बोन हेल्थ के लिए धीमा ज़हर हैं आपकी ये 5 आदतें, जानिए क्या होता है हड्डियों पर इनका असर

हम सभी जानते हैं कि 30 के बाद बोन डेंसिटी कमजाेर होने लगती है। इसके बावजूद हम उन आदतों से अनजान रहते हैं जो हड्डियों के लिए धीमे जहर की तरह काम करती हैं।

bone health
हड्डियों की सेहत को बुरी तरह प्रभावित कर सकती हैं आपकी कुछ नियमित आदतें। चित्र शटरस्टॉक।
अंजलि कुमारी Updated on: 17 January 2023, 17:16 pm IST
  • 122
इस खबर को सुनें

आमतौर पर बढ़ती उम्र के साथ हड्डियां कमजोर होने लगती हैं। परंतु आजकल की खराब लाइफस्टाइल और गलत खानपान की आदत के साथ ही कई अन्य गतिविधियां भी समय से पहले हड्डियों की कमजोरी का कारण बन रहीं हैं। जिस वजह से कम उम्र के युवा और कई बार छोटे बच्चे भी हड्डियों से जुड़ी बीमारी का शिकार होते जा रहे हैं। यहां जानते हैं डे टू डे लाइफ की उन खराब आदतों (what causes weak bones) के बारे में, जो आपकी बोन हेल्थ को नुकसान पहुंचा रही हैं।

अधिकांश लोग जानकारी के अभाव में अपनी इन आदतों को नजरअंदाज कर देते हैं। जिस वजह से आगे चलकर अर्थराइटिस जैसी गंभीर समस्या का सामना करना पड़ता है। इसलिए शुरुआत से ही अपनी इन आदतों पर नियंत्रण रखने की कोशिश करें। साथ ही अपने बच्चों को भी इन महत्वपूर्ण विषयों पर जानकारी देना जरूरी है।

ये 5 आदतें पहुंचाती हैं आपकी बोन हेल्थ को नुकसान

1. खाने में जरूरत से ज्यादा नमक लेना

अपने खाने में आप जितना ज्यादा नमक लेती हैं, उतनी ही तेजी से आपके शरीर में मौजूद कैल्शियम कम होने लगता है और स्वस्थ हड्डियों के लिए शरीर में कैल्शियम की एक उचित मात्रा होना बहुत जरूरी है। चीज, चिप्स, जंक फूड्स और अन्य पकेजड फूड्स में नमक की मात्रा काफी ज्यादा होती है। इसलिए इन खाद्य पदार्थों से जितना हो सके उतना परहेज रखने की कोशिश करें। आपको पूरी तरह से नमक से परहेज रखने की जरूरत नहीं है, परंतु एक सही माप में सोडियम लेने की कोशिश करें।

Eat less salt
खाने में नमक की मात्रा कम रखें, चित्र:शटरस्टॉक

2. जरूरत से ज्यादा प्रोटीन का सेवन

ज्यादातर लोग यह सोचते हैं कि शरीर में जितना ज्यादा प्रोटीन होगा उतना ज्यादा हेल्दी रहेंगे। परंतु आपको बताएं कि इस अवधारणा की वजह से हम शरीर की आवश्यकता से ज्यादा प्रोटीन का सेवन करना शुरू कर देते हैं। हालांकि, एक उचित मात्रा में प्रोटीन का सेवन सेहत के लिए अच्छा होता है परंतु इसकी अधिकता हड्डियों की सेहत को नुकसान पहुंचा सकती है।

असल में जरूरत से ज्यादा प्रोटीन होने से शरीर में कैल्शियम की मात्रा कम होने लगती है, जिस वजह से हड्डियों को पर्याप्त पोषण नहीं मिलता और इनके प्रभावित होने की संभावना काफी बढ़ जाती है।

3. शारीरिक स्थिरता भी है एक गंभीर समस्या

क्या आप भी पूरे दिन बैठ कर अपना समय व्यतीत करना पसंद करती हैं, तो सावधान हो जाएं, ऐसा करने से आपके बोन मास में काफी तेजी से गिरावट देखने को मिलती है। खुद को शारीरिक रूप से सक्रिय रखकर आप अपनी हड्डियों को मजबूत रख सकती हैं।

इसके लिए छोटी मोटी गतिविधियां जैसे कि खुले वातावरण में टहलने की आदत, साधारण एक्सरसाइज, लिफ्ट की जगह सीढ़ियों का इस्तेमाल और घर की साफ सफाई भी आपकी बोन डेंसिटी को इंप्रूव करने में मददगार हो सकती है। वहीं यदि आप अपनी हड्डियों को मजबूत बनाना चाहती हैं, तो इसके लिए सबसे ज्यादा प्रभावी रूप से जो काम करता है वह है रनिंग और जंपिंग रोप।

quite smoking
आज ही स्मोकिंग छोड़ें। चित्र: शटरस्‍टॉक

4. स्मोकिंग से पड़ता है बुरा असर

जैसा कि हम सब जानते हैं स्मोकिंग समग्र सेहत के लिए काफी नुकसानदेह मानी जाती है। ठीक इसी प्रकार यह हड्डियों की सेहत को भी नकारात्मक रूप से प्रभावित करती है। वहीं यह हड्डियों में फ्रैक्चर आने की संभावना को बढ़ा देती है।

रिसर्च की मानें तो स्मोकिंग करने वाली महिलाएं एक आम महिला की तुलना में कम एस्ट्रोजन प्रोड्यूस करती है। जिस वजह से समय से पहले मेनोपॉज की स्थिति का सामना करना पड़ता है। और ऐसी स्थिति ऑस्टियोप्रोसिस और हड्डियों से जुड़ी अन्य तरह की बीमारियों की संभावना को बढ़ा देती है।

5. जरूरत से ज्यादा कम वजन भी है खतरनाक

एक उचित वजन मेंटेन करना हेल्दी है, परंतु जरूरत से ज्यादा वजन कम कर लेना आपकी समग्र सेहत के लिए नुकसानदेह हो सकता है। खासकर यह हड्डियों को काफी ज्यादा प्रभावित करता है। अंडरवेट होने की स्थिति ओस्टियोपोरोसिस की संभावना को बढ़ा देती हैं। साथ ही हड्डियों के फ्रैक्चर होने और बोन लॉस होने की संभावना भी काफी ज्यादा होती है।

यदि आप अंडरवेट हैं, तो उचित डाइट और एक्सरसाइज के साथ अपने वेट को मेंटेन रखने की कोशिश करें। साथ ही डॉक्टर की सलाह से अपने डाइट में कैल्शियम की मात्रा को बढ़ा सकती हैं।

यह भी पढ़ें : पार्लर क्यों जाना, जब आप घर पर ही कर सकती हैं क्लीनअप, इन 4 स्टेप्स को करें फॉलो

  • 122
लेखक के बारे में
अंजलि कुमारी अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें