यहां हैं वे 5 चिंताजनक स्थितियां जिनका संकेत आपका यूरिन आपको दे रहा है

प्रेगनेंसी किट पर दिखने वाली गुलाबी रेखा आपको बताती है कि अब अगले नौ महीने आपको बहुत ध्यान से रहने की जरूरत है। पर सिर्फ प्रेगनेंसी ही नहीं, और भी कई स्वास्थ्य स्थितियां हैं जिनका संकेत यूरिन आपको देता है।
urine pass baar baar hona hai ovarian cancer ka lakshan.
इन उपायों से यूरीन पास करने की बार-बार इच्छा को ठीक किया जा सकता है। चित्र:शटरस्टॉक
Dr. S.S. Moudgil Updated: 27 Oct 2023, 17:59 pm IST
  • 165

मूत्र और मल, ये दोनों ही नेचर्स कॉल हैं। एक स्वस्थ व्यक्ति के लिए इनका नियमित होना बहुत जरूरी है। जब आप बीमार होती हैं, या किसी विशेष स्वास्थ्य स्थिति में इन दोनों में ही बदलाव नजर आ सकता है। तो आइए जानते हैं, उन स्वास्थ्य स्थितियों के बारे में, जब आपका यूरिन आपको अपने स्वास्थ्य पर ध्यान देने के संकेत देता है।

यहां हैं वे 5 संकेत, जिनसे आपका यूरिन स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में बताता है

1 बहुत ज्यादा प्यास लगना और बार-बार पेशाब के लिए जाना

प्यास का कारण बताने से पहले, यह जानना महत्वपूर्ण है कि क्या आप अत्यधिक प्यास से जूझ रहे हैं? अगर ऐसा है तो इसका अर्थ है कि आपके शरीर को और भी ज्यादा तरल पदार्थ चाहिए। इसके बावजूद अगर आपकी प्यास नहीं बुझती और मुंह सूखा रहता है, तो यह मधुमेह का संकेत है।

मधुमेह का संकेत आपका यूरिन भी आपको देता है। इसमें आपको बार-बार यूरिन पास करने की जरूरत महसूस होती है। यह तब होता है जब रक्त में बहुत अधिक शर्करा (ग्लूकोज) होता है। मूत्र में ग्लूकोज का उच्च स्तर भी दिखाई दे सकता है।

इसे देखकर नहीं बता सकते हैं, लेकिन डॉक्टर एक नमूने का परीक्षण करके जांच कर सकता है। समय के साथ, मधुमेह से हृदय रोग, स्ट्रोक, गुर्दे की बीमारी, अंधापन और अन्य समस्याएं हो सकती हैं।

2 झागदार पेशाब आना

झागदार पेशाब मूत्र में सामान्य से अधिक प्रोटीन का संकेत है। यह अक्सर इस बीमारी का सबसे पहला संकेत होता है, जो किडनी खराब होने का प्रमुख कारण होता है। यह गुर्दे की छोटी रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचाता है।

jhagdar peshab aana chinta ka karan hao sakta hai
झागदार पेशाब आना चिंता का कारण हो सकता है। चित्र: शटरस्टॉक

शरीर खून में जरूरत से ज्यादा नमक, पानी और अपशिष्ट को धारण करने की ओर ले जाता है। डॉक्टर एल्ब्यूमिन नामक प्रोटीन के लिए आपके पेशाब की जांच कर सकता है। ताकि यह पता लगाया जा सके कि किडनी प्रोटीन (albumin) बाहर मूत्र में तो नहीं निकाल रहा।

कीटोसिस, रक्त और मूत्र में कीटोन्स नामक चीजें हैं। आपका शरीर इन्हें तब बनाता है जब यह ऊर्जा के लिए वसा को तोड़ना शुरू कर देता है। क्योंकि यह ऊर्जा के लिए चीनी का उपयोग नहीं कर पाता, जैसा उसे करना चाहिए। डायबिटिक कीटोएसिडोसिस में कीटोन्स बढ़ जाते हैं, जो एक मेडिकल इमरजेंसी है।

3 पेशाब मात्रा कम होना

यदि पेशाब काला दिखता है और कम मात्रा में आ रहा है, तो इसका मतलब यह हो सकता है कि शरीर में पानी की कमी है। व्यक्ति थकान, मिचली या घबराहट भी महसूस कर सकता है। यह पानी कम पीने से या बाहर निकलने से यथा दस्त आदि के कारण हो सकता है।

4 गर्भावस्था

प्रेगनेंसी किट में एक रासायनिक पट्टी के द्वारा यूरिन टेस्ट किया जाता है। यह पट्टी तभी दिखाई देती है, जब महिला गर्भवती होगी। इसे मानव कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन या एचसीजी कहा जाता है। पीरियड अवधि के 5 से 10 दिनों के बाद परिणाम सटीक होने की सबसे अधिक संभावना है।

5 पेशाब रुक-रुक कर आना

अगर आपको बार-बार पेशाब करने की इच्छा होती है। मगर जब आप पेशाब करने की कोशिश करती हैं तो पेशाब थोड़ा या रुक-रुक कर आता है या आता ही नहीं है। इसका मतलब यह हो सकता है कि कुछ इसे बाहर आने से रोक रहा है। मूत्र में रक्त भी दिखाई दे सकता है, या यह बादल जैसा दिख सकता है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
urine pass karne me dikkat hona stone ka sign ho sakta hai
अगर यूरिन पास करने में दिक्कत हो रही है, तो यह पथरी का संकेत हो सकता है। चित्र- शटरस्टॉक।

यह रुकावट पुरुषों में बढ़े हुए प्रोस्टेट और महिलाओं में मूत्राशय के कैंसर, मूत्रमार्ग की सख्ती (मूत्र नली में रुकावट का एक रूप), या रक्त के थक्के या गुर्दे की पथरी के कारण हो सकती है। जो अन्य स्थितियों के बीच मूत्राशय से होकर गुजरे हैं।

पथरी भी पेशाब को रोकने का एक कारण हो सकती है। जब कुछ खनिज छोटी छोटी पत्थरी बनाते हैं, जो पेशाब करने के लिए उपयोग की जाने वाली नलियों को अवरुद्ध कर देती हैं। तो वह संक्रमण, रक्त, कैल्शियम और एक निश्चित प्रकार के एसिड के लिए आपके मूत्र का परीक्षण करेंगे। ये परीक्षण छोटी आंत, पैराथायरायड ग्रंथियों या गुर्दे की समस्याओं का पता लगाने में भी मदद कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें – माइग्रेन का दर्द अगर बार-बार परेशान कर रहा है, तो आयुर्वेद हो सकता है आपका मददगार

  • 165
लेखक के बारे में

Dr. S.S. Moudgil is senior physician M.B;B.S. FCGP. DTD. Former president Indian Medical Association Haryana State. ...और पढ़ें

अगला लेख