बार-बार झपकी आना हो सकता है हाई ब्लड प्रेशर और स्ट्रोक का संकेत, जानिए क्या कहते हैं एक्सपर्ट

जब आप बहुत ज्यादा थक जाती हैं, तब हल्की सी झपकी लेना आपको फिर से तरोताजा कर सकता है। पर अगर आपको बार-बार इसकी जरूरत महसूस हो रही है तो ये खराब संकेत हैं।

Frequent-napping
स्वस्थ जीवन के लिए 8 घंटे की नींद जरूरी है। चित्र शटरस्टॉक
निशा कपूर Published on: 30 September 2022, 20:15 pm IST
  • 149

स्वस्थ और सेहतमंद जीवन के लिए कम से कम 8 घंटे की नींद को जरूरी माना गया है। रात की नींद बेहद जरूरी होती है और नींद के फायदों को भी दरकिनार नहीं किया जा सकता है। दिन में भी जब आप थकान का अनुभव करती हैं, तो थोड़ी देर झपकी लेना आपको फिर से एनर्जेटिक बना सकता है। पर क्या आप जानती हैं कि बार-बार झपकी (Frequent napping) लेना हाई ब्लड प्रेशर और स्ट्रोक का भी संकेत हो सकता है! आइए जानते हैं इस बारे में क्य कहते हैं अध्ययन।

Power-nap-1 (1)
दिन में लंबे समय तक सोना अच्छी आदत नहीं है। चित्र: शटरस्टॉक

क्या कहती है ये नई रिसर्च

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन की मैगज़ीन, हाइपरटेंशन में प्रकाशित एक रिसर्च के मुताबिक, जो लोग बार-बार झपकी लेते हैं, उनमें हाई ब्लड प्रेशर होने की संभावना 12% अधिक होती है। जबकि स्ट्रोक होने का जोखिम उनमें 24% ज्यादा होता है।

एएचए ने एक प्रेस रिलीज में कहा कि चीन में शोधकर्ताओं ने यूके बायोबैंक की जानकारी की स्टडी की, जो कि यूनाइटेड किंगडम में रहने वाले 40 से 69 वर्ष के बीच के आधे मिलियन लोगों से आनुवंशिक, जीवन शैली और स्वास्थ्य संबंधी जानकारी वाला एक बायोमेडिकल डेटाबेस है।

यह भी पढ़े- ये 5 संकेत बताते हैं कि आपकी आंखें थकने लगी हैं, जानिए कैसे देना है उन्हें आराम

कैसे किया गया अध्ययन

एरिज़ोना के टक्सन में बैनर-यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर में बिहेवियरल स्लीप मेडिसिन क्लिनिक के निदेशक माइकल ग्रैंडनर ने कहा, “रात में खराब नींद खराब स्वास्थ्य से जुड़ी है और इसके लिए झपकी लेना पर्याप्त नहीं है।”

जारी रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि जिन लोगों ने कहा कि वे आमतौर पर झपकी लेते हैं, उनमें अधिकतर लोग उन लोगों की तुलना में कम शिक्षा और कम आय के स्तर वाले पुरुष थे, जिन्होंने कभी या कभी-कभी झपकी नहीं ली। जो समूह आमतौर पर झपकी लेता था, वह सिगरेट भी पीता था, रोजाना शराब पीता था और खर्राटे लेता था।

हाई बीपी के मरीजों को रखा गया अध्ययन से बाहर

जिन लोगों को स्ट्रोक या हाई ब्लड प्रेशर हुआ था, उन्हें स्टडी से बाहर रखा गया, जिससे करीब 360,00 प्रतिभागियों को छोड़ दिया गया। उन्होंने ब्लड, यूरिन और लार के नमूने के साथ-साथ उनकी जीवन शैली के बारे में जानकारी प्रदान की।

kam ke dauran bich bich me jhapaki lene se performance badhati hai
काम के दौरान झपकी आने से परफार्मेंस बेहतर होती है। चित्र : शटरस्टॉक

उनसे 2006 और 2019 के बीच चार बार झपकी लेने की आदतों के बारे में पूछा गया और उनकी झपकी की आवृत्ति “कभी नहीं / शायद ही कभी,” “कभी-कभी,” या “आमतौर पर” के रूप में रिपोर्ट की गई।

पिछले महीने, एएचए ने उन चीजों की अपनी चेकलिस्ट में पर्याप्त नींद लेना जोड़ा जो लोगों को सर्वोत्तम कार्डियोवैस्कुलर स्वास्थ्य के लिए करने की आवश्यकता है। अन्य सात जीवनशैली कारक निकोटीन जोखिम, शारीरिक गतिविधि, आहार, वजन, रक्त ग्लूकोज, कोलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर हैं।

फिलिस ज़ी, एमडी शिकागो में नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी फीनबर्ग स्कूल ऑफ मेडिसिन में सेंटर फॉर सर्कैडियन एंड स्लीप मेडिसिन के निदेशक हैं। वे कहते हैं, “​​​​मुझे लगता है कि नया अध्ययन, स्वास्थ्य देखभाल प्रदाताओं द्वारा नियमित रूप से रोगियों को झपकी लेने और अत्यधिक दिन की नींद के बारे में पूछने के महत्व पर फोकस करता है। कार्डियोवैस्कुलर बीमारी के जोखिम को संभावित रूप से संशोधित करने के लिए अन्य योगदान स्थितियों का मूल्यांकन करता है,”

यह भी पढ़े- हेयर वॉल्यूम हो गया है कम? तो इन टिप्स की मदद से बालों को फिर से बनाएं घना

  • 149
लेखक के बारे में
निशा कपूर निशा कपूर

देसी फूड, देसी स्टाइल, प्रोग्रेसिव सोच, खूब घूमना और सफर में कुछ अच्छी किताबें पढ़ना, यही है निशा का स्वैग।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory