगली खुराक लेने तक पूरी तरह से मेटाबोलाइज्ड नहीं की जा सकती है। फोलिक एसिड को विटामिन बी6 के साथ लेने से कन्वर्जन प्रभावी रूप से काम करते हैं।

कभी-कभी परिणाम के तौर पर नॉन मेटाबोलाइज़्ड फोलिक एसिड लोगों के ब्लड स्ट्रीम में पाए जाते हैं। ऐसे में यह आपके स्वास्थ्य जोखिमों का कारण बन सकता है, इसीलिए ऐसी परिस्थिति से पूर्णत: बचने का प्रयास करें।

प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए विटामिन B9 सप्लीमेंट्स का सेवन बहुत जरूरी है। वहीं फोलिक एसिड विटामिन B9 का एक सामान्य सप्लीमेंट है, जो कि आसानी से लिया जा सकता है।

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें