Dust Mite Allergy : दिवाली की सफाई के दौरान मुसीबत न बन जाए डस्‍ट एलर्जी, इन बातों का रखें ध्‍यान

डस्ट एलर्जी यानी धूल से एलर्जी जानलेवा नहीं होती, लेकिन बहुत परेशान करती है। हम बताते हैं अपनी एलर्जी को दूर रखते हुए कैसे करनी है घर की सफाई।
अगर आप डस्‍ट एलर्जिक हैं तो घर की सफाई के दौरान इन बातों का रखें ध्‍यान। चित्र- शटरस्टॉक।
विदुषी शुक्‍ला Updated: 10 Dec 2020, 12:12 pm IST
  • 82

दिवाली में बस कुछ ही दिन और बचे हैं और हर ओर जोरों शोरों से त्योहार की तैयारी चल रही है। पकवान बनने, लाइट्स लगने के साथ ही दिवाली पर मुख्य काम होता है- घर की सफाई। त्योहार से पहले पूरे घर की साफ सफाई करना न सिर्फ शुभ माना जाता है, बल्कि सेहत के लिए फायदेमंद ही है।

लेकिन अगर आपको धूल से एलर्जी है, तो दिवाली की सफाई आपके लिए बड़ा सिरदर्द बन सकती है।

क्या होती है डस्ट एलर्जी?

डस्ट एलर्जी असल में धूल से एलर्जी नही होती, बल्कि धूल में मौजूद कीड़ों से एलर्जी होती है। डस्ट माइट्स (Dust Mite Allergy) नामक छोटे-छोटे कीड़े आपके घर में रहते हैं। आपके सोफे, कारपेट, पायदान और बाथरूम इन कीड़ों की पसंदीदा स्पॉट होते हैं।

डस्ट माइट्स गर्म और नमी वाली जगहों पर पनपते हैं। भारत का मौसम ऐसा है जहां माइट्स आसानी से बढ़ते रहते हैं। यूं तो ये माइट्स बहुत समय नहीं जीते हैं, लेकिन इनकी मरी हुई बॉडी भी एलर्जी पैदा करने के लिए काफी है।

धूल के साथ ये माइट्स आपकी नाक में चले जाते हैं। शरीर में पहुंचकर इनके विरुद्ध हिस्टामिन बनने लगती है। इससे नाक में इंफ्लामेशन यानी सूजन आ जाती है।

यह हैं डस्ट एलर्जी के लक्षण-

एलर्जी के लक्षण। चित्र: शटरस्‍टॉक

धूल के सम्पर्क में आते ही अगर आपको ये लक्षण नजर आते हैं तो आप डस्ट माइट्स से एलर्जिक हैं।
·नाक बहना या ब्लॉक हो जाना
·आंखों से पानी आना
·लगातार छींक आना
·आंखों में खुजली और लालामी
·नाक और गले में खुजली और उलझन

डस्ट एलर्जी है तो सफाई के दौरान इन बातों का जरूर रखें ध्‍यान

1. कभी भी अकेले सफाई न करें

चाहें आप जॉइंट फैमिली में रहती हों, सिर्फ पार्टनर के साथ रहती हों या अकेली रहती हों, खुद से सफाई करना सही आइडिया नहीं है। किसी दोस्त या परिवार जन की मदद लें। इससे आपका काम कम होगा और आपकी एलर्जी गम्भीर होने पर वे तुरंत आपकी मदद कर सकेंगे।

दिवाली पर घर की सफाई करनी है, लेकिन डस्ट एलर्जी से परेशान हैं? चित्र: शटरस्‍टॉक

2. डस्टिंग के लिए सूखा कपड़ा ना इस्तेमाल करें

सोफा, पर्दे इत्यादि साफ करते वक्त सूखे कपड़े को ना इस्तेमाल करें। इससे सामान पर जमा धूल हवा में उड़ेगी और आपकी एलर्जी और बढ़ जाएगी। कोई भी सतह जैसे मेज, खिड़की, शेल्फ इत्यादि साफ करने के लिए गीले कपड़े का इस्तेमाल करें। गीले कपड़े में धूल चिपक जाएगी और हवा में नहीं उड़ेगी। सोफे, कुशन इत्यादि साफ करने के लिए वैक्यूम क्लीनर का इस्तेमाल करें।

3. मास्क पहन कर ही सफाई करें

झाड़ू लगाते वक्त इस बात का खास ख्याल रखें, आप धूल के सम्पर्क में ना आये। अपने मास्क का प्रयोग करें या दुपट्टा बांध लें। इससे डस्ट माइट्स आपके शरीर में प्रवेश नहीं कर पाएंगे।
सिर्फ सफाई के दौरान ही नहीं, सफाई करने के कम से कम एक घण्टे बाद तक मास्क पहने रहें क्योंकि धूल घर के वातावरण में रह सकती है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

4. चादरों को गर्म पानी में धोएं

गर्म तापमान में डस्ट माइट्स खत्म हो जाते हैं,इसलिए बेडशीट, पर्दे इत्यादि गर्म पानी में ही धोएं। अपनी बेडशीट को हर हफ्ते बदलने की आदत बना लें। इससे आपको सफाई के दौरान एक्स्ट्रा मेहनत नहीं करनी पड़ेगी।

बेडशीट, पर्दे इत्यादि गर्म पानी में ही धोएं। चित्र- शटरस्टॉक।

5. कारपेट और पायदान का इस्तेमाल करने से बचें

कारपेट और पायदान डस्ट माइट्स के पनपने के लिए सबसे आसान जगह हैं। इसलिए अगर आपको एलर्जी है तो घर में कारपेट का इस्तेमाल ना करें। इसके साथ ही सॉफ्ट टॉयज को भी बाहर रखने के बजाय अंदर रखा करें। इससे आप अपनी एलर्जी के लक्षणों को कंट्रोल कर सकती हैं।

अगर आपकी एलर्जी बहुत गम्भीर है, तो खुद सफाई ना करें। आज के समय में बहुत से ऐप्स हैं जो आपके घर की साफ सफाई कर सकते हैं। मदद ले लेना बेहतर उपाय है।

एन्टी हिस्टामिन दवा साथ ही रखें, ताकि रिएक्शन होते ही उसे नियंत्रित किया जा सके।
इन बातों का ख्याल रखेंगी तो त्योहार से पहले घर की साफ सफाई में कोई समस्या नहीं आएगी।

  • 82
लेखक के बारे में

पहला प्‍यार प्रकृति और दूसरा मिठास। संबंधों में मिठास हो तो वे और सुंदर होते हैं। डायबिटीज और तनाव दोनों पास नहीं आते। ...और पढ़ें

अगला लेख