दर्दनाक पीरियड से लेकर प्रजनन संबंधी समस्याओं तक, स्मोकिंग बना सकती है आपके जीवन को और ज्यादा जटिल

अध्ययन में सामने आया है कि धूम्रपान महिलाओं के स्वास्थ्य पर कई हानिकारक प्रभाव डालता है। यह कोविड -19 के मामले में भी सच है।
स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है सिगरेट का सेवन. चित्र : शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published on: 21 July 2021, 12:00 pm IST
ऐप खोलें

भारत में 2016-17 में किए गए ग्लोबल एडल्ट टोबैको सर्वे के अनुसार, हर दसवां व्यक्ति धूम्रपान का सेवन करता है। पुरुषों में धूम्रपान का प्रचलन 19 प्रतिशत और महिलाओं में 2 प्रतिशत देखा गया। ये प्रतिशत महिला धूम्रपान करने वालों की एक महत्वपूर्ण संख्या का सुझाव देते हैं, हालांकि यह पुरुषों की तुलना में कम हैं।

धूम्रपान और कोविड-19

विभिन्न रिपोर्टों से पता चलता है कि जहां कोविड से प्रेरित तनाव और चिंता ने सिगरेट के बढ़ते उपयोग में योगदान दिया है, वहीं कुछ धूम्रपान करने वाले इसे महामारी के दौरान छोड़ने की कोशिश कर रहे हैं।

धूम्रपान और कोविड संक्रमण के बीच भी गहरा संबंध है। न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में प्रकाशित 2020 के एक अध्ययन के अनुसार, धूम्रपान न करने वालों की तुलना में धूम्रपान करने वालों को इंटेंसिव केयर यूनिट में भर्ती होने की संभावना 2 से 4 गुना अधिक होती है।

महिलाओं में स्मोकिंग के स्वास्थ्य जोखिम

स्मोकिंग और तंबाकू पर निर्भरता महिलाओं के लिए विभिन्न स्वास्थ्य जोखिम पैदा करती है।

आज ही स्मोकिंग छोड़ें। चित्र: शटरस्‍टॉक

जटिल और दर्दनाक पीरियड

धूम्रपान महिलाओं में मासिक धर्म से पहले के लक्षणों पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है। अध्ययनों से पता चला है कि ऐंठन जैसे गंभीर मासिक धर्म के लक्षणों में 50% की वृद्धि हुई है, जो धूम्रपान न करने वाली महिलाओं की तुलना में धूम्रपान करने वाली महिलाओं में दो या अधिक दिनों तक रहती है।

प्रजनन स्वास्थ्य

7,000 से अधिक रसायन हैं, जिन्हें धूम्रपान के दौरान हम लेते हैं। उनमें से कुछ महिलाओं के प्रजनन स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं। 1, 2-ब्यूटाडीन और बेंजीन महिलाओं में प्रजनन क्षमता को कम कर सकते हैं। ये रसायन ओव्यूलेशन की संभावना को कम करते हैं और फैलोपियन ट्यूब के माध्यम से गर्भाशय में जाने वाले अंडे की गतिशीलता को कम करते हैं। इसके परिणामस्वरूप अस्थानिक गर्भावस्था (गर्भाशय के बाहर भ्रूण का विकास) होता है। एक्टोपिक गर्भावस्था हमेशा भ्रूण के लिए घातक होती है और मां के लिए जानलेवा हो सकती है।

भ्रूण और शिशु पर प्रभाव

यदि मां धूम्रपान कर रही है, तो नवजात शिशु के जन्म के समय कम वजन होने की संभावना अधिक होती है। गर्भ में भ्रूण के फेफड़े ठीक से विकसित नहीं हो पाते हैं। बर्थ डिफेक्ट हो सकते हैं जैसे क्लेफ्ट लिप या क्लेफ्ट प्लेट। गर्भपात की संभावना भी अधिक होती है। स्तन के दूध में निकोटीन हो सकता है और ऐसे शिशुओं में अचानक इन्फेंट डेथ सिंड्रोम होने की संभावना अधिक होती है।

प्रेग्नेंसी प्लान करने से पहले ही स्मोकिंग छोड़ दें, क्योंकि सिगरेट आपके लिए बहुत खतरनाक है। चित्र: शटरस्टॉक।

कैंसर और धूम्रपान

यह एक तथ्य है कि धूम्रपान करने वाले व्यक्तियों में फेफड़ों के कैंसर की समस्या अधिक होती है, क्योंकि धुएं में कई रसायन कैंसरकारी होते हैं। महिलाएं कोई अपवाद नहीं हैं।

इससे सर्वाइकल कैंसर का खतरा भी बढ़ जाता है, जो महिलाओं के लिए विशिष्ट है। डेनिश अध्ययन के अनुसार, रजोनिवृत्ति से पहले धूम्रपान करने वाली महिलाओं में धूम्रपान न करने वालों की तुलना में गुदा कैंसर होने की संभावना 6 गुना अधिक होती है। धूम्रपान छोड़ने में कभी देर नहीं होती। धूम्रपान बंद करने के हर गुजरते साल के बाद सर्वाइकल कैंसर का खतरा काफी कम हो जाता है।

धूम्रपान बंद करना कठिन है लेकिन निश्चित रूप से संभव है। मजबूत दृढ़ संकल्प और चिकित्सीय उपायों जैसे निकोटीन रिप्लेसमेंट थेरेपी की सहायता से, धूम्रपान की क्रमिक या अचानक समाप्ति निश्चित रूप से संभव है। विशेष रूप से कोविड-19 महामारी के दौरान स्वस्थ जीवन के लिए धूम्रपान रोकने के लिए हर स्तर (व्यक्तिगत और सरकारी) पर प्रयास किए जाने चाहिए।

यह भी पढ़ें : आपकी प्रतिरक्षा कोशिकाएं करती हैं गर्भ में शिशु की रक्षा, जानिए क्या कहता है यह अमेरिकी अध्ययन

लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
Next Story