एयर कंडीशनर में रहने की पड़ गई है आदत? तो इन स्वास्थ्य जोखिमों के लिए हो जाएं तैयार

झुलसा देने वाली गर्मियों में अब पंखे और कूलर की बात पुरानी हुई। एयर कंडीशनर के बिना अब किसी का गुज़ारा नहीं। पर क्या आप इससे होने वाले स्वास्थ्य जोखिमों के प्रति जागरुक हैं?

ac ke nuksaan
मानव शरीर पर एयर कंडीशनर के नुकसान. चित्र : शटरस्टॉक
  • 121

घर, दफ्तर, मेट्रो, माॅल… कोई भी जगह ऐसी नहीं बची है जहां एसी (Air conditioner) नहीं है। बल्कि अब लोग उन जगहों पर जाने से परहेज करने लगे हैं, जहां एसी नहीं होता। यह आपके लिए गर्मियों को थोड़ा और सुविधापूर्ण बना देता है। एयरकंडीशनर वाले कमरे में यकीनन नींद भी अच्छी आती है। पर क्या आप जानती हैं कि आपके जीवन को सुविधापूर्ण बनाने वाला एसी आपकी सेहत के लिए संकट (Air conditioner side effects) भी पैदा कर रहा है। लंबे समय तक एयी में रहने की आदत स्किन ड्राइनेस से लेकर ज्वाॅइंट पेन तक कई स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकती है।

जी हां… एसी की ठंडी – ठंडी हवा बहुत अच्छी लगती है। मगर यही हवा स्वास्थ्य को कई नुकसान पहुंचा सकती है, जिनके बारे में आपको कोई अंदेशा भी नहीं। यह आपके और आपके पूरे परिवार को कई तरह से प्रभावित कर सकती है।

ज्यादा लंबे समय तक एसी में रहने की आदत आपको दे सकती हैं ये स्वास्थ्य जोखिम

1 आलस

एसी में रहने का सबसे बढ़ा नुकसान है आलस। शोध ने संकेत दिया है कि जिन लोगों के घरों या कार्यालयों में एयर कंडीशनर है, उनको ज़्यादा सुस्ती महसूस होती है। यह अक्सर ऐसे वातावरण में होता है जहां एयर-कंडीशनर बहुत कम तापमान पर सेट होता है।

इसलिए यदि आपका बच्चा एसी में पढ़ता है, तो उसे ऐसा करने के लिए मना करें। प्राकृतिक हवा में रहना स्वास्थ्य के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद माना जाता है। पर इस मौसम की गर्मी शायद आपको ऐसा न करने दे। इसके लिए खुले हवादार कमरे में पंखे की हवा का इस्तेमाल करना बेहतर होगा।

2 बढ़ाता है आंखों में परेशानी

आंखों की समस्याओं से जूझ रहे लोग एयर कंडीशनर से बचें। अगर आपकी आंखें पहले से ही ड्राई हैं, तो ज्यादा देर तक एसी में रहने से लक्षण और खराब हो सकते हैं। यदि आपकी आंखें ड्राई हैं तो आपकी आंखें अधिक खुजली और जलन महसूस करेंगी। ड्राई आई सिंड्रोम वाले लोगों को ज्यादा देर तक एसी में नहीं रहना चाहिए।

aankhon mein samsya aa sakti hai
आँखों में समस्या आ सकती है। चित्र : शटरस्टॉक

3 डिहाइड्रेशान का है कारण

अन्य कमरों की तुलना में एसी वाले कमरों में डिहाइड्रेशन होने की संभावना ज़्यादा होती है। एसी कमरे से बहुत अधिक नमी सोख लेता है, तो आप डिहाइड्रेटेड महसूस करेंगी। इसकी वजह से आपके शरीर का पानी भी सूख जाता है।

4 ड्राई स्किन का है कारण

ए.सी. में बहुत देर तक बैठने वाले लोगों में रूखी और खुजली वाली त्वचा एक सामान्य समस्या हो सकती है। एसी के अत्यधिक संपर्क में आने के साथ-साथ धूप के संपर्क में आने से त्वचा रूखी और खुजलीदार हो जाती है।

5 सिर दर्द

कमरे के अंदर और बाहर की गर्मी अलग-अलग होती है और एक एसी कमरे में प्रवेश करने पर, आपको तापमान के अनुकूल होने के लिए पर्याप्त समय नहीं मिलता है। परिणाम – सिरदर्द। यह डिहाइड्रेशन के कारण भी हो सकता है। एसी के लगातार संपर्क में रहने से माइग्रेन से पीड़ित लोगों में सिरदर्द भी हो सकता है।

6 संक्रमण

यह एक और एयर कंडीशनिंग का हानिकारक प्रभाव है। एसी में सोने से आपका मुंह सूख सकता है, नासिका मार्ग सूखने से वायरल संक्रमण हो सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि श्लेष्मा शरीर को संक्रमण से दूर रखने के लिए एक सुरक्षात्मक परत बनाता है। अगर एसी में खराबी आ जाती है, तो कुछ ही समय में संक्रमण शरीर को प्रभावित करेगा।

यह भी पढ़ें : मलेरिया से जल्दी रिकवर होने के लिए खानपान से जुड़ी इन बातों का रखें ख्याल

  • 121
लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory