फॉलो

Covid-19 : अनलॉक 4.0 में शुरू कर रहीं हैं बाहर निकलना, तो गांठ बांध लें ये 13 बातें

Published on:7 September 2020, 13:37pm IST
अनलॉक 4.0 में भारत में कुछ और ढिलाई दी जा रही है। पर ध्‍यान रहे काम-काज शुरू करना जरूरी है, इसलिए हम सब बाहर निकल रहे हैं। यह कोविड-19 के खत्‍म हो जाने का प्रमाण कतई नहीं है।
Dr. S.S. Moudgil
  • 98 Likes
ये खास बातें आपको संक्रमण से बचाए रखेंगी। चित्र: शटरस्‍टॉक

अनलॉक 4.0 के साथ हम एक नए रूटीन में शामिल हो रहे हैं। हम सभी जानते हैं कि कोविड-19 के कारण दुनिया पूरी तरह ठप हो गई। कितने ही लोगों की नौकरियां चली गईं। काम-धंधे बंद हो गए, लोग हताशा और मानसिक अवसाद के शिकार हो गए।

इन सब से अपनी बहुमूल्‍य जनसंख्‍या को बचाने के लिए सरकारें धीरे-धीरे फि‍र गतिविधियां खोल रहीं हैं। इस न्‍यू नॉर्मल में अब हमें पहले से ज्‍यादा सतर्क रहना होगा। इसलिए अगर आप भी आज से बाहर निकल रहीं हैं, तो इन सुरक्षा उपायों का बहुत ध्‍यान रखें।

इसी श्रृंखला में अनलॉक 4.0 में भारत में कुछ और ढिलाई दी जा रही है। पर ध्‍यान रहे काम-काज शुरू करना जरूरी है, इसलिए हम सब बाहर निकल रहे हैं। यह कोविड-19 के खत्‍म हो जाने का प्रमाण कतई नहीं है।

इस समय में आपको खुद को इस संक्रमण से बचाए रखने के लिए विशेष एहतियात बरतने की जरूरत है।

युवाओं में कोरोनावायरस का अनुपात बढ़ता जा रहा है। चित्र: शटरस्‍टॉक
  1. घर से बाहर कम से कम जाएं।
  2. बाहर जाने पर मास्क से नाक मुंह पूरी तरह ढंके। किसी भी व्यक्ति की सांस, खांसी या छींक आपकी आँखों की राह से भी वायरस से इन्फेक्ट कर सकती है। इसलिए चश्मा या गोगल पहनकर बाहर निकलें।
  3. लिफ्ट का प्रयोग न करें। अगर करना मजबूरी हो तो लिफ्ट में भी मास्क चश्मा जरुर पहनें। लिफ्ट का एरिया बहुत छोटा होता है। यहां खांसी, छींक और श्‍वास के साथ निकले ड्रॉपलेट्स ज्‍यादा देर तक सक्रिय रह सकते हैं।
  4. पहले कहा गया था कि बच्चों को कोरोनावायरस नहीं होता, पर अब यह बच्चों में ही नहीं पेट्स डॉग्स में भी पाया गया है। अत: उनका ध्यान रखें।
    सेनेटाइजर जेब में रखें। पार्किंग में खड़ी कार खोलने से पहले उसके हैंडल को सेनेटाइजर से साफ करें। इससे अगर किसी ने उसे छुआ होगा, तो भी आप संक्रमण के जोखिम से बचे रहेंगे।
  5. ब्याह-शादी या मृत्यु जैसे सामुहिक जुटान में विशेष सावधानी रखें। बच्चों व बुजुर्गो को न ले जाएं।
  6. बाहर से घर आकर फौरन चाहे दफ्तर, दुकान गए हों – अपने पहने हुए कपडे बदल लें। कम से कम 24 घंटे उन्हें न छुएं।
  7. मेड, ड्राईवर, हाउसहेल्‍प – अगर घर आएं तो वे भी मास्क उसी तरह पहनकर आएं तथा आते ही उसे साबुन से हाथ धोने को कहें। 20 सेकेण्ड तक साबुन मसलें, फिर हाथ धोएं और देखें कि टैप भी उस दौरान धोया गया हो।
  8. कोरियर या डिलीवरी मेन इस संक्रमण को सबसे ज्‍यादा फैला सकते है। अत: उन्हें सोसायटी के गेट या घर के बाहर ही डिलीवरी करने को कहें।
  9. बाजार से कम से कम खाद्य पदार्थ मंगवाएं। जंक फूड से अभी दूर ही रहें, ये इम्युनिटी कम करते हैं।

    यात्रा के दौरान कोरोनोवायरस से बचना है, तो अपने हाथों को बार-बार धोएं। चित्र : शटरस्टॉक
  10. यात्रा केवल तभी करें, जब बहुत जरूरी हो। जहां तक सम्भव हो टैक्सी या सार्वजनिक वाहन के स्थान पर निजी वाहन का प्रयोग करें।
  11. अति आवश्यक केवल मास्क लगाने से बचाव नहीं होगा। वैज्ञानिकों का कहना है कि मास्क रोगी द्वारा कोरोना के संक्रमण को फैलाने में बचाव करती है, लेकिन अगर रोगी बिना मास्क खांसता या छींकता है और आप मास्क पहने उसके करीब बैठे या खड़े हैं, तो भी आपको कोरोना हो सकता है। अत: भौतिक दूरी जिसे सोशल डिस्‍टेंसिंग जैसा भ्रामक नाम दे दिया गया है आवश्यक है। सोसायटी से दूरी नहीं, रोग से दूरी करनी है। सोसायटी से तो आप वीडियो कांफ्रेंसिंग या छह फुटकी दूरी बना कर भी सम्पर्क में रह सकते हैं।
  12. मित्रों, रिश्तेदारों से सम्पर्क अवश्य बनाये रखें। जिससे आप या उनमें कोई मानसिक अवसाद घर न करने पाएं। अकेलापन अवसाद का कारण हो सकता है।
  13. सब्जी, फल खरीदने के बाद उन्‍हें कम से कम 20 सैकेंड तक धोएं। बेहतर होगा कि आप उन्‍हें घर में प्रयोग से पहले कुछ घंटे के लिए ऐसी जगह पर रखें, जहां धूप आती हो। गोभी, पालक आदि को आधा घंटे पानी की बाल्टी जिसमें 2 चम्मच सिरका डाला हो भिगो कर रखें और फिर धो लें।

कुछ अन्य बातें

रोज घर का हर सदस्य 5 साल से बड़ा – एक लहसुन की कली खाए। लहसुन की कली को काट कर 5 मिनट रख दें। वह ऑक्सीजन से मिल कर एक एंजाइम एल्सुनिन बनाती है, जिसमें एंटी वायरल ताकत होती है।

लहसुन आपको संक्रमण से बचाए रखता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

ड्राई फ्रूट खुबानी ब्राउन रंग की कई मिनरल यथा जिंक – मैग्नीशियम आदि का भण्डार होती है जिनकी एंटी वायरल शक्ति को वैज्ञानिक मानते हैं। उसका सेवन रोज करें। उसका बीज कड़वा होता है, लेकिन उसमें इन मिनरल की मात्रा सबसे अधिक होती है।

अत: आप सप्ताह में एक बार उसे पीस कर ले सकते हैं। केमिस्ट से मिलने वाली जिंक की गोली सप्ताह में एक या दो बार ले सकते हैं। याद रहे इन में एंटी वायरल शक्ति पाई गई है, लेकिन ये कोरोना का इलाज नहीं हैं। ये सिर्फ वायरस के खिलाफ आपकी इम्युनिटी को बढ़ा सकते हैं।

घबराएं नहीं पॉजिटिविटी यानी सकारात्‍मक विचार इम्युनिटी को बढाते हैं। हताशा, गुस्सा, घृणा जैसे नेगेटिव विचार इम्युनिटी घटाते हैं- यह एक वैज्ञानिक तथ्य है।

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Dr. S.S. Moudgil Dr. S.S. Moudgil

Dr. S.S. Moudgil is senior physician M.B;B.S. FCGP. DTD. Former president Indian Medical Association Haryana State.

संबंधि‍त सामग्री