वैलनेस
स्टोर

40 से पहले मेनोपॉज होना सामान्य है! जानिए एक स्त्री रोग विशेषज्ञ से इस विषय में सब कुछ

Published on:25 December 2020, 17:33pm IST
समय से पहले मेनोपॉज तब होता है, जब आपकी ओवरी 40 वर्ष की आयु से पहले हार्मोन का उत्पादन बंद कर देती है। आपको इसके बारे में जानने की जरूरत है।
Dr Surabhi Siddhartha
  • 80 Likes
40 से पहले अगर मेनोपॉज का सामना कर रहीं हैं, तो इन बातों का ध्‍यान रखें। चित्र: शटरस्‍टाॅॅॅक

40 वर्ष की आयु से पहले यानी समय से पहले मेनोपॉज को प्रीमैच्योर मेनोपॉज कहा जाता है। हां, आपने इसे सही सुना! आप यह जानकर चौंक जाएंगी कि समय से पहले मेनोपॉज 25 साल की उम्र के आसपास की छोटी उम्र की महिलाओं में भी देखा जा सकता है!

हो सकता है कि आपको समय से पहले मेनोपॉज हो जाए, यदि आपकी ओवरी हार्मोन बनाना बंद कर देती है। इस प्रकार आपके पीरियड्स 40 साल के होने से पहले ही समाप्त हो जाते हैं। ऐसा बहुत सारे प्राकृतिक कारणों से हो सकता है- नहीं, पर्यावरणीय कारकों का इससे कोई लेना-देना नहीं है।

कैसे पता चलेगा कि आप समय से पहले मेनोपॉज का अनुभव कर रहे हैं?

समय से पहले मेनोपॉज के लक्षण हैं बुखार, योनि का सूखापन, वजन बढ़ना, रात में पसीना आना, सेक्स ड्राइव कम होना, नींद की समस्या, चिंता, अवसाद और यहां तक ​​कि कम बोन डेन्सिटी भी।

अत: 60 वर्ष की आयु में होने वाले दुष्परिणाम कम उम्र में ही दिखाई दे सकते हैं। दुर्भाग्य से, समय से पहले मेनोपॉज को स्थगित करने का कोई तरीका नहीं है। एक बार जब आप इन लक्षणों को देख लेते हैं, तो आपको तुरंत अपने गाईनोकॉलोजिस्ट से संपर्क करना चाहिए।

समय से पहले मेनोपॉज का इलाज कैसे किया जाता है?

आपको ब्लड टेस्ट करने या यहां तक ​​कि शरीर में एस्ट्रोजन के स्तर और संबंधित हार्मोन जैसे फॉलिकल स्टिम्युलेटिंग हार्मोन (एफएसएच) को मापने की सलाह दी जाएगी। फिर, आपको हार्मोनल थेरेपी के बारे में जानकारी दी जाती है।

हार्मोनल थेरेपी समय से पहले मेनोपॉज से निपटने में मददगार हो सकती है, लेकिन व्यक्ति को साइड-इफेक्ट्स से बचने के लिए नियमित फॉलो-अप के लिए डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

समय से पहले मेनोपॉज आपके शरीर के लिए क्या प्रभाव डाल सकता है

समय से पहले मेनोपॉज शरीर में कैल्शियम और विटामिन की कमी का कारण बनता है, जिससे कम उम्र में फ्रैक्चर की संभावना बढ़ती है, यूटीआई, बालों के झड़ने, शुष्क त्वचा की समस्याओं और यहां तक ​​कि मूड स्विंग का कारण बन सकती है।

मेनोपॉज के साथ कई तरह की समस्‍याएं भी हो सकती हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
मेनोपॉज के साथ कई तरह की समस्‍याएं भी हो सकती हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

एक बार जब आप इन दुष्प्रभावों का सामना करते हैं, तो आपको कैल्शियम और विटामिन डी की खुराक लेने की सलाह दी जाएगी कि यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपकी हड्डी का स्वास्थ्य नहीं बिगड़ रहा है।

इसी तरह, आपको अपने स्वास्थ्य का पूरा प्रभार लेना होगा। आपका डॉक्टर आपको हर छह महीने में अपने कोलेस्ट्रॉल के स्तर की निगरानी करने के लिए कहेगा। आपको अपने डॉक्टर द्वारा सुझाए गए पैप स्मीयर टेस्ट और स्तन मैमोग्राफी भी करवाने होंगे।

समय से पहले मेनोपॉज एक सुखद वास्तविकता नहीं है, अगर आप अपने आप को यह अनुभव कर रहे हैं – तो तुरंत अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से मिलें।

यह भी पढ़ें – क्‍या आपकी नींद भी आधी रात को टूट जाती हैं? तो जानिए इसके लिए जिम्‍मेदार 6 कारण

Dr Surabhi Siddhartha Dr Surabhi Siddhartha

Dr Surabhi Siddhartha is a consultant obstetrician and gynaecologist at Motherhood Hospital in Kharghar, Navi Mumbai