वैलनेस
स्टोर

प्रसव पूर्व दर्द : आपको जानने चाहिए इसके लिए जिम्‍मेदार कारण, संकेत और कुछ जरूरी बातें

Published on:2 March 2021, 14:58pm IST
प्रीटर्म लेबर विभिन्न कारणों से हो सकता है, लेकिन कुछ लक्षण हैं जिनके बारे में आपको जानकारी होना आवश्यक है। एक स्त्री रोग विशेषज्ञ बता रही हैं कि इसे कैसे संभालना है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 83 Likes
प्रीटर्म लेबर के लिए कई कारक जिम्मेदार हो सकते हैं। चित्र-शटरस्टॉक।

डॉ माधुरी बुरेंडा लाहा कहती हैं कि “प्रीटर्म लेबर से अर्ली बर्थ होती है और ऐसे कई कारक हैं जो प्रसव पीड़ा का कारण बन सकते हैं”

प्रीटर्म लेबर वह लेबर है जो एक सप्ताह की गर्भावस्था के 37 सप्ताह से पहले होता है। क्या आप जानती हैं कि जो बच्चे जल्दी पैदा होते हैं, वे जीवन के लिए खतरनाक स्वास्थ्य समस्याओं का सामना कर सकते हैं? इसलिए, प्रीटर्म लेबर के संकेतों और लक्षणों की पहचान करना और तुरंत डॉक्टर से परामर्श करना आवश्यक है।

जानिए गर्भावस्‍था के बारे में 

अधिकांश गर्भधारण 37 सप्ताह तक चलते हैं। लेकिन, कभी-कभी शिशु अपेक्षा से अधिक जल्दी आ सकता है। आपकी गर्भावस्था के 24 वें सप्ताह के बाद प्रीटर्म या समय से पहले प्रसव हो सकता है। इसलिए, यह तब होता है जब गर्भावस्था के दौरान किसी का शरीर जन्म के लिए तैयार होने लगता है। समय से पहले प्रसव होने से बच्चे का जन्म जल्दी होता है। ऐसे कई कारक होते हैं जो प्रसव पीड़ा का कारण बन सकते हैं।

अब जानिये प्रीटर्म लेबर होने के कुछ कारण:

  1. संक्रमण

जननांग पथ में होने वाले संक्रमण जैसे बैक्टीरियल वेजिनोसिस और यौन संचारित रोगों (एसटीडी) के साथ ट्राइकोमोनिएसिस का परिणाम अर्ली बर्थ कर सकता है। इन संक्रमणों से सूजन हो सकती है और यह प्रोस्टाग्लैंडिंस के रिसाव का कारण बन सकता है। ये पदार्थ लेबर की शुरुआत करते हैं, जब आप पूर्ण-अवधि में होती हैं। यहां तक ​​कि मूत्र पथ का संक्रमण (यूटीआई), जब अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो वही प्रभाव पैदा कर सकता है।

  1. धूम्रपान

हम पहले से ही जानते हैं कि सिगरेट स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। लेकिन, कई लोग इस वास्तविकता को नज़रअंदाज़ करते हैं और उन्‍हें इसके परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं। धूम्रपान, शराब का सेवन या यहां तक ​​कि नशीली दवाओं का सेवन भी आपके और आपके बच्चे के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। यह प्रीमैच्योर बर्थ और यहां तक ​​कि शिशु के कम वज़न का कारण बनता है। इसलिए, सिगरेट छोड़ने की जरूरत है।

प्रग्नेंसी के दौरान इन समस्याओं को इग्नोर न करें। चित्र-शटरस्टॉक।
  1. दो गर्भ धारण के बीच बहुत कम समय

यदि आप अपने पहले बच्चे को जन्म देने के 18 महीनों के भीतर दूसरी बार गर्भवती हो जाती हैं, तो पूर्व प्रसव का खतरा बढ़ जाता है। अपने दूसरे बच्चे को जन्म देने से पहले आपको कम से कम 24 महीने तक इंतजार करना होगा और इससे आपको अपनी गर्भावस्था को पूर्ण अवधि तक ले जाने में मदद मिलेगी जो कि 37 सप्ताह तक होती है।

यह भी पढें: इन 5 कारणों से आपके मासिक धर्म चक्र को बाधित कर सकती है यात्रा 

  1. गर्भावस्था के दौरान विभिन्न स्थितियां

आप गर्भावस्था की जटिलताओं का अनुभव कर सकती हैं, जैसे कि गर्भावधि मधुमेह (गर्भावस्था के दौरान निदान), प्रीक्लेम्पसिया (रक्तचाप में अचानक वृद्धि) और प्लेसेंटा की समस्याएं, जो प्रसव पीड़ा का कारण सकती हैं।

यदि आपने पहले बच्‍चे को समय से पहले जन्म दिया है, तो बाद में गर्भधारण के दौरान इसके दोबारा होने की संभावना अधिक होती है।

गर्भावस्था के दौरान ज्यादा या कम वज़न होना, जुड़वां बच्चे होना, अच्छी देखभाल की कमी, जन्म दोष वाले बच्चे के साथ गर्भवती होना या प्रीटर्म लेबर पहले से होना। 

यदि आपको ये लक्षण हैं  तो आपको समय से पहले प्रसव का खतरा हो सकता है:

  • वेजाइनल डिस्चार्ज 
  • सिर दर्द
  • ऐंठन
  • पीठ दर्द
  • श्रोणि और योनि में दबाव
  • घबराहट 
  • उल्टी
  • दस्त

योनि से बार-बार खून आने की शिकायत होने पर आपको तुरत अल्ट्रासाउंड या पेल्विस एग्जामिनेशन करवाना चाहिए। जिससे, कि आप पहले से इस समस्या का इलाज कर सकें।

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को कई तरह की जटिलताओं का सामना करना पड़ता है। चित्र-शटरस्टॉक।

इन बातों का विशेष ध्यान रखें:

एक बार प्रीटर्म लेबर की शुरुआत होने के बाद इसे रोकना मुश्किल हो सकता है। इसलिए किसी भी तरह के संक्रमण से खुद को बचा कर रखें और ढ़ेर सारा पानी पियें। साथ ही, वेजाइनल हायजीन का ख़ास ख्‍याल रखें। 

यदि आप संक्रमण के किसी भी लक्षण को देखती हैं, तो तुरंत अस्पताल या चिकित्सक को रिपोर्ट करें। क्योंकि इससे प्रीक्लेम्पसिया या एक्लम्पसिया जीडीएम, आईयूजीआर, जुड़वां या एकाधिक गर्भधारण करने का जोखिम बढ़ सकता है। इन जटिलताओं को रोकने की कोशिश करें। यदि ये जटिलताएं उत्पन्न होती हैं, तो आपका डॉक्टर समय से पहले प्रसव को रोकने का उचित प्रयास कर सकता है।

यह भी पढें: क्‍या पीसीओएस से निपटने में मदद कर सकते हैं सप्‍लीमेंट्स? जानिए क्‍या है इस पर विशेषज्ञों की राय

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।