ये 5 संकेत बताते हैं कि आपकी आंखें थकने लगी हैं, जानिए कैसे देना है उन्हें आराम

आंखें हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं और इनका ख्याल रखना हमारी ज़िम्मेदारी है। पर हमारी लापरवाही और अतिरिक्त बोझ के कारण कभी-कभी आंखें बुरी तरह थकने लगती हैं।

apni aankhon ka khyaal rakhein
इस तरह रखें अपनी आंखों का ख्याल। चित्र: शटरस्टॉक
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Published on: 30 September 2022, 13:57 pm IST
  • 140

आजकल दुनिया भर के सारे काम बस एक लैपटॉप या फोन के माध्यम से हो जाते हैं। जब से कोविड-19 (Covid-19) ने दस्तक दी है, तब से आंखों पर अतिरिक्त भार पड़ने लगा है। बच्चों की पढ़ाई से लेकर, शॉपिंग, सेमिनार, बैकिंग, महत्वपूर्ण डीलिंग्स सभी कुछ ऑनलाइन हो रहा है। जहां सब कुछ आसान हुआ है, बस मुश्किलें बढ़ी हैं तो बस आपकी आंखों के लिए। इन सभी का दबाव आपकी आंखों पर पड़ने लगता है और वे धीरे-धीरे तनाव (Eye strain) और थकान (Eye fatigue) से परेशान होने लगती हैं। यहां हम उन्हीं संकेतों के बारे में बता रहे हैं, जो बताते हैं कि अब आपकी आंखों (How to relax your eyes) को आराम की जरूरत है। अगर इस स्थिति में उन्हें आराम नहीं दिया गया, तो आपको बहुत जल्दी आंखों से संबंधित (Eye health issues) समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

हमारी आंखें शरीर का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा हैं, लेकिन वर्क फ्रॉम होम (Work From Home) और डिजिटल लाइफ़स्टाइल (Digital Lifestyle) इन पर कहर बरपा सकता है।

क्लीवलैंड क्लीनिक के अनुसार, जिस तरह आपके शरीर को आराम की ज़रूरत होती है, ठीक उसी तरह आपकी आंखों को भी आराम चाहिए होता है, दिन भर के स्क्रीन टाइम से। कई बार आपको अपनी आंखों में थोड़ा स्ट्रेन (Eye Strain) भी महसूस होगा होगा, लेकिन हम इस पर ज़्यादा ध्यान नहीं देते हैं। अपनी आई हेल्थ को मेंटेन करने के लिए इन संकेतों पर ध्यान देना ज़रूरी है।

ये 5 संकेत बताते हैं कि आपकी आंखें थक रहीं हैं और उन्हें एक ब्रेक चाहिए

1. आंखों से पानी आना

अक्सर आपने देखा होगा कि रात हो या सुबह उठते – उठते आंखों में पानी आता। मगर यदि आपके साथ ऐसा दिन के समय और अपने काम के दौरान हो रहा है तो यह संकेत है कि आपकी आंखों को ब्रेक की ज़रूरत है।

2. आंखें सूख जाना

आंखें सूखना या ड्राई आई (Dry Eye) अपने आप में एक तरह की समस्या है। यह तब होती हैम जब आपका स्क्रीन टाइम बढ़ जाता है। साथ ही, काम करते हुए हमें पता नहीं चलता है और हम पलके तक झपकाना भूल जाते हैं।

Burning eyes ke kayi karan ho sakte hain
आंखों में जलन होने के लिए कई कारण जिम्मेदार हो सकते हैं। चित्र : शटरस्टॉक

3. धुंधला दिखाई देना

जब आपकी आंखों पर ज़्यादा स्ट्रेन पड़ने लगता है। तब धुंधला दिखाई देता है। यदि सुबह उठकर आपको हल्का धुंधला दिखाई देता है इसका मतलब है आपकी आंखों को रेस्ट चाहिए।

4. लाइट से सेन्सटिविटी होना

यदि आपको लाइट के डायरेक्ट कॉन्टैक्ट (Direct Contact to Light) में आने से तकलीफ होती है, तो इसकी वजह है कि आपकी आंखें सेंसिटिव हो गई हैं।

5. सर और कंधे में दर्द

यदि आपको काम के दौरान या हर रोज़ सर और कंधों में दर्द रहता है तो इसका सीधा मतलब यही है कि आपकी आंखों को आराम की ज़रूरत है।

क्लीवलैंड क्लीनिक के अनुसार, ये उपरोक्त संकेत आई स्ट्रेन (Symptoms of Eye Strain) के हैं। यह एक तरह की आंखों की समस्या है जो आजकल काफी आम होती जा रही है। यह कोई गंभीर समस्या नहीं है, लेकिन इसे इग्नोर भी नहीं किया जाना चाहिए।

सिरदर्द की जांच कराना है ज़रूरी। चित्र: शटरस्टॉक

आई स्ट्रेन की समस्या को बेसिक लाइफस्टाइल चेंज की मदद से ठीक किया जा सकता है, तो चलिये जानते हैं कुछ बचाव के उपाय

इस समस्या को कम करने के लिए आप हर समय पढ़ने या लिखने के लिए चश्मे का इस्तेमाल करें।

साथ ही, पढ़ने, लिखने और ड्राइविंग से ब्रेक लेने से भी आंखों के तनाव को कम करने में मदद मिल सकती है।

लुब्रिकेटिंग आई ड्रॉप्स का इस्तेमाल करें।

अपनी एक्टिविटी के आधार पर स्क्रीन लाइट को मैनेज करना सीखें।

ह्यूमिडिफायर का इस्तेमाल करें।

धूम्रपान छोड़ें।

लैपटॉप पर काम करने और काम पर बैठने के लिए अच्छी कुर्सी का इस्तेमाल करें।

अपनी स्क्रीन को नियमित रूप से साफ़ करें क्योंकि स्मज कंट्रास्ट को कम कर सकते हैं।

काम के बाद आंखों पर गीला कपड़ा या ठंडा कपड़ा रखें।

20-20-20 रूल का पालन करें

डिजिटल आई स्ट्रेन को कम करने के टिप्स में 20-20-20 रूल को फॉलो करना शामिल है। यह रूल कहता है कि हर 20 मिनट में अपने से 20 फीट दूर किसी चीज को देखने के लिए 20 सेकंड का ब्रेक लें।

यह भी पढ़ें : #HeartMatters : हार्ट हेल्थ को बनाए रखने के लिए जानिए 4 अलग – अलग तरह के प्राणायाम

  • 140
लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory