और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

बदलते मौसम में सर्दी-जुकाम से परेशान हैं, तो इंस्‍टेंट रिलीफ के लिए इन घरेलू उपायों को करें ट्राय

Updated on: 10 December 2020, 12:21pm IST
बदलते मौसम में बंद नाक,गले में खराश, नाक से पानी का गिरना,खाने का स्वाद न आना कोरोनावायरस के अलावा सर्दी-जुकाम के भी लक्षण हो सकते हैं। हम बताते हैं इनसे निपटने के इंस्‍टेंट उपचार। 
प्रेरणा मिश्रा
  • 58 Likes
ठंडा पानी पीने से स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
ठंडा पानी पीने से स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

बिन मौसम बरसात और जुखाम कभी भी आ सकता है, बरसात और शुरुआती ठंड में इसका आना आम है, यू.एस. नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन द्वारा एक शोध में बताया गया है कि कोल्ड एक वायरस की तरह छोटी- छोटी बूंदों के माध्यम से हवा में फैलता है।

सर्दी जुकाम होने पर बार बार नाक पोंछने से रगड़ लगती है और पपड़ी पड़ जाती है। चित्र- शटरस्टॉक।

सर्दी-जुकाम से पीडि़त व्‍यक्ति जब छीकता या खांसता है तो यही पार्टिकल दूसरे व्‍यक्तियों को भी संक्रमित करते हैं। पर घबराएं नहीं, क्‍योंकि आपकी रसोई में ही इसके लिए इंस्‍टेंट उपचार उपलब्‍ध है। 

सबसे पहले समझें जुकाम के लक्षण 

असल में जुकाम होने से पहले ही आपका शरीर जुकाम के वायरस के अटैक के संकेत देने लगती है। आपको बस उन्‍हें पहचानना है। जितनी जल्‍दी आप इन लक्षणों को पहचानेंगी, उतनी जल्‍दी आप इसे काबू कर पाएंगी।  

1. शुरुआती समय में

जब आप शुरुआती समय मे 1-2  दिनों के बाद, कोल्ड वायरस के संपर्क में आती हैं, तो आपका शरीर हल्के लक्षणों जैसे हल्की थकान, बहती या भरी हुई नाक और गले में खराश दिखाने लगता है।

बदलते मौसम में बंद नाक,गले में खराश, नाक से पानी का गिरना आम है। चित्र: शटरस्टॉक

भले ही आप व्यस्त हों, परंतु इन चेतावनी संकेतों को अनदेखा न करें। पर्याप्त आराम करें और विशेष रूप से अच्छी तरह से खुद को हाइड्रेटेड रखे। साथ ही इस कोरोना काल में लोगो से दूरी बना कर भी रखें।

2. जुकाम जब अपनी जगह बनाने लगे

जब आपको लगे कि सर्दी वास्तव में आपको अंदर तक पकड़ रही है, जैसे खांसी और कंजेशन का होना। तब आप चिकन सूप, चाय, शहद, खांसी की बूंदों जैसे तुलसी आदि का सेवन करे।

बदलते मौसम में जुकाम से बचना जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक
बदलते मौसम में जुकाम से बचना जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

जिंक एक संतुलित और स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए जरूरी है। इसलिए जिंक युक्त खाद्य पदार्थों जैसे कि अंडे, गार्बनो बीन्स, कद्दू के बीज और साबुत अनाज का सेवन भी करें।

3. जुखाम के लक्षण जब तेज होने लगते है

अगर कोल्ड पूरे जोरों पर है और आप ठंड से कांपने लगी हैं। तब शरीर में दर्द और बुखार होना सामान्य है। इस दौरान हाइड्रेटेड रहने के लिए अपने तरल पदार्थों – पानी, शोरबा और जूस – पर  दोगुना ध्यान दें। खांसी और साइनस के दबाव को राहत देने के लिए, भाप और ह्यूमिडीफ़ायर का उपयोग करें।

जुकाम को काबू करने के घरेलू उपचार 

धीरे-धीरे इन लक्षणो से आपको आराम मिलने लगेगा और उसके बाद भी अगर आप आराम महसूस न करें, तो हम बताते है आपको कुछ इंस्टेंट घरेलू उपचार जो आपको इन संकेतो से दिलाएंगे छुटकारा 

1. अदरक का सेवन

अदरक के स्वास्थ्य लाभों को सदियों से आजमाया जा रहा है। लेकिन अब हमारे पास इसके गुणों का वैज्ञानिक प्रमाण है। उबलते पानी में कच्चे अदरक की जड़ के कुछ स्लाइस खांसी या गले में खराश को शांत करने में मदद कर सकते हैं।

गुनगुने पानी मे शहद और अदरक मिलाकर पीने से मिलते है कई फायदे। चित्र : शटरस्टॉक
गुनगुने पानी मे शहद और अदरक मिलाकर पीने से मिलते है कई फायदे। चित्र : शटरस्टॉक

शोध बताते हैं कि यह मतली को भी दूर कर सकता है जो अक्सर इन्फ्लूएंजा के साथ होती है।

2. शहद की चाय

शहद में विभिन्न प्रकार के एंटी मिक्रोबियल और एंटी बेक्‍टीरियल गुण होते हैं। नींबू के साथ चाय में शहद पीने से गले में दर्द को कम किया जा सकता है। शोध बताते हैं कि शहद एक प्रभावी कफ सप्रेसेंट है। एक अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने पाया कि बच्चों को सोते समय 10 ग्राम शहद देने से उनकी खांसी के लक्षणों की गंभीरता कम हो गई। 

3. लहसुन

लहसुन में एलिसिन कम्पाउण्ड होता है, जिसमें रोगाणुरोधी गुण हो सकते हैं। अपने आहार में लहसुन के पूरक को जोड़ने से सर्दी के लक्षणों की गंभीरता कम हो सकती है।

लहसुन की कलियों मे है बहुत ताकत है। चित्र: शटरस्टॉक
लहसुन की कलियों मे है बहुत ताकत है। चित्र: शटरस्टॉक

कुछ शोधों के अनुसार, यह आपको बार-बार बीमार होने से भी बचाने मदद कर सकता है।

4. नमक के गरारे 

गरम पानी मे नमक डाल कर रोज सुबह गरारे करें, जिससे आपके गले को आराम मिलेगा और ख़ासी से भी मुक्ति मिलेगी।

इतने सारे उपाय जानने के बाद, आप भी यह मान लीजिए कि दवाओं से पहले घरेलू उपचार आपकी मदद कर सकते हैं। 

 

प्रेरणा मिश्रा प्रेरणा मिश्रा

हेल्‍दी फूड, एक्‍सरसाइज और कविता - मेरे ये तीन दोस्‍त मुझे तनाव से बचाए रखते हैं।