Head injury : भविष्य में भी कई स्वास्थ्य जोखिमों का कारण बन सकती हैं बचपन में लगी सिर की चोट, ध्यान देना है जरूरी

बचपन में सिर पर चोट लगना बहुत आम है, हम में से बहुत से लोगों को बचपन में सिर पर चोट लगी होगी। मगर इन्हें इग्नोर करना भविष्य के लिए भी खतरनाक हो सकता है।
head injury apko kai trah se ho sakti hai
सिर की चोट टक्कर, खरोंच या सिर पर कटने जैसी हल्की हो सकती है। चित्र- अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Published: 9 May 2023, 18:44 pm IST
  • 145

बच्चे दिन भर शरारते करते हैं, खेलते-कूदते हैं। हर दिन गिरते हैं और गिरकर उठते हैं। बचपन के लिए यह सामान्य गतिविधियां हैं। पर कई बार कुछ चोटें इतनी गंभीर होती हैं कि वे भविष्य में भी जोखिम का कारण बन सकती हैं। सिर की चोट को इन गंभीर चोटों में शामिल किया जाता है। इसलिए विशेषज्ञ इन पर तत्काल ध्यान देने की सलाह देते हैं। आइए जानते हैं सिर की चोटों (Head Injury) के बारे में विस्तार से।

सिर की चोट से आशय खोपड़ी, मस्तिष्क, या सिर में मौजूद अन्य किसी ऊतक अथवा रक्त वाहिकाओं को होने वाली किसी प्रकार की क्षति से है। चोट की गंभीरता के आधार पर सिर की चोट को अक्सर मस्तिष्क की चोट या ट्रॉमेटिक ब्रेन इंजरी (traumatic brain injury (TBI)) भी कहा जाता है।

चोट टक्कर, खरोंच या सिर पर कटने जैसी हल्की हो सकती है। यह कंकशन (Concussion), एक गहरा कट (Deep cut) या खुला घाव (open wound), टूटी हुई खोपड़ी की हड्डियां (fractured skull bone), आंतरिक रक्तस्राव (Internal bleeding), या ब्रेन (Brain) को नुकसान हो सकता है। सिर की चोटें बच्चों में विकलांगता और मृत्यु के सबसे सामान्य कारणों में से एक हैं।

कन्कशन सिर के क्षेत्र में लगी चोट है, जो चोट लगने के बाद कुछ मिनटों से लेकर कुछ घंटों तक तत्काल नुकसान का कारण बन सकती है। चित्र- अडोबी स्टॉक

सिर की चोट गंभीर चोटों में गिनी जाती है। इसलिए विशेषज्ञ हर चोट का गंभीरता से निदान और उपचार करवाने की सलाह देते हैं। इस तरह की चोट भविष्य में खतरनाक हो सकती है या नहीं, यह जानने के लिए हमने बात की न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. नीतिशा गोयल से।

यहां समझिए अलग-अलग तरह की हेड इंजरी के बारे में

1 कन्कशन 

कन्कशन सिर के क्षेत्र में लगी चोट है, जो चोट लगने के बाद कुछ मिनटों से लेकर कुछ घंटों तक तत्काल नुकसान का कारण बन सकती है। कुछ आघात हल्के और संक्षिप्त होते हैं, और व्यक्ति या डॉक्टर यह नहीं पहचान पाते है कि चोट लगी है।

ये भी पढ़े- आइस टी को करें इन 4 समर फ्रूट्स के साथ ब्लैंड और गर्मी की सुस्ती और थकान की कर दें छुट्टी

कन्कशन के बाद, कुछ लोगों को कई हफ्तों से लेकर महीनों तक याद्दाश्त और एकाग्रता की समस्या, मूड में बदलाव, व्यक्तित्व में बदलाव, सिरदर्द, थकान, चक्कर आना, अनिद्रा जैसे लक्षणों का सामना करना पड़ सकता है। इसे पोस्ट-कंस्यूसिव सिंड्रोम के रूप में जाना जाता है।

पोस्ट-कंस्यूसिव सिंड्रोम वाले मरीजों को ऐसी गतिविधियों से बचना चाहिए जो उन्हें बार-बार होने वाले आघात के जोखिम में डालती हैं। इन लक्षणों का अनुभव होने पर एथलीटों को खेल में वापस नहीं आना चाहिए। जिन एथलीटों को बार-बार चोट लगती है, उन्हें खेल में भागीदारी समाप्त करने पर विचार करना चाहिए।

2 नील पड़ना

नील मड़ना मस्तिष्क की एक चोट है। इसमें मस्तिष्क के अंदर उस क्षेत्र के आसपास खून बह रहा होता है और सूजन का कारण होता है जहां सिर पर चोट लगी थी या कभी-कभी सिर के विपरीत तरफ भी खोपड़ी में ये चोट लगती है।

इस तरह की चोट हेमेटोमास सूजन का कारण बनती है। अक्सर सूजन आस-पास के अंगों और ऊतकों में जलन पैदा करती है और हेमेटोमा के लक्षणों और जटिलताओं का कारण बनती है। सभी हेमेटोमास संक्रमण के जोखिम को बढ़ा सकती है। जबकि हेमेटोमा पुराने रक्त से बना होता है, इसमें स्वयं रक्त की आपूर्ति नहीं होती है और इसलिए बैक्टीरिया का खतरा होता है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

3 स्कल फ्रैक्चर होना

लीनियर स्कल फ्रैक्चर – लीनियर फ्रैक्चर में, हड्डी टूट जाती है, लेकिन यह हड्डी को स्थानांतरित नहीं करता है। कई मामलों में इन बच्चों को थोड़े समय के लिए आपातकालीन विभाग या अस्पताल में लाया जा सकता है। आमतौर पर कुछ दिनों में सामान्य गतिविधियों को फिर से शुरू कर सकते हैं।

डिप्रेस्ड स्कल फ्रैक्चर – इस प्रकार के फ्रैक्चर को खोपड़ी में कट के साथ या बिना कट के देखा जा सकता है। इस फ्रैक्चर में खोपड़ी का हिस्सा चोट से अंदर धंस जाता है। इस प्रकार की खोपड़ी के फ्रैक्चर में चोट को ठीक करने में मदद के लिए सर्जिकल चीजों की आवश्यकता होती है।

डायस्टेटिक स्कल फ्रैक्चर – ये फ्रैक्चर खोपड़ी में सिवनी रेखाओं (Suture lines) के साथ होता हैं। टांके सिर में हड्डियों के बीच के क्षेत्र में होते हैं, जो बच्चे के विकास के साथ जुड़ जाते हैं। इस प्रकार के फ्रैक्चर में, सामान्य लाइनें चौड़ी हो जाती हैं। ये फ्रैक्चर अक्सर नवजात शिशुओं में देखे जाते हैं।

क्या बचपन की चोट आगे के जीवन को प्रभावित करती है

डॉ. नीतिशा गोयल बताती हैं कि जिन बच्चों को मस्तिष्क की गंभीर चोट लगती है, उनके मस्तिष्क के क्षतिग्रस्त क्षेत्र के आधार पर विभिन्न कार्यों में हानि हो सकती है।

कुछ बच्चे मांसपेशियों के द्वारा किए जाने वाले कुछ काम नहीं कर पाते। जो पकड़ने में कठिनाई के रूप में सामने आ सकती है। जैसे एक पेन / पेंसिल पकड़ना, चम्मच का उपयोग करना, बटन लगाना-खोलना, चलना, संतुलन बनाना। जिस बच्चे के सिर में चोट लगी है, उन्हें इन सभी या इनमें से कुछ कामों में दिक्कत आ सकती है।

tomato flu ke kayi lakshan hain
बचपन में सिर की चोट आपके लिए परेशानी का कारण बन सकती है। चित्र : शटरस्टॉक

इसके अलावा एक बच्चे को बोलने में समस्याएं हो सकती हैं, जैसे बोलने में धीरे होना या भाषा की शिथिलता, जैसे बोली जाने वाली या लिखित भाषा को समझने में असमर्थता या बोलने में असमर्थता, दृष्टि समस्या, सुनने में समस्याएं, निगलने या स्वाद संबंधी समस्याएं।

व्यक्तित्व या व्यवहार में दीर्घकालिक या अल्पकालिक परिवर्तन भी हो सकते हैं। साथ ही दौरे पड़ने का खतरा भी बढ़ सकता है।

क्या करें जब अचानक चोट लग जाए (First Aid for head injury)

सिर की चोटों का उपचार चोट की गंभीरता पर निर्भर करता है। ज्यादातर, हल्की चोटों के लिए उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। हालांकि, आपको उन संकेतों और लक्षणों को जानना चाहिए जिनके लिए मेडिकल देने की आवश्यकता है।

अगर सिर की चोट गंभीर है, तो तुरंत एम्बुलेंस को कॉल करें।

यदि घायल व्यक्ति से खून बह रहा है, तो पट्टी या साफ कपड़े का उपयोग करके रक्तस्राव को रोकने का प्रयास करें।

अगर घाव खुला हो तो उसे न छुएं और न ही उस पर दबाव डालें। इसके बजाय घाव को साफ पट्टी के टुकड़े से ढकें या लपेटें।

यदि व्यक्ति जाग रहा है, तो उसे अपना सिर और गर्दन न हिलाने का निर्देश दें। यह उनकी रीढ़ और मस्तिष्क को और नुकसान से बचाने में मदद कर सकता है।

ध्यान रखें

डॉ. नीतिशा गोयल के अनुसार इन बच्चों को आजीवन चिकित्सा और पुनर्वास उपचार की आवश्यकता हो सकती है। इसमें शारीरिक, व्यावसायिक या भाषण चिकित्सा शामिल हो सकती है। सिर की चोट से बच्चा कितनी अच्छी तरह से ठीक हो जाता है, यह चोट के प्रकार और उपलब्ध अन्य स्वास्थ्य समस्याओं पर निर्भर करता है। घर, स्कूल और समुदाय में बच्चे की क्षमताओं को अधिकतम करने पर ध्यान देना भी महत्वपूर्ण है।

सबसे ज्यादा जरूरी है कि आप अपने बच्चे का ध्यान रखें। अगर किसी तरह की चोट लग गई है, तो उसे इग्नोर न करें और सही उपचार करवाएं।

ये भी पढ़े- Irretrievable Broken Relationship: ये 5 संकेत बताते हैं कि अब आपके रिश्ते में नहीं बची है सुधार की गुंजाइश, मूव ऑन करना है बेहतर

  • 145
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख