और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

एक्‍सपर्ट की सुझायी ये पोस्‍टपार्टम रिकवरी गाइड हो सकती है नई मां के लिए मददगार

Published on:19 January 2021, 18:19pm IST
अगर आपको लगता है कि गर्भवती होना और बच्चे को जन्म देना सबसे कठिन काम है, तो शायद आप गलत है। क्योंकि एक स्त्री के लिए सबसे ज्यादा मुश्किल है इस प्रक्रिया के बाद होने वाली परेशानियों से निजात पाना।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 90 Likes
बच्‍चे के जन्‍म के बाद आपको अपना ख्‍याल भी रखना है। चित्र: शटरस्‍टॉक
बच्‍चे के जन्‍म के बाद आपको अपना ख्‍याल भी रखना है। चित्र: शटरस्‍टॉक

प्रसवोत्तर शरीर को पहले की तरह स्वस्थ होने में वक़्त लगता है। यह वह वक़्त है जब आपको अपना ख़ास ख्‍याल रखना चाहिए, जिससे आपको बाद में किसी परेशानी का सामना न करना पड़े।
कुछ मांओं के लिए सिर्फ कुछ हफ्ते ही काफी होते है फिर से पूरी तरह स्वस्थ होने में। जबकि कुछ के लिए थोड़ा ज्यादा समय लग सकता है।

ध्यान देने वाली बात यह है कि गर्भावस्था के बाद का समय नई मां के लिए महत्वपूर्ण होता है। फि‍र से पहले की तरह स्‍वस्‍थ होने के लिए आपको सभी जरूरी कदम उठाने की जरूरत है।

शुरुआत में, माताओं को अपनी योनि में दर्द महसूस होता है, ठीक से चलना भी मुश्किल हो जाता है। इसके अलावा, हार्मोन में उतार-चढ़ाव के कारण, मूड स्विंग्स का सामना करना पड़ता हैं। प्रसव के बाद महिलाओं को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

जैसे प्रसव के बाद अत्यधिक रक्तस्राव, बालों का झड़ना, स्तनों में खिंचाव, योनि स्राव, सेक्स के दौरान बेचैनी, प्रसवोत्तर अवसाद, कब्ज, रक्तस्राव, गर्भाशय और मूत्राशय के संक्रमण, वजन घटाने में कठिनाई और मूत्र असंयम भी।

डिलीवरी के बाद कुछ महिलाएं जल्‍दी रिकवरी हो जाती हैं, जबकि कुछ को समय लगता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
डिलीवरी के बाद कुछ महिलाएं जल्‍दी रिकवरी हो जाती हैं, जबकि कुछ को समय लगता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

इन सब से निपटने के लिए, उन्हें एक फुलप्रूफ रिकवरी गाइड की आवश्यकता होती है, जो इस अवधि को संभालना आसान बना सके। प्रसवोत्तर रिकवरी योजना के बारे में अधिक जानने के लिए, हमने मदरहुड अस्पताल, खारघर, मुंबई की प्रसूति एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ परामर्शदाता डॉ. प्रतिमा थमके से संपर्क किया। डॉ. थमके ने एक ऐसी योजना का सुझाव दिया है जिससे रिकवरी काफी तेज हो जाएगी।

1. दाग से निपटना

आप अपने सी-सेक्शन के दाग को साबुन और पानी की मदद से धीरे से साफ कर सकती हैं। बहुत ज्यादा रगड़ने से बचें। फिर एक तौलिया का उपयोग करके इसे सुखाने की कोशिश करें और डॉक्टर द्वारा सुझाए गए मरहम (लोशन) को लगाएं। सी-सेक्शन से गुजरने के बाद खुद को ज्यादा थकाएं नहीं, न ही व्यायाम करें। निशान को अपने आप ठीक होने दें। इसके बाद आप अपनी दिनचर्या फिर से शुरू कर सकती हैं।

2. उन दिनों होने वाले दर्द और इसके उपाय

“अगर आपको शरीर में दर्द या पैर में दर्द है, तो आपको हीटिंग पैड का उपयोग करना चाहिए। हॉट शावर और नियमित रूप से मालिश करना भी एक अच्छा विकल्प होगा। डॉ. थमके का सुझाव है कि आपके शरीर को आराम की ज़रूरत है, और आपको वापस ट्रैक पर आने में समय लगेगा।

डिलीवरी के बाद आपको कई तरह के दर्द का भी सामना करना पड़ता है। चित्र : शटरस्टॉक।
डिलीवरी के बाद आपको कई तरह के दर्द का भी सामना करना पड़ता है। चित्र : शटरस्टॉक।

3. अपने बाउल मूवमेंट का ध्‍यान रखें

अपने आहार में फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करने की कोशिश करें। ये आपको कब्ज से छुटकारा पाने में मदद करेंगे। बहुत सारा पानी पीने से आपको अपने बाउल मूवमेंट को सही बनाए रखने में मदद मिलेगी। बड़ी मात्रा में ताजे फल, सब्जियों और साबुत अनाज का सेवन करें।
आपको लू में रहते हुए तनाव से बचना चाहिए। याद रखें कि सी-सेक्शन के निशान ठीक नहीं हुए हैं। इसके अलावा, शराब और कैफीन से बचने की कोशिश करें।

4. स्तन की देखभाल जरूरी है

सूजन और दर्द भरे स्तनों के लिए, आपको एक गर्म सेक, आइस पैक और मालिश के विकल्प को चुनना चाहिए। स्तनपान कराते समय, नर्सिंग ब्रा पहनने की कोशिश करें। उन फटे निपल्स का इलाज करने के लिए, आपको डॉक्टर द्वारा सलाह दी गई क्रीम लगाने की आवश्यकता होगी।

आपको अपने स्‍तनों का भी ध्‍यान रखनाा है। चित्र- शटरस्टॉक।
आपको अपने स्‍तनों का भी ध्‍यान रखनाा है। चित्र- शटरस्टॉक।

5. केगल एक्सरसाइज को चुनें

प्रसव के बाद, केगल व्यायाम आपकी योनि को वापस आकार में लाने में मदद कर सकता है। मूत्र के असंयम से निपटने का इससे बेहतर कोई तरीका नहीं है।

6. रोजाना व्यायाम करें

आपको अपनी पसंद की किसी भी गतिविधि में शामिल होना चाहिए। इसमें आपके फिटनेस ट्रेनर के मार्गदर्शन में व्‍यायाम, एरोबिक्स या योग शामिल हैं। अपने व्यायाम की दिनचर्या पर वापस जाने से पहले आपको डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए। व्यायाम करने से कब्ज कम हो सकता है, आपका मूड और मांसपेशियों की ताकत बढ़ सकती है।

इस तरह आप अपना ख्‍याल रख सकती हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
इस तरह आप अपना ख्‍याल रख सकती हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

7. Sitz स्नान भी मदद करता है

“एक छोटा सा टब ले, उसमे बैठें, और प्रसवोत्तर दर्द से छुटकारा पायें। लवण और जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल करने से बचें, क्योंकि इससे संक्रमण हो सकता है। इस वक़्त पर आपकी योनि बहुत कमजोर होती है। साथ ही अपनी डॉक्‍टर से परामर्श कर कुछ ऑयल्स का भी इस्तेमाल कर सकती हैं।

हमें उम्मीद है कि आप इस दौरान अपनी सेहत का ख़ास ख्याल रखेंगी

यह भी पढ़ें – फोलिक एसिड जागरूकता सप्ताह : जानिए क्‍यों गर्भवती महिलाओं के लिए सबसे ज्‍यादा जरूरी है फॉलिक एसिड

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।