ऐप में पढ़ें

गर्भपात के बाद सावधानी बरतना ज़रूरी, यह टिप्स आपके बेहद काम आएंगी

Published on:16 December 2021, 21:30pm IST
यदि आपका या आपके किसी करीबी का हाल ही में गर्भपात हुआ है, तो स्वास्थ्य का ध्यान रखना महत्वपूर्ण है। यहां कुछ टिप्स दिए जा रहे हैं, जो मिस्कैरेज के बाद की देखभाल में मदद कर सकती हैं।

गर्भपात शारीरिक और मानसिक दोनों स्तर पर कष्टदायक होता है। और इसके लिए कई कारण जिम्मेदार हो सकते हैं। पर कारणों को जानने के साथ ही गर्भपात के बाद सेहत का ख्याल रखना भी जरूरी है। 

मिस्कैरेज के बाद अक्स महिलाएं अवसाद, गिल्ट, क्रोध का सामना कर सकती हैं, और संक्रमण से पीड़ित हो सकती है। उनमें खून की कमी का भी जोखिम हो सकता है। गर्भपात कराने वाली महिला को गंभीर पीठ दर्द, खून की कमी, तनाव, हताशा और चिंता का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए उचित देखभाल से इन समस्याओं को नियंत्रित करना जरूरी है। 

गर्भपात अगर सुरक्षित हाथों से न करवाया जाए तो यह जान का जोखिम भी हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
गर्भपात अगर सुरक्षित हाथों से न करवाया जाए तो यह जान का जोखिम भी हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

यहां बताया गया है कि गर्भपात के बाद अपनी देखभाल कैसे करें:

अच्छा और संतुलित आहार लें

आहार में हरी पत्तेदार सब्जियां, सूखे मेवे, अदरक, लहसुन, तिल और दूध शामिल करें।  जंक, प्रोसेस्ड फूड, शक्कर पेय और कोला से बचें। ये चीजें आपकी सेहत पर भारी पड़ सकती हैं। डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही विटामिन डी, आयरन और कैल्शियम जैसे सप्लीमेंट्स लें।

हैवी वर्कआउट करने से बचें 

गर्भपात के बाद कपड़े, बर्तन धोने और पानी की बाल्टी उठाने सहित वजन उठाने से बचने की सलाह दी जाती है। ये आपके लिए समस्याग्रस्त हो सकते हैं। बिल्कुल भी व्यायाम न करें और पर्याप्त आराम करें। स्वस्थ रहने के लिए आपके लिए कम से कम आठ घंटे सोना अनिवार्य होगा।

गर्म पानी का सेवन करें

गर्भपात के बाद पानी की कमी हो सकती है। इसलिए कब्ज से बचने और हाइड्रेटेड रहने के लिए गर्म पानी पिएं।

बॉडी मसाज करवाएं

हां, शरीर की आरामदेह मालिश एक अच्छा विचार हो सकता है। आखिरकार, आप इतने दर्द से गुजरी हैं, और आपको शांत और तनाव मुक्त रहने की जरूरत है। मालिश सुखदायक हो सकती है। सरसों या तिल के तेल का प्रयोग गर्भपात के बाद होने वाले दर्द या ऐंठन को कम करने में मदद कर सकता है। इसलिए दर्द को कम करने और शरीर में गर्मी पैदा करने के लिए विशेष रूप से अपने पैरों और हथेलियों की मालिश करें।  

हॉट कंप्रेशन कर सकता है आपकी मदद 

गर्भपात के बाद, आपको ऐंठन हो सकती है। इसलिए, गर्म बैग दर्द को कम कर सकता है, इससे आप काफी ज्यादा बेहतर महसूस करेगें।

गर्भपात के बाद तुरंत गर्भधारण करने से बचें

अंतिम गर्भपात के तीन महीने बाद आप अपनी गर्भावस्था की योजना बना सकती हैं।  यदि गर्भपात छह महीने के बाद हुआ है, तो एक वर्ष के अंतराल की आवश्यकता होती है। आप अबॉर्शन के आठ सप्ताह बाद संभोग करना शुरू कर सकती हैं।

miscarriage
मिस्कैरेज के बाद अक्स महिलाएं अवसाद, गिल्ट, क्रोध का सामना कर सकती हैं. चित्र : शटरस्टॉक

अपना मेडिकल चेक-अप न छोड़ें

यदि आप उनमें से एक हैं जिनका गर्भपात हो चुका है, तो अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें। अपने चिकित्सक को शरीर में किसी भी असामान्य परिवर्तन की रिपोर्ट करें – ये खून की कमी, चक्कर आना, मतली महसूस करना या उल्टी हो सकती है।  विशेषज्ञ द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करें, और आप गर्भपात के बाद की दिक्कतों से जल्दी ठीक हो सकेंगी।

यह भी पढ़े : क्या साल भर फूला रहा आपका पेट? तो साल के अंत में जानिए वे 5 कॉमन कारण जो ब्लॉटिंग देते हैं

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।